चीन प्रायोजित हैकरों ने लद्दाख के पास भारतीय बिजली केंद्रों को निशाना बनाया: रिपोर्ट

चीन प्रायोजित हैकरों ने लद्दाख के पास भारतीय बिजली केंद्रों को निशाना बनाया है. निजी खुफिया फर्म रिकॉर्डेड फ्यूचर की एक रिपोर्ट ने बुधवार को इस बात का खुलासा किया है. 

नई दिल्ली :

चीन प्रायोजित हैकरों ने लद्दाख के पास भारतीय बिजली केंद्रों को निशाना बनाया है. निजी खुफिया फर्म रिकॉर्डेड फ्यूचर की एक रिपोर्ट ने बुधवार को इस बात का खुलासा किया है. रिपोर्ट में कहा गया है कि हाल के महीनों में हमने कम से कम सात इंडियन स्टेट लोड डिस्पैच सेंटर (SLDCs) के संभावित नेटवर्क को टारगेट करते हुए घुसपैठ की संभावना देखी. ये सेंटर्स ग्रिड नियंत्रण और बिजली के फैलाव के लिए रियल टाइम ऑपरेशन के लिए जिम्मेदार हैं.

पिछले 18 महीनों में भारत में स्टेट एंड रिजनल लोड डिस्पैच सेंटरों में से एक पर पहले RedEcho ने टारगेट किया. अब हाल ही में TAG-38 इस तरीके की गतिविधि में शामिल है. रिपोर्ट के अनुसार, ये सब भारत के अंदर कुछ चुनिंदा चीन के प्रायोजित हैकरों के लिए लंबे समय के रणनीति का हिस्सा हो सकता है. रिपोर्ट में ये भी कहा गया है कि चीन से जुड़े कुछ ऐसे ग्रुप इस तरीके की हरकत के माध्यम से खुफिया जानकारी जुटाने के अवसरों की तलाश में रहते हैं. 

रिकॉर्डेड फ्यूचर ने कहा कि उन्होंने रिपोर्ट प्रकाशित करने से पहले सरकार को अपनी जानकारी से अवगत करा अलर्ट कर दिया था. खुफिया फर्म के अनुसार, चीनी हमलावर महत्वपूर्ण बुनियादी ढांचा प्रणालियों के बारे में जानकारी इकट्ठा करने की कोशिश कर रहे थे. 

गौरतलब है कि राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल और भारत आए चीन के विदेश मंत्री ने हाल ही में लद्दाख तनाव (Ladakh standoff) और यूक्रेन (Ukraine) विवाद के भूराजनैतिक परिणामों पर चर्चा की. भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर (S Jaishankar) की भी अपने चीनी समकक्ष वांग यी (Wang Yi) से मुलाकात हुई. दोनों देशों के बीच सौहार्दपूर्ण माहौल में बात हुई. कुछ अहम मुद्दों पर चर्चा की गई जिसमें लद्दाख में बाकी बचे इलाकों में डिस्एंगेजमेंट (disengagement) पूरा करने और द्विपक्षीय संबंधों को सामान्य स्वरूप देने के लिए बाकी बचे काम खत्म करने पर जोर दिया गया. 

ये VIDEO भी देखें- चीन में ज़ीरो-कोविड पॉलिसी के बावजूद सामने आए 20,000 नए केस

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com