Cryptocurrency माइनिंग क्या 'बच्चों का खेल' है? क्रिप्टो के ज़रिये हज़ारों डॉलर बना रहे हैं यह भाई-बहन

Cryptocurrency Mining : 14 साल के इशान और 9 साल की आन्या क्रिप्टोकरेंसी माइनिंग से हर महीने लगभग 30,000 डॉलर पैसा बना रहे हैं. दोनों ने अपनी अर्निंग को देखकर यह लक्ष्य रखा है कि वो इससे बचत करके अपने कॉलेज की पढ़ाई का खुद खर्च उठाएंगे.

नई दिल्ली:

बस कुछ सात महीने पहले एक भारतीय-अमेरिकी भाई-बहन ने शौक-शौक में क्रिप्टोकरेंसी की माइनिंग (Cryptocurrency Mining) शुरू की थी और आज 14 साल के इशान और 9 साल की आन्या क्रिप्टोकरेंसी माइनिंग से हर महीने लगभग 30,000 डॉलर पैसा बना रहे हैं. दोनों ने अपनी अर्निंग को देखकर यह लक्ष्य रखा है कि वो इससे बचत करके अपने कॉलेज की पढ़ाई का खुद खर्च उठाएंगे. उन्हें ये आइडिया कहां से मिला, NDTV के इस सवाल पर ईशान ने कहा कि 'फरवरी में मैंने सुना कि बिटकॉइन और क्रिप्टोकरेंसी का मार्केट बढ़ रहा है. मैं इसमें निवेश करना चाहता था...लेकिन क्रिप्टो कॉइन खरीदने के लिए मेरे पास जरूरत भर के पैसे नहीं थे, इसलिए खरीदने के बजाय मैंने फैसला किया कि क्यों न जरूरी उपकरण खरीदकर मैं इसे अर्न करना शुरू कर दूं. और अब इतनी दूर आने के बाद मुझे इसपर काफी गर्व है.'

9 साल की आन्या को इसमें कैसे दिलचस्पी आई, यह पूछने पर आन्या ने बताया कि 'हम दोनों को साथ में यह आइडिया आया था. जब इशान ने इस बारे में सोचा तो मुझे भी इसमें दिलचस्पी जगी. मैंने अपने भाई की माइनिंग और जरूरी इक्विपमेंट खरीदने में मदद की.'

ऐसा कहा जाता है कि क्रिप्टोकरेंसी माइनिंग बच्चों का खेल नहीं है. तो क्या दोनों को इसे करने से पहले डर लगा था? ईशान का कहना है कि 'नहीं. दरअसल, अगर आपको माइनिंग को समझना है तो खूब यूट्यूब ट्यूटोरियल्स देखिए, आर्टिकल्स पढ़िए, मैंने भी ऐसे ही शुरू किया था. जिनको नंबरों से मुश्किल होती है, उनको ग्राफिक कार्ड्स, सॉफ्टवेयर वगैरह की जरूरत होगी.'

- - ये भी पढ़ें - -

*क्या है Cryptocurrency माइनिंग? जानिए आप खुद कैसे जेनरेट कर सकते हैं वर्चुअल करेंसी
* Cryptocurrency : क्या है क्रिप्टो का R.O.H.A.S. फॉर्मूला? निवेश करते समय जरूर जान लें ये गणित
* कैसे तैयार होती है बिटक्वाइन? जानिए ये कैसे करती है काम और इसमें किस कंप्यूटिंग सिस्टम की है जरूरत

इशान आगे कहते हैं, 'क्रिप्टोकरेंसी किसी भी दूसरी करेंसी की तरह ही है.... ये वैसे ही काम करती है जैसे कि डॉलर करता है. आप इसे चीजों को खरीदने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं, ये भी वैसे ही काम करती है.'


दोनों अपनी कमाई का पैसा सही जगह पर खर्च करना चाहते हैं. उनका कहना है कि 'हम इस पैसे को अपने कॉलेज की शिक्षा पर खर्च करना चाहते हैं.' आन्या कॉर्नेल यूनिवर्सिटी में पढ़ाई करके डॉक्टर बनना चाहती हैं. इशान इस पूरे फेज़ को 'लर्निंग एक्सपीरियंस' बताते हैं. वो याद करते हैं कि 'हम शुरुआत में कुछ भी नहीं कमा रहे थे. एक महीने में बस 3 डॉलर ही बना पाते थे. मैंने अपने गेमिंग कंप्यूटर को एक माइनिंग कंप्यूटर में बदल दिया. लेकिन धीरे-धीरे मैंने इसमें ध्यान लगाना शुरू किया और मैं बेहतर हो गया. आज मैं एक महीने में 35,000 डॉलर बना रहा हूं. मुझे इसपर गर्व है.'

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


इशान ने कहा कि 'जब मैं एक महीने में 3 डॉलर कमा रहा था, तब भी मैं इतना ही गर्व महसूस करता था क्योंकि मैं यह मानता था कि यह कोई पैसा बनाने की चीज नहीं है, बल्कि अभी सीखने की चीज है. इस पूरे बिजनेस में यही मेरा फेवरेट पार्ट है.'