Ganesh Chaturthi 2020: कब है गणेश चतुर्थी? जानें समय, पूजा मुहूर्त, महत्व और इस दिन बनने वाले भोग की रेसिपी!

Ganesh Chaturthi 2020: गणेश चतुर्थी 2020 दिनांक, समय, महत्व इस त्यौहार के लिए विशेष रूप से कई प्रकार की मिठाइयाँ तैयार की जाती हैं, और भोग के रूप में भगवान गणेश को अर्पित करने के बाद परिवार के सदस्यों के बीच बांट की जाती हैं.

Ganesh Chaturthi 2020: कब है गणेश चतुर्थी? जानें समय, पूजा मुहूर्त, महत्व और इस दिन बनने वाले भोग की रेसिपी!

यह त्यौहार देश के कई राज्यों जैसे महाराष्ट्र, पुणे, गुजरात और कर्नाटक में मनाया जाता है

खास बातें

  • विध्नहरता को अति प्रिय है मोदक का प्रसाद.
  • भगवान गणेश ज्ञान, समृद्धि और सौभाग्य के देवता हैं.
  • गणेश को पूरन पोली, भरवां फ्लैट ब्रेड, चना दाल, बूंदी के लड्डू, है पंसद

Ganesh chaturthi 2020:  यह वर्ष का वह समय है, जब अगले आने वाले दिनों में लगातार त्यौहारों का सिलसिला शुरू होता है इसमें हम पूरी तरह से लीन हो जाते है राखी और जन्माष्टमी के बाद, गणेश चतुर्थी की तैयारी शुरू हो जाती है और जो अब बहुत दूर नहीं है इस वर्ष गणेश चतुर्थी 22 अगस्त से शुरू हो रही है यह त्यौहार देश के कई राज्यों जैसे महाराष्ट्र, पुणे, गुजरात और कर्नाटक में मनाया जाता है दस दिवसीय त्यौहार हिंदू भगवान गणेश की पूजा करने के लिए मनाया जाता है, जो भगवान शिव और देवी पार्वती के पुत्र है. यह भारतीयों के विश्वास का सबसे महत्वपूर्ण त्यौहारों में से एक है ऐसा माना जाता है कि कोई भी पूजा बिना भगवान गणेश के शुरू नहीं की जा सकती इन दिनों हाथी-देवता अपने प्रिय भक्तों के बीच पृथ्वी पर उतरते हैं और अपने भक्तों को आर्शीवाद देते है गणेश चतुर्थी में भोजन एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है त्यौहार के लिए विशेष रूप से कई प्रकार की मिठाइयाँ तैयार की जाती हैं, और भोग के भाग के रूप में भगवान गणेश को अर्पित करने के बाद परिवार के सदस्यों के बीच वितरित की जाती हैं भोग के लिए बहुत सारे दिलकश आइटम भी तैयार किए जाते

गणेश चतुर्थी की तिथि और समय 2020: Ganesh chaturthi 2020 Date And Time:

गणेश चतुर्थी 22 अगस्त, 2020 को शनिवार के दिन है

मध्याह्न गणेश पूजा मुहूर्त - सुबह 11:25 से दोपहर 01:57 तक (मुंबई)

चतुर्थी तिथि 21 अगस्त, 2020 को सुबह 11:02 बजे शुरू होती है.

चतुर्थी तिथि 22 अगस्त, 2020 को प्रातः 07:57 बजे समाप्त होती है.

1 सितंबर, 2020 को गणेश विसर्जन है

गणेश चतुर्थी में भोजन एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है त्यौहार के लिए विशेष रूप से कई प्रकार की मिठाइयाँ तैयार की जाती हैं

tm6tun68
भगवान गणेश को मोदक का भोग बहुत ही प्रिय है.  

गणेश चतुर्थी का महत्व: Important Ganesh chaturthi:

हिंदू पौराणिक कथाओं में, भगवान गणेश ज्ञान, समृद्धि और सौभाग्य के देवता हैं माने जाते हैं. गणेश चतुर्थी देश के सबसे व्यापक त्योहारों में से एक है. महाराष्ट्र और गुजरात जैसे राज्यों के विभिन्न हिस्सों में अलंकृत मूर्तियों के साथ बड़े पंडाल स्थापित किए जाते है लोग भारी संख्या में यहां इकट्ठा होते हैं. और अपनी प्रार्थना करते हैं. आजकल लोग मूर्ति-निर्माण के साथ बहुत रचनात्मक भी हो रहे हैं, कई पर्यावरण-अनुकूल मूर्तियों का सहारा ले रहे हैं जो विसर्जन पर पर्यावरण को नुकसान नहीं पहुंचाते हैं अनगिनत भक्त भगवान गणेश की छोटी मूर्तियों को भी घर लाते हैं और अपने निवास पर उनकी पूजा की मेजबानी करते हैं, भोग चढ़ाते हैं, भजन करते हैं और भक्ति गीत गाते हैं

गणेश चतुर्थी के पारंपरिक खाद्य पदार्थ: Ganesh chaturthi Traditional Foods:

गणेश चतुर्थी पर मोदक की एक थाली से और कुछ अच्छा नहीं हो सकता उबले हुए चावल के आटे से ढक कर मीठा बनाया जाता है और भरने में आमतौर पर नारियल, गुड़ और केसर का मिश्रण होता है कुछ अन्य पारंपरिक व्यंजन भी हैं जो विशेष रूप से इस अवसर के लिए बनाए जाते हैं जैसे पूरन पोली, भरवां फ्लैट ब्रेड, चना दाल, चीनी और जायफल की पैकिंग, बूंदी के लड्डू, खीर, इन दिनों खासतौर पर बनाए जाते हैं.

फूड की और खबरों के लिए क्लिक करे

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com