'Kamal khan ndtv journalist'

- 6 न्यूज़ रिजल्ट्स
  • India | Reported by: NDTV इंडिया, Edited by: अंजलि कर्मकार |गुरुवार अप्रैल 27, 2023 11:22 PM IST
    कमाल कोई शख्स नहीं थे, बल्कि कमाल ऐसे कमाल के आदमी थे, जो कुछ अलग किस्म की कद्रें लेकर जिंदगी जी रहे थे. उन्हीं कद्रों को वो अपने काम में भी लेकर आए थे. लखनऊ में कमाल खान पर रखे गए खास प्रोग्राम का नाम लखनऊ के 'कमाल और कमाल का हिंदुस्तान' रखा गया है
  • Blogs | रवीश कुमार |शनिवार जनवरी 15, 2022 12:49 AM IST
    हज़ार दुखों से गुज़र रही भारत की पत्रकारिता का दुख आज हज़ार गुना गहरा लग रहा है. जिस पेश को अपने पसीने से कमाल ख़ान ने सींचा वो अब उनसे वीरान हो गया है. कमाल ख़ान हमारे बीच नहीं हैं. हम देश और दुनिया भर से आ रही श्रद्धांजलियों को भरे मन से स्वीकार कर रहे हैं. आप सबकी संवेदनाएं बता रही हैं कि आपके जीवन में कमाल ख़ान किस तरीके से रचे बचे हुए थे. कमाल साहब की पत्नी रुचि और उनके बेटे अमान इस ग़म से कभी उबर तो नहीं पाएंगे लेकिन जब कभी आपके प्यार और आपकी संवेदनाओं की तरफ उनकी नज़र जाएगी, उन्हें आगे की ज़िंदगी का सफर तय करने का हौसला देगी. उन्हें ग़म से उबरने का सहारा मिलेगा कि कमाल ख़ान ने टीवी की पत्रकारिता को कितनी शिद्दत से सींचा था. एनडीटीवी से तीस साल से जुड़े थे. एक ऐसे काबिल हमसफर साथी को अलविदा कहना थोड़ा थोड़ा ख़ुद को भी अलविदा कहना है. 
  • Zara Hatke | Written by: बिक्रम कुमार सिंह |शुक्रवार जनवरी 14, 2022 07:48 PM IST
    तीन दशक से दिल को छू लेने वाले और हमारे दिलों में राज करने वाले कमाल खान नहीं रहे. समाज को अपने अनूठे ढंग से समझने-समझाने वाले और विशिष्‍ट और विश्‍वसनीय आवाजों में से एक थे कमाल खान. यह हमारे लिए बेहद दुख की घड़ी है.
  • Blogs | आलोक पांडे |शुक्रवार जनवरी 14, 2022 02:37 PM IST
    आज अंगुलियों पर चलने वाली, तेजी से भागती पत्रकारिता की दुनिया में वो एक अपवाद थे और मैं ये पूर्व गर्व के साथ कह सकता हूं कि वो NDTV के उन दिग्गजों में शामिल थे जो अपने सिद्धांतों से कभी नहीं हटे, पत्रकारिता की दुनिया में बेस्ट थे वो, और पत्रकारिता के ठोस सिद्धांतों पर चलने वाले हम जैसे लोगों के गुरू थे.
  • Blogs | प्रियदर्शन |शुक्रवार जनवरी 14, 2022 01:29 PM IST
    वे कई मायनों में अनूठे और अद्वितीय थे. टीवी खबरों की तेज़ रफ़्तार भागती-हांफती दुनिया में वे अपनी गति से चलते थे. यह कहीं से मद्धिम नहीं थी. लेकिन इस गति में भी वे अपनी पत्रकारिता का शील, उसकी गरिमा बनाए रखते थे. यह दरअसल उनके व्यक्तित्व की बुनावट में निहित था. जीवन ने उन्हें पर्याप्त सब्र दिया था. वे तेज़ी से काम करते थे, लेकिन जल्दबाज़ी में नहीं रहते थे.
  • India | Reported by: ख़बर न्यूज़ डेस्क |शुक्रवार जनवरी 14, 2022 02:57 PM IST
    तीन दशकों में कमाल खान ने राजनीति के कई दौर देखे और दर्शकों को अपनी राजनीतिक आंखों से घटनाओं का साक्षी बनाया. उन्हें समाज को अपने अनूठे ढंग से समझने-समझाने वाले और विशिष्‍ट और विश्‍वसनीय आवाजों में से एक पत्रकार माना जाता है. उनके निधन पर कई राजनेताओं ने दुख जताया है. 
और पढ़ें »
'Kamal khan ndtv journalist' - 12 वीडियो रिजल्ट्स
और देखें »
 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com