NRC वाले बयान पर विपक्ष ने PM मोदी को घेरा, कहा- अपने ही गृह मंत्री को गलत साबित कर रहे हैं 

दिल्ली के रामलीला मैदान में आयोजित रैली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा एनआरसी को लेकर दिये गए बयान पर विपक्ष ने पलटवार किया है.

NRC वाले बयान पर विपक्ष ने PM मोदी को घेरा, कहा- अपने ही गृह मंत्री को गलत साबित कर रहे हैं 

पीएम नरेंद्र मोदी.

खास बातें

  • NRC वाले बयान पर विपक्ष ने पीएम मोदी को घेरा
  • कहा, अपने ही गृह मंत्री को गलत साबित कर रहे पीएम
  • कांग्रेस ने एकता परिषद की बैठक बुलाने की मांग की
नई दिल्ली :

दिल्ली के रामलीला मैदान में आयोजित रैली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा एनआरसी को लेकर दिये गए बयान पर विपक्ष ने पलटवार किया है. दरअसल, पीएम मोदी ने कहा कि इस विवादास्पद मुद्दे (एनआरसी) पर न तो उनकी सरकार ने, ना ही कैबिनेट या संसद ने चर्चा की है. उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद एनआरसी अब तक सिर्फ असम में कराया गया है. प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि एनआरसी के बारे में झूठ फैलाया जा रहा है. पीएम मोदी के इस बयान पर कांग्रेस और पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने उन्हें कटघरे में खड़ा किया है औऱ कहा कि वे अपने ही गृह मंत्री के बयान को गलत साबित कर रहे हैं, जिन्होंने तमाम फोरम, यहां तक कि संसद में भी एनआरसी के बारे में बोला है.   

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने रविवार को दावा किया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एनआरसी के प्रस्तावित राष्ट्रव्यापी क्रियान्वयन पर सार्वजनिक रूप से गृहमंत्री के रुख से विपरीत बयान दिया है. बनर्जी ने कहा कि नागरिकता संशोधन अधिनियम और एनआरसी पर उनकी और मोदी की टिप्पणियां सभी के सामने हैं और लोग तय करेंगे कि कौन सही है और कौन गलत. उन्होंने ट्वीट किया , ‘मैंने जो कुछ कहा है, वह सभी के सामने है और आपने जो कुछ कहा है, वह भी सभी सामने है, लोगों को इस पर फैसला करने दीजिए. प्रधानमंत्री राष्ट्रव्यापी एनआरसी पर सार्वजनिक रूप से गृहमंत्री से भिन्न बयान दे रहे हैं, ऐसे में कौन भारत के मूल विचार को तोड़ रहा है? निश्चित ही लोग फैसला करेंगे कि कौन सही है कौन गलत.' 


tn59fdg8पीएम मोदी ने दिल्ली के रामलीला मैदान में जनसभा को संबोधित किया.  

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


उधर, कांग्रेस ने राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) को लेकर 'अनिश्चितता की स्थिति' के लिए गृह मंत्री अमित शाह के बयानों को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि एनआरसी एवं नागरिकता संशोधन कानून के संदर्भ में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को राष्ट्रीय एकता परिषद की बैठक बुलानी चाहिए. पार्टी के वरिष्ठ प्रवक्ता आनंद शर्मा ने कहा, 'सरकार ने जल्दबाजी में असुरक्षा और अनिश्चितता का वातावरण पैदा किया है. हमने संसद के अंदर सरकार को चेताया था कि आम सहमति बनाई जाए. हमने कहा था कि इसमें कई त्रुटियां और संविधान से इसका टकराव है.' उन्होंने दावा किया, 'गृह मंत्री ने दोनों सदनों में कहा कि वो पूरे देश मे एनआरसी ला रहे हैं. इससे यह स्थिति पैदा हुई.' शर्मा ने कहा, 'नागरिकता संशोधन कानून से जुड़ा मामला उच्चतम न्यायालय में लंबित है. इसलिए इंतजार करना चाहिए. इसे लागू नहीं करना चहिये.' (इनपुट- भाषा से भी)