पूर्व पीएम चंद्रशेखर के बेटे नीरज शेखर ने राज्यसभा की सदस्यता से दिया इस्तीफ़ा, सपा का साथ भी छोड़ा

समाजवादी पार्टी के राज्यसभा सांसद और पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर के बेटे नीरज शेखर ने राज्यसभा की सदस्यता से इस्तीफ़ा दे दिया है. उन्होंने समाजवादी पार्टी से भी इस्‍तीफा दे दिया है. 

पूर्व पीएम चंद्रशेखर के बेटे नीरज शेखर ने राज्यसभा की सदस्यता से दिया इस्तीफ़ा, सपा का साथ भी छोड़ा

नीरज शेखर (फाइल फोटो)

खास बातें

  • पूर्व पीएम चंद्रशेखर के बेटे हैं नीरज शेखर
  • राज्यसभा की सदस्यता से दिया इस्तीफा
  • समाजवादी पार्टी भी छोड़ी
नई दिल्ली :

समाजवादी पार्टी के राज्यसभा सांसद और पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर के बेटे नीरज शेखर (Neeraj Shekhar) ने राज्यसभा की सदस्यता से इस्तीफ़ा दे दिया है. उन्होंने समाजवादी पार्टी से भी इस्‍तीफा दे दिया है.  सूत्रों ने यह जानकारी दी है. बताया जा रहा है कि नीरज शेखर (Neeraj Shekhar) जल्द ही बीजेपी में शामिल होंगे. नीरज शेखर का राज्यसभा कार्यकाल नवंबर 2020 तक था. कहा जा रहा है नीरज शेखर को बीजेपी 2020 में यूपी से राज्यसभा में भेज सकती है. बताया जा रहा है कि पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर पर लिखी राज्य सभा के उपसभापति हरिवंश की पुस्तक “चंद्रशेखर- द लास्ट आइकन ऑफ आइडियोलॉजिकल पॉलिटिक्स” का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विमोचन करेंगे. इससे पहले उनके बेटे नीरज शेखर बीजेपी में शामिल हो जाएंगे. आपको बता दें कि इस बार लोकसभा चुनाव में नीरज शेखर ने सपा से अपनी  परम्परागत सीट बालिया से टिकट की मांग की थी. हालांकि समाजवादी पार्टी ने उन्हें टिकट नहीं दिया था. 

आखिर क्यों इस बार महज तीन दिन ही संसद जा पाए हैं सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव, पढ़िए क्या है इसकी वजह...


इसके बाद नीरज शेखर कथित तौर पर अखिलेश यादव और पार्टी नेतृत्व से नाराज़ चल रहे थे. बता दें कि पिता चंद्रशेखर की मौत के बाद नीरज शेखर ने पहली बार चुनाव लड़ा था. साल 2007 में वे बलिया की सीट से चुनाव जीत कर संसद में पहुंचे थे. उन्होंने इस उपचुनाव में करीब तीन लाख वोटों से जीत हासिल की थी. इसके बाद 2009 के आम चुनावों में भी उन्होंने इस सीट पर अपना कब्जा बरकरार रखा था. हालांकि साल 2014 में बीजेपी प्रत्याशी भरत सिंह ने नीरज शेखर को इस सीट से चुनाव में मात दे दी थी. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: "चंद्रशेखर के परिवार से किसी का न लड़ना बलिया का अपमान