जदयू ने लव जिहाद पर गिरिराज सिंह के बयान से किया किनारा, भाजपा नेता ने बिहार में कानून बनाने की मांग की थी

JDU नेता वशिष्ठ नारायण सिंह गिरिराज सिंह की मांगों से सहमत नहीं दिखे. उन्होंने कहा कि ऐसे बयानों का उनकी पार्टी संज्ञान भी नहीं लेती. भविष्य में भी विवादास्पद मुद्दों पर पार्टी भाजपा से अलग रहना चाहती है.

जदयू ने लव जिहाद पर गिरिराज सिंह के बयान से किया किनारा, भाजपा नेता ने बिहार में कानून बनाने की मांग की थी

BJP लव जिहाद पर यूपी, कर्नाटक, एमपी और हरियाणा में कानून लाने की तैयारी कर रही है.(प्रतीकात्मक)

पटना:

बिहार में सत्तारूढ़ जदयू (JDU) ने लव जिहाद (Love Jihad) पर भाजपा नेता और सांसद गिरिराज सिंह के बयान से किनारा कर लिया है. BJP नेता गिरिराज सिंह ने बिहार में लव जिहाद पर कानून बनाने की मांग की थी. गिरिराज सिंह (Giri Raj Singh) के बयान पर जनता दल यूनाइटेड ने शनिवार को मीडिया से कहा कि ऐसे बयान पर आप लोग चर्चा मत करिए.

यह भी पढ़ें- यूपी में "लव जिहाद" पर कठोर कानून लाने की तैयारी, गृह विभाग ने कानून मंत्रालय को भेजा मसौदा

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा कि बिहार सरकार को भी मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) की तरह क़ानून लाना चाहिए. जदयू की बिहार इकाई के अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने दो टूक कहा कि ऐसे बयानो पर आप लोग चर्चा मत करिए, कभी ऐसा बयान आता है तो इसका ये मतलब नहीं कि आप इसे सुर्खियां बना दें.

यह भी पढ़ें- मध्य प्रदेश : गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा का बड़ा बयान, अगले सत्र में लव जिहाद को लेकर विधेयक लाएंगे


पटना में पार्टी कार्यालय में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में वशिष्ठ नारायण सिंह गिरिराज सिंह की मांगों से सहमत नहीं दिखे. उन्होंने साफ़-साफ़ कहा कि ऐसे बयानों का उनकी पार्टी संज्ञान भी नहीं लेती. जनता दल यूनाइटेड ने गिरिराज सिंह के बयानों से पल्ला झाड़ने के साथ संकेत दिया है कि भविष्य में  भी विवादास्पद मुद्दों पर पार्टी भाजपा से अलग रहना चाहती है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


हालांकि ये कोई पहली बार नहीं है कि जनता दल यूनाइटेड ने केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह के बयानों से किनारा किया है. पार्टी का स्पष्ट मानना है कि केंद्रीय मंत्री रहने के बावजूद गिरिराज सिंह जैसे विवादास्पद बयान देते हैं, उससे बिहार की राजनीति में NDA को आख़िरकार नुक़सान उठाना पड़ता है. गिरिराज सिंह विधानसभा चुनाव में भी अपने संसदीय क्षेत्र में कोई ख़ास एनडीए उम्मीदवारों को जिताने में कामयाब नहीं रहे हैं.