नंदीग्राम में ममता बनर्जी vs शुभेंदु अधिकारी, बीजेपी कर रही महामंथन

Assembly Elections: तृणमूल कांग्रेस से बीजेपी में आए शुभेंदु अधिकारी ने बैठक में कहा कि अगर उन्हें नंदीग्राम से ममता बनर्जी के खिलाफ उतारा जाए तो वे कम से कम 50,000 वोट से मुख्यमंत्री को हराएँगे. नंदीग्राम, भवानीपुर समेत करीब 15 सीटों पर अंतिम फ़ैसला पीएम नरेंद्र मोदी, जे पी नड्डा और अमित शाह पर छोड़ा गया है.

नंदीग्राम में ममता बनर्जी vs शुभेंदु अधिकारी, बीजेपी कर रही महामंथन

Assembly Elections 2021: ममता बनर्जी के खिलाफ दोनों सीटों पर किसे उतारा जाए, इस पर बीजेपी में महामंथन हुई.

नई दिल्ली:

पांच राज्यों में हो रहे विधान सभा चुनाव (Assembly Elections) के मद्देनजर भारतीय जनता पार्टी (BJP) की केंद्रीय चुनाव समिति की आज बैठक नहीं होगी. इसके साथ ही तमिलनाडु, पुड्डुचेरी और केरल के उम्मीदवारों का नाम तय करने के लिए बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा को अधिकृत किया गया है. हालांकि, पश्चिम बंगाल में उम्मीदवारों के चयन के लिए कल देर रात तक बैठक चली. सूत्रों ने बताया कि भवानीपुर से ममता बनर्जी के खिलाफ केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने लड़ने की पेशकश की है.

तृणमूल कांग्रेस से बीजेपी में आए शुभेंदु अधिकारी (Suvendu Adhikari) ने बैठक में कहा कि अगर उन्हें नंदीग्राम से ममता बनर्जी के खिलाफ उतारा जाए तो वे कम से कम 50,000 वोट से मुख्यमंत्री को हराएँगे. नंदीग्राम, भवानीपुर समेत करीब 15 सीटों पर उम्मीदवारों के नाम पर अंतिम फ़ैसला पीएम नरेंद्र मोदी, जे पी नड्डा और अमित शाह पर छोड़ा गया है.

भवानीपुर सीट : ममता दीदी से किला छीनने की फिराक में BJP, 45,000 मुस्लिम वोटर होंगे निर्णायक

इस बीच, पीएम नरेंद्र मोदी ने बंगाल बीजेपी के नेताओं से कहा कि वे उकसावे में न आएँ. ममता या टीएमसी के नेता जिस भाषा में भी बयान दें, वे अपनी भाषा की मर्यादा रखें और बेवजह बयान न दें. पीएम ने दिलीप घोष, शुभेंदु अधिकारी, राजीव बनर्जी आदि नेताओं से बंगाल का माहौल और मूड के बारे में पूछा.

बंगाल के अन्य चरणों के उम्मीदवारों के नाम पर चर्चा के लिए अब 9 मार्च को बीजेपी केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक  हो सकती है. 


नंदीग्राम : पश्चिम बंगाल चुनाव का नया 'कुरुक्षेत्र' और 'हिन्दू लैब', ममता vs शुभेंदु अधिकारी की संभावना

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


साल 2016 में शुवेंदु अधिकारी  ने तृणमूल कांग्रेस के उम्मीदवार के तौर पर नंदीग्राम से बड़ी जीत दर्ज की थी. उन्हें 87 फीसदी वोट मिले थे. उन्होंने तब सीपीआई के अब्दुल कबीर को 81, 230 वोटों के अंतर से हराया था लेकिन अब वो तृणमूल छोड़कर बीजेपी के साथ जा चुके हैं. हालांकि, बीजेपी उन्हें यहां से उम्मीदवार बनाएगी या नहीं? ये अभी साफ नहीं हुआ है लेकिन उन्होंने ऐलान किया है कि वो ममता बनर्जी को नंदीग्राम से 50,000 वोट से हराएंगे.