'किसान आंदोलन में 100 से ज्यादा युवा लापता, आपने एनकाउंटर करा दिया क्या?' संजय राउत ने संसद में पूछा

संजय राउत ने कहा, "पिछले दो महीने से ज्यादा समय से दिल्ली के बॉर्डर पर किसान जमे हैं, उनकी बात आप नहीं सुनते, उन्हें गद्दार कहते हैं. जो कील, लोहे की दीवार, यहां बॉर्डर पर लगा रहे हैं, यदि वह लद्दाख में चीन के बॉर्डर पर लगाते तो चीन इतनी सीमा के अंदर नहीं घुस पाता."

'किसान आंदोलन में 100 से ज्यादा युवा लापता, आपने एनकाउंटर करा दिया क्या?' संजय राउत ने संसद में पूछा

शिव सेना सांसद संजय राउत ने किसान आंदोलन पर केंद्र सरकार को कठघरे में खड़ा किया है.

खास बातें

  • शिव सेना सांसद संजय राउत बोले- सरकार किसान आंदोलन को बदनाम कर रही
  • पूछा- तिरंगे का अपमान करनेवाला दीप सिद्धू किसका आदमी है? क्यों नहीं पकड़ा
  • पूछा- 100 से ज्यादा युवा लापता हैं, क्या पुलिस ने इनका एनकाउंटर कर दिया?
नई दिल्ली:

शिव सेना (Shiv Sena) सांसद संजय राउत (Sanjay Raut) ने राज्यसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर चर्चा के दौरान केंद्र सरकार पर भड़ास निकाली और कहा कि जिस तरह किसान आंदोलन को बदनाम करने की कोशिश हो रही है, वह देश की प्रतिष्ठा के लिए ठीक नहीं है. उन्होंने कहा कि लाल किले पर तिरंगे का अपमान हुआ उससे पीएम दुखी हैं. देश भी दुखी है लेकिन तिरंगे का अपमान करने वाला दीप सिद्धू किसका आदमी है? उन्होंने पूछा कि सरकार क्यों नहीं ये बात बता रही है. राउत ने कहा कि अभी तक आपने दीप सिद्धू क्यों नहीं पकड़ा? 

राउत ने सरकार पर आरोप लगाया कि आपने 200 किसानों को तिहाड़ जेल में देशद्रोह के आरोप में बंद कर दिया है. उन्होंने कहा कि 100 से ज्यादा युवा लापता हैं, क्या पुलिस ने इनका एनकाउंटर कर दिया? कुछ पता नहीं चल रहा है? क्या ये सभी सब देशद्रोही हैं? उन्होंने तीखे अंदाज में कहा, "बहुमत अहंकार से नहीं चलता है."

सिख अंग्रेजों से लड़े तो देशभक्त, कोरोना काल में लंगर लगाने पर देशप्रेमी और हक के लिए लड़े तो देशद्रोही हो गए: शिवसेना

संजय राउत ने कहा, "पिछले दो महीने से ज्यादा समय से दिल्ली के बॉर्डर पर किसान जमे हैं, उनकी बात आप नहीं सुनते, उन्हें गद्दार कहते हैं. जो कील, लोहे की दीवार, यहां बॉर्डर पर लगा रहे हैं, यदि वह लद्दाख में चीन के बॉर्डर पर लगाते तो चीन इतनी सीमा के अंदर नहीं घुस पाता." उन्होंने पूछा कि आज किसान अपने हक के लिए लड़ रहा तो वह खालिस्तानी हो गया, देशद्रोही हो गया, यह कौन सा न्याय है?

बहुजन समाज पार्टी के सतीश चंद्र मिश्रा ने चर्चा के दौरान कहा कि सदन के भीतर जिस कानून को आप किसानों के हक की बात बता रहे हैं उनके भले की बात बता रहे हैं, किसान को वो नहीं चाहिए. इसलिए सरकार तीनों कृषि कानून को तुरंत वापस ले.

'सात वर्षों के 'मोदी राज' में जनता बेजार हुई, अन्ना ने तो करवट भी नहीं बदली', सामना में शिवसेना का तंज


एनसीपी नेता प्रफुल्ल पटेल ने भी राज्यसभा में कहा कि जिस समय सरकार तीनों कृषि कानून लेकर आई थी, तभी हम ने इस बात की मांग की थी कि इस कानून को सेलेक्ट कमेटी में भेजा जाए. आज यह कानून सेलेक्ट कमिटी में गया हुआ होता तो जो कुछ दिल्ली के बॉर्डर पर हो रहा है, वह आज नहीं होता.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


प्रफुल्ल पटेल ने कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, ज्योतिरादित्य सिंधिया और दूसरे बीजेपी नेताओं का नाम लेते हुए कहा कि यह लोग लगातार शरद पवार जी द्वारा राज्यों को पत्र लिखे जाने का जिक्र कर रहे हैं लेकिन मैं आज यह स्पष्ट कर देना चाहता हूं कि यह ड्राफ्ट बिल था, जिस पर चर्चा करने के लिए राज्यों को लिखा गया था. इस पर चर्चा होती लेकिन यह बिल कभी भी संसद में नहीं आया. यह पत्र उछाल कर गलत तरीके से बताया जा रहा है कि यूपीए सरकार में शरद पवार इस कानून को लाना चाह रहे थे, जो सरकार अभी लेकर आई है.