इनेलो के नेता अभय चौटाला का महापंचायत में सम्मान, किसानों के मुद्दे पर छोड़ी थी विधायकी

कृषि बाहुल्य क्षेत्र के ज्यादातर राजनीतिक दलों की तरह अभय चौटाला भी कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के साथ खड़े होने का दबाव झेल रहे हैं

इनेलो के नेता अभय चौटाला का महापंचायत में सम्मान, किसानों के मुद्दे पर छोड़ी थी विधायकी

भारी भीड़ के बीच बोलते हुए चौटाला ने किसानों को सिरसा की महापंचायत में आने का दिया न्योता

चंडीगढ़:

कृषि कानूनों के विरोध में और किसान आंदोलन के समर्थन में विधायक पद से इस्तीफा देने वाले इनेलो नेता अभय सिंह चौटाला ( INLD Abhay Chautala ) का शुक्रवार को सिरसा जिले के एलेनाबाद सीट हुई किसानों की महापंचायत (Kisan Mahapanchayat) में सम्मान किया गया. चौटाला उनकी पार्टी के एकमात्र विधायक थे, जो एलेनाबाद से जीते थे.


57 साल के चौटाला ने 11 जनवरी को विधानसभा स्पीकर को लिखे पत्र में कहा था कि अगर केंद्र सरकार 26 जनवरी तक केंद्रीय कृषि कानूनों को वापस नहीं लेती है तो इसे विधानसभा से उनका त्यागपत्र समझा जाए. उन्होंने कहा था कि किसानों पर अलोकतांत्रिक तरीके से किसानों पर काला कानून थोपा था. कृषि बाहुल्य क्षेत्र के ज्यादातर राजनीतिक दलों की तरह अभय चौटाला भी कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के साथ खड़े होने का दबाव झेल रहे हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


एलेनाबाद में किसानों की भारी भीड़ के समक्ष चौटाला ने कहा, वह सभी किसान नेताओं को सिरसा में होने वाली अगली महापंचायत में शामिल होने का न्योता देते हैं. चौटाला ने कहा कि हम किसान मोर्चा की अगली घोषणा का इंतजार कर रहे हैं. जो भी फैसला किसान नेता लेते हैं. उसे हमारा पूरा समर्थन रहेगा. चौटाला ने कहा, शनिवार को चक्का जाम के दौरान हम सुनिश्चित करेंगे कि राजस्थान से कोई भी वाहन हरियाणा में प्रवेश न करने पाए. 

दिल्ली को छोड़कर पूरे देश में चक्का जाम : किसान नेता