राज्यसभा में सवाल- 'सीता और रावण के देशों में पेट्रोल सस्ता तो राम के देश भारत में महंगा क्यों'?

पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने बुधवार को तेल के दामों पर बढ़ रहे सवालों पर राज्यसभा में जवाब देते हुए कहा कि 'ऐसा कहना ठीक नहीं है कि फ्यूल अपने ऑल-टाइम हाई पर चल रहा है.' उन्होंने पड़ोसी देशों से हो रही तुलना पर भी जवाब दिया.

राज्यसभा में सवाल- 'सीता और रावण के देशों में पेट्रोल सस्ता तो राम के देश भारत में महंगा क्यों'?

Fuel Price Issue in Rajya Sabha : राज्यसभा में उठा पेट्रोल-डीजल का मुद्दा.

नई दिल्ली:

देश में पिछले दो महीनों में लगातार कुछ-कुछ अंतराल में ईधन तेलों के दामों में लगातार वृद्धि हुई है. पेट्रोल-डीजल के दामों में इतनी बढ़ोतरी हुई है कि 10 फरवरी, 2021 की तारीख में पेट्रोल-डीजल हाल के वक्त अपने अपने ऑल-टाइम हाई रिकॉर्ड पर बिक रहा है. हालांकि, पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने बुधवार को तेल के दामों पर बढ़ रहे सवालों पर जवाब देते हुए कहा कि 'ऐसा कहना ठीक नहीं है कि फ्यूल अपने ऑल-टाइम हाई पर चल रहा है.' उन्होंने पड़ोसी देशों से हो रही तुलना पर भी जवाब दिया.

दरअसल, समाजवादी पार्टी के सांसद विशंभर प्रसाद निषाद ने पेट्रोलियम मंत्री से राज्यसभा में पूछा कि 'सीता माता की धरती नेपाल में पेट्रोल डीजल भारत से सस्ता है. रावण के देश श्रीलंका में भारत से कम कीमत है. तो क्या राम के देश में सरकार पेट्रोल-डीजल के दाम कम करेगी?'

इस पर पेट्रोलियम मंत्री ने जवाब दिया, 'इन देशों के साथ भारत की तुलना करना गलत है क्योंकि वहां समाज के कुछ लोग इसका उपयोग करते हैं. केरोसिन की कीमत में भारत और इन देशों में काफी अंतर है. बांग्लादेश नेपाल में केरोसिन लगभग ₹57 से ₹59 में मिलता है जबकि भारत में केरोसिन की कीमत ₹32 प्रति लीटर है.'


उन्होंने तेल के दामों को ऑल-टाइम हाई बताए जाने को 'असंगत' बताया. प्रश्नकाल में उनसे कांग्रेस के सांसद केसी वेणुगोपाल ने पूछा कि 'देश में पेट्रोल-डीजल की की कीमतें ऑल-टाइम हाई हैं, लेकिन क्रूड के दाम ऑल-टाइम हाई नहीं है. मेरे देश में पेट्रोल 100 रुपए के करीब पहुंच रहा है. एक्साइ़ज़ ड्यूटी को कितनी बार बढ़ाया गया है?'इसपर प्रधान ने जवाब दिया, 'आज इंटरनेशनल क्रूड ऑयल का प्राइस 61 डॉलर चल रहा है. आज हमें टैक्स के मसले बहुत ध्यान से हैंडल करने पड़ते हैं.'

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


उन्होंने बताया कि 'पिछले 300 दिनों के अंदर 60 दिन ऐसे हैं, जब कीमतें बढ़ाई गई थीं, पेट्रोल की कीमतें 7 दिन घटाई गईं, वहीं डीजल के दाम 21 दिन घटाए गए. लगभग 250 दिन ऐसे हैं, जब कीमतों में कोई बदलाव नहीं किया गया. यह कहकर कैंपेन करना कि पेट्रोल-़डीजल के दाम ऑल-टाइम हाई हैं, असंगत है.'