पटियाला में किसानों ने जाह्नवी कपूर की फिल्म ''गुड लक जेरी'' की शूटिंग नहीं होने दी

प्रदर्शनकारी किसानों ने कहा कि एक्ट्रेस जाह्नवी कपूर को उन किसानों के समर्थन में बयान देना चाहिए जो नए कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे हैं

पटियाला में किसानों ने जाह्नवी कपूर की फिल्म ''गुड लक जेरी'' की शूटिंग नहीं होने दी

पंजाब के पटियाला में किसानों ने फिल्म एक्ट्रेस जाह्नवी कपूर की फिल्म की शूटिंग नहीं होने दी (फाइल फोटो).

चंडीगढ़:

पंजाब के पटियाला जिले में फिल्म अभिनेत्री जाह्नवी कपूर (Jahnavi Kapoor) की आगामी फिल्म "गुड लक जेरी" की शूटिंग (Shooting) शनिवार को किसानों (Farmers) के एक समूह ने कुछ देर के लिए बाधित कर दी. किसानों ने अभिनेत्री से तीन कृषि सुधार कानूनों के खिलाफ उनके विरोध के समर्थन में बयान देने की मांग की है. यह दूसरी बार है जब पटियाला में फिल्म की शूटिंग रोकी गई. इससे पहले, इसे फतेहगढ़ साहिब जिले में बाधित किया गया था. शूटिंग शनिवार को पटियाला में पंजाब बाग इलाके के पास हो रही थी.

प्रदर्शनकारी किसानों ने जोर देकर कहा कि अभिनेत्री जाह्नवी कपूर को उन किसानों के समर्थन में बयान देना चाहिए जो नए कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे हैं. एक प्रदर्शनकारी ने कहा, ‘‘हमने उन्हें पहले ही बता दिया था कि वे फिल्म की शूटिंग यहां नहीं होने देंगे. लेकिन उन्होंने फिर भी शूटिंग की. हमने इसे आज फिर से रोक दिया." उन्होंने कहा, “हमें किसी भी व्यक्ति के खिलाफ कोई शिकायत नहीं है. यदि वह (अभिनेत्री) केवल एक बार किसानों के समर्थन में एक बयान दे देती हैं, तो हम शूटिंग करने देंगे.”

एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि शूटिंग को कुछ समय के लिए बाधित कर दिया गया था. उन्होंने कहा कि बाद में इसे बहाल कर दिया गया.

किसान समूह ने जाह्नवी कपूर की फिल्म की शूटिंग रोकी, कुछ देर बाद फिर बहाल


इससे पहले 23 जनवरी को, किसानों के एक समूह ने पटियाला में शूटिंग रोक दी थी. इस महीने की शुरुआत में, फतेहगढ़ साहिब के बस्सी पठान में भी किसानों ने अभिनेत्री से उनके पक्ष में बयान देने की मांग को लेकर फिल्म की शूटिंग कुछ समय के लिए रोक दी थी.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


गौरतलब है कि पंजाब, हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के हजारों किसान कई हफ्तों से दिल्ली की सीमाओं पर डेरा डाले हुए हैं, जो नए कृषि कानूनों को निरस्त करने और फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य पर कानूनी गारंटी की मांग कर रहे हैं.



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)