Share Market : BSE Sensex ने बनाया इतिहास, पहली बार 60,000 के पार

Sensex, Nifty Today : भारतीय घरेलू शेयर बाजार में शुक्रवार यानी 24 सितंबर को नया इतिहास बन गया है. बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज के इंडेक्स Sensex ने आज पहली बार 60,000 के पार का लेवल छू लिया है.

Share Market : BSE Sensex ने बनाया इतिहास, पहली बार 60,000 के पार

शेयर बाजार में आज बना रिकॉर्ड, सेंसेक्स ने छुआ 60,000 का लेवल.

मुंबई:

भारतीय घरेलू शेयर बाजार में शुक्रवार यानी 24 सितंबर को नया इतिहास बन गया है. बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज के इंडेक्स Sensex ने आज पहली बार 60,000 के पार का लेवल छू लिया है. वैश्विक बाजारों में मजबूती के बीच आज यहां इन्फोसिस और रिलायंस इंडस्ट्रीज़ जैसे बड़े शेयरों में तेजी दर्ज हुई है. इस बढ़त से निफ्टी भी अपने रिकॉर्ड हाई 17,900 के ऊपर पहुंच गया. ओपनिंग में सेंसेक्स ने अधिकतम 427 अंकों की उछाल ली और 60,312.51 के रिकॉर्ड हाई पर पहुंचा. वहीं, निफ्टी ने 17,947 का ऑल-टाइम हाई टच किया.

ओपनिंग में सेंसेक्स 325.71 अंकों या 0.54% की तेजी के साथ 60,211.07 के लेवल पर था. वहीं, निफ्टी में 93.30 अंकों या 0.52% की तेजी दर्ज हुई और इंडेक्स 17,916.30 पर दर्ज किया गया. 

निफ्टी पर सबसे ज्यादा तेजी आईटी इंडेक्स में -1 फीसदी- दर्ज की गई. वहीं, टाटा मोटर्स, ONGC, इन्फोसिस, विप्रो और L&T भी अच्छी बढ़त पर थे.


अगर कल की क्लोजिंग पर नजर डालें तो शेयर बाजारों में जोरदार तेजी रही और बीएसई सेंसेक्स 958 अंक उछलकर कल तक के सबसे ऊंचे स्तर पर बंद हुआ. फेडरल रिजर्व के मासिक बांड खरीद कार्यक्रम में कमी लाने के संकेत के बावजूद वैश्विक बाजारों में सकारात्मक रुख के बीच चौतरफा लिवाली से बाजार में तेजी रही. कारोबारियों के अनुसार अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपये में मजबूती से भी कारोबारी धारणा को बल मिला. सेंसेक्स 958.03 अंक यानी 1.63 प्रतिशत के उछाल के साथ 59,885.36 अंक पर बंद हुआ. निफ्टी 276.30 अंक यानी 1.57 प्रतिशत उछलकर रिकार्ड 17,822.95 अंक पर बंद हुआ.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा, ‘वैश्विक स्तर पर मजबूत रुख और रियल्टी, धातु तथा बैंक शेयरों की अगुवाई में तेजड़िये बाजार पर हावी रहे। फेडरल रिजर्व के नवंबर में मासिक बांड खरीद कार्य्रक्रम में कमी लाने की संभावना और प्रक्रिया 2022 के मध्य में समाप्त करने की सूचना के बावजूद वैश्विक बाजारों में रुख कुल मिलाकर सकारात्मक रहा.