अभी बढ़ता रहेगा पेट्रोल-डीजल के दामों का बोझ, जानें फ्यूल प्राइस पर सरकारी अधिकारी ने क्या कहा

Petrol-Diesel Price Hike : एक सरकारी अधिकारी ने कहा कि ब्रेंट क्रूड वायदा 79 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया है एक महीने पहले यह 72 डॉलर से कम था. इस वजह से तेल कंपनियों के मार्जिन पर असर पड़ रहा है और और वे पेट्रोल एवं डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी के रूप में उपभोक्ताओं पर इसका बोझ डालने पर मजबूर हैं.

अभी बढ़ता रहेगा पेट्रोल-डीजल के दामों का बोझ, जानें फ्यूल प्राइस पर सरकारी अधिकारी ने क्या कहा

Petrol-Diesel Price Hike : कच्चे तेल के बढ़ते दामों की वजह से पेट्रोल-डीजल पर असर.

नई दिल्ली:

दुनिया के तीसरे सबसे बड़े तेल आयातक और उपभोक्ता देश भारत के पास मूल्य बढ़ाने से बचने के विकल्प नहीं हैं और अंतरराष्ट्रीय कीमतों में लगातार हो रही बढ़ोतरी के कारण तेल कंपनियां (Oil Marketing Companies) उपभोक्ताओं पर इसका बोझ डालने को मजबूर हैं. अधिकारियों ने सोमवार को यह जानकारी दी. भारत अपनी कच्चे तेल की जरूरत का 85 फीसदी और प्राकृतिक गैस की जरूरत का करीब आधा आयात करता है. जहां आयातित कच्चे तेल को पेट्रोल और डीजल जैसे ईंधन में बदल दिया जाता है, गैस का उपयोग वाहनों में सीएनजी और कारखानों में ईंधन के रूप में किया जाता है.

मूल्य वृद्धि से जुड़े फैसले में शामिल एक सरकारी अधिकारी ने कहा, 'अंतरराष्ट्रीय कच्चे तेल की कीमतें ऊंची बनी हुई हैं, जिससे भारत जैसे प्रमुख तेल आयातकों को कोई राहत नहीं मिली है. (अंतर्राष्ट्रीय बेंचमार्क) ब्रेंट क्रूड वायदा आज 79 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया. एक महीने पहले यह 72 डॉलर से कम था.' इस उछाल की वजह से तेल कंपनियों के मार्जिन पर असर पड़ रहा है और और वे पेट्रोल एवं डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी के रूप में उपभोक्ताओं पर इसका बोझ डालने पर मजबूर हैं.

ये भी पढ़ें : 2018 के लेवल पर क्रूड ऑयल के दाम, लेकिन पेट्रोल 20 तो डीजल 17 रुपये हो गया महंगा, समझें- गणित

अधिकारी ने कहा, 'जुलाई और अगस्त के दौरान अंतरराष्ट्रीय कच्चे तेल की कीमतें बढ़ने के साथ, तेल विपणन कंपनियों (ओएमसी) ने 18 जुलाई से 23 सितंबर तक कोई मूल्य वृद्धि नहीं की थी. इसके उलट पेट्रोल पर 0.65 रुपये प्रति लीटर और डीजल पर 1.25 रुपये की कुल कमी हुई थी.' उन्होंने कहा, 'हालांकि, अंतरराष्ट्रीय कीमतों में वृद्धि से कोई राहत नहीं मिलने के कारण तेल विपणन कंपनियों ने पेट्रोल और डीजल के खुदरा बिक्री मूल्य में क्रमश: 28 सितंबर और 24 सितंबर से बढ़ोतरी शुरू कर दी.'

एक दूसरे अधिकारी ने कहा, 'जब तक अंतरराष्ट्रीय कीमतों में नरमी नहीं आती, तेल कंपनियों के पास उपभोक्ताओं पर वृद्धि का बोझ डालने के अलावा कोई विकल्प नहीं है.'

24 सितंबर से इतना महंगा हो गया है तेल

जहां सोमवार को कीमतों में कोई बदलाव नहीं किया गया, वहीं आज मंगलवार को राजधानी दिल्ली में पेट्रोल में 25 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी हुई है और डीजल 30 पैसे प्रति लीटर महंगा हो गया है. 24 सितंबर से डीजल के मामले में कीमतों में 2.45 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी हुई है. एक हफ्ते में पेट्रोल के दाम में 1.50 रुपये प्रति लीटर की वृद्धि हुई है.

Video : रवीश कुमार का प्राइम टाइम : पेट्रोल-डीज़ल पर तैर रही है मोदी सरकार की नैया

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com




(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)