चक्‍काजाम: दिल्‍ली पुलिस का DMRC को लेटर, 'जरूरत पड़ी तो शॉर्ट नोटिस पर ये 12 मेट्रो स्‍टेशन बंद करने के लिए रहें तैयार..'

दिल्ली, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड को छोड़कर किसान कल यानी 6 फरवरी को बाकी समूचे देश में राजमार्गों पर चक्काजाम करेंगे.

चक्‍काजाम: दिल्‍ली पुलिस का DMRC को लेटर, 'जरूरत पड़ी तो शॉर्ट नोटिस पर ये 12 मेट्रो स्‍टेशन बंद करने के लिए रहें तैयार..'

दिल्‍ली पुलिस ने DMRC को जरूरत पड़ने पर 12 मेट्रो स्‍टेशन बंद करने के लिए तैयार रहने को कहा (प्रतीकात्‍मक फोटो)

नई दिल्ली:

Kisan Aandolan: कृषि कानूनों (Farm laws) को लेकर किसान कल यानी 6 फरवरी को चक्‍काजाम (Chakka Jam)करेंगे. हालांकि देश की राजधानी दिल्‍ली, यूपी और उत्‍तराखंड को चक्‍काजाम से मुक्‍त रखा गया है लेकिन गणतंत्र दिवस पर ट्रैक्‍टर परेड के दौरान हुई हिंसा के बाद पुलिस कोई भी जोखिम नहीं उठाना चाहती है. यही कारण है कि डीसीपी नई दिल्ली ने दिल्‍ली मेट्रो रेल कारपोरेशन (DMRC) को लेटर लिखकर जरूरत पड़ने पर शार्ट नोटिस पर 12 मेट्रो स्टेशन को बंद करने के लिए तैयार रहने को कहा है. किसानों के चक्काजाम को लेकर दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने पुख्ता इंतजाम किए हैं.

Farmer's Protest: चक्‍काजाम के दौरान 'क्‍या करें और क्‍या नहीं', किसान मोर्चा ने जारी किए  दिशानिर्देश..

दिल्ली पुलिस ने मेट्रो अधिकारी को लिखे लेटर में कहा गया है कि नई दिल्ली इलाके के 12 मेट्रो स्टेशन (12 metro Stations)को यदि कल शार्ट नोटिस पर बंद करने को अगर बोला जाए तो इसके लिए तैयार रहें. डीसीपी ने कहा है कि कानून व्‍यवस्‍था की परिस्थितियों को देखते हुए और क्राउड कंट्रोल करने के लिए ऐसा कहा जा सकता है.ये मेट्रो स्‍टेशन हैं- राजीव चौक, पटेल चौक, केंद्रीय सचिवालय, उद्योग भवन, लोक कल्याण मार्ग, जनपथ, मंडी हाउस, RK आश्रम,  सुप्रीम कोर्ट, खान मार्केट और शिवाजी स्टेडियम(एयरपोर्ट एक्सप्रेस लाइन).ये सभी मेट्रो स्टेशन नई दिल्ली इलाके में आते हैं.

किसान आंदोलन: कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर बोले, किसान संगठनों के साथ चर्चा को हरदम तैयार

गौरतलब है कि दिल्ली, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड को छोड़कर किसान बाकी समूचे देश में राजमार्गों पर चक्काजाम करेंगे. संयुक्‍त किसान मोर्चा की विज्ञप्ति के अनुसार, किसान दिल्ली में चक्काजाम नहीं कर रहे हैं लेकिन वे सभी बार्डरों पर शांतिपूर्ण तरह से बैठे रहेंगे. इसके अलावा पूरे देश में राष्ट्रीय और राज्य हाईवे बंद किए जाएंगे. देशभर में राष्ट्रीय और राज्य राजमार्गों को दोपहर 12 बजे से 3 बजे तक जाम किया जाएगा लेकिन इस दौरान इमरजेंसी और आवश्यक सेवाओं जैसे एम्बुलेंस, स्कूल बस आदि को नहीं रोका जाएगा. चक्का जाम पूरी तरह से शांतिपूर्ण और अहिंसक रहेगा. प्रदर्शनकारियों को निर्देश दिए गए हैं कि वे इस कार्यक्रम के दौरान किसी भी अधिकारी, कर्मचारी या आम नागरिक के साथ किसी भी तरह के टकराव में शामिल न हो. दिल्ली की सीमा के अंदर कोई चक्का जाम प्रोग्राम नहीं होगा क्योंकि सभी विरोध स्थल पहले से ही 'चक्काजाम मोड' में हैं.दिल्ली में प्रवेश की सभी सड़कें खुली रहेंगी, सिवाय उनके, जहां पहले से ही किसानों के पक्के मोर्चे लगे हुए हैं. दोपहर 3 बजे एक मिनट तक हॉर्न बजाकर, किसानों की एकता का संकेत देते हुए चक्काजाम कार्यक्रम संपन्न होगा.


दिल्ली को छोड़कर पूरे देश में चक्का जाम : किसान नेता

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com