"एक्ट ऑफ गॉड' या 'एक्ट ऑफ फ्रॉड"; मोरबी घटना पर जदयू नेता का पीएम मोदी से सवाल

जदयू नेता ललन सिंह ने ट्वीटर पर लिखा कि गुजरात में चुनाव है, 2001 से CM रहे भाजपा नेता मोदी जी 2014 से देश के मा. PM हैं. मोरबी की दुर्घटना से सभी भारतवासियों का मन व्यथित है, लेकिन आदरणीय मोदी जी बताएं कि WB में यह एक्ट ऑफ़ गॉड नहीं बल्कि एक्ट ऑफ़ फ्रॉड था तो गुजरात में क्या है? अब भी वोट मांगिएगा क्या?

मोरबी में केबल ब्रिज टूटने की वजह से सौ से ज्यादा लोगों की मौत हो गई.

नई दिल्ली:

गुजरात के मोरबी में पुल गिरने की घटना के बाद से विपक्ष सरकार पर हमलावर है. पीड़ित परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त करते हुए विपक्ष पहले ही गुजरात सरकार पर "लापरवाही" का आरोप लगा चुका है. इस बीच जदयू नेता ललन सिंह ने एक वीडियो पुराना वीडियो शेयर करते हुए पीएम मोदी से सवाल पूछा कि ये क्या यह 'एक्ट ऑफ गॉड' है या 'एक्ट ऑफ फ्रॉड'? ललन सिंह ने ट्वीटर पर लिखा कि गुजरात में चुनाव है, 2001 से CM रहे भाजपा नेता मोदी जी 2014 से देश के मा. PM हैं. मोरबी की दुर्घटना से सभी भारतवासियों का मन व्यथित है, लेकिन आदरणीय मोदी जी बताएं कि पश्चिम बंगाल में यह एक्ट ऑफ़ गॉड नहीं बल्कि एक्ट ऑफ़ फ्रॉड था तो गुजरात में क्या है? अब भी वोट मांगिएगा क्या?

गुजरात के मोरबी में माच्छु नदी पर बना केबल ब्रिज लोगों की भारी भीड़ के कारण टूट गया. ये पुल सात महीने से रेनोवेशन के लिए बंद था. 25 अक्टूबर को इसे मरम्मत के बाद खोला गया था. मोरबी का यह ऐतिहासिक पुल शहर की नगर पालिका के अधिकार में था. नगर पालिका ने इसकी मरम्मत की जिम्मेदारी अजंता ओरेवा ग्रुप ऑफ कंपनीज को सौंपी थी. ओरेवा कंपनी से अगले 15 साल यानी 2037 तक के लिए पुल की मरम्मत, रख-रखाव और ऑपरेशन का समझौता किया गया था. इससे पहले पीएम नरेंद्र मोदी गुजरात के बनासकांठा जिले के थराड में पानी की आपूर्ति की कई परियोजनाओं की आधारशिला रखते हुए भावुक हो गए. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

VIDEO: दिल्‍ली में प्रदूषण का स्‍तर बढ़ा, आम हुई आंखों में जलन और खराश की शिकायतें