विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Aug 07, 2011

कांग्रेस ने कहा, 'कर्नाटक' नहीं है दिल्ली!

Read Time: 4 mins
नई दिल्ली: नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक की रिपोर्ट में राष्ट्रमंडल खेलों के आयोजन में हुई अनियमितताओं के लिए दिल्ली सरकार की भूमिका पर उंगली उठने के बाद भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने शनिवार को जहां मुख्यमंत्री शीला दीक्षित का इस्तीफा मांगा वहीं कांग्रेस मुख्यमंत्री के बचाव में उतर आई। भाजपा ने कहा कि रिपोर्ट आने के बाद दीक्षित को मुख्यमंत्री पद पर बने रहने का अधिकार नहीं है और उन्हें तुरंत इस्तीफा दे देना चाहिए जबकि कांग्रेस ने यह कहते हुए दीक्षित का बचाव किया कि उनकी तुलना कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा से नहीं की जा सकती। ज्ञात हो कि सीएजी ने राष्ट्रमंडल खेलों के आयोजन पर अपनी रिपोर्ट शुक्रवार को संसद में पेश की। उसने खेलों के आयोजन में अनियमितताओं के लिए दिल्ली सरकार की भूमिका पर उंगली उठाई है। कांग्रेस कोर कमेटी की बैठक में दीक्षित का बचाव करने का निर्णय लिया गया। इस बैठक में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, केंद्रीय वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी, रक्षा मंत्री एके एंटनी, सोनिया गांधी के राजनीतिक सचिव अहमद पटेल और पार्टी महासचिव जनार्दन द्विवेदी सहित अन्य नेताओं ने हिस्सा लिया। वहीं, भाजपा अध्यक्ष नितिन गडकरी ने दीक्षित के तुरंत इस्तीफे की मांग की। उन्होंने कांग्रेस पर 'दोहरा मानदंड अपनाने और उन्हें बचाने का आरोप लगाया।' भाजपा सूत्रों के मुताबिक भाजपा और अन्य विपक्षी पार्टियां सोमवार को संसद में सीएजी की रिपोर्ट को उठाने की योजना बना रही हैं। पार्टियां दीक्षित को इस्तीफा देने के लिए दबाव बनाएंगी। पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी की अनुपस्थिति के दौरान पार्टी का कामकाज देख रही चार सदस्यीय टीम के सदस्य जनार्दन द्विवेदी ने कहा कि दीक्षित की तुलना कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री बी.एस. येदियुरप्पा से नहीं की जा सकती। कर्नाटक में लोकायुक्त संतोष हेगड़े की रिपोर्ट के बाद येदियुरप्पा को इस्तीफा देना पड़ा। लोकायुक्त ने उन्हें राज्य में अवैध खनन के लिए जिम्मेदार ठहराया है। द्विवेदी ने कहा, "सीएजी की रिपोर्ट कहती है कि कुछ विभागों में पैसे ज्यादा खर्च हुए और इस पैसे को बचाया जा सकता था। यह उतना बड़ा नहीं है कि इसकी तुलना येदियुरप्पा अथवा किसी और से की जाए।" कांग्रेस के एक नेता ने नाम उजागर न करने की शर्त पर बताया कि पार्टी भाजपा के इस्तीफे की मांग के समक्ष झुकने को तैयार नहीं है। उन्होंने कहा, "पार्टी संसद के भीतर और बाहर दीक्षित का बचाव करेगी।" उन्होंने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के इलाज के लिए बाहर गए पार्टी महासचिव राहुल गांधी की वापसी का भी इंतजार किया जा रहा है। पार्टी के एक कार्यक्रम में शिरकत करने गुवाहाटी आए गडकरी ने कहा, "भाजपा की मांग है कि दीक्षित को तुरंत इस्तीफा देना चाहिए। सीएजी ने राष्ट्रमंडल खेलों के लिए ठेकों के आवंटन, उपकरणों की आपूर्ति में अनियितिताओं से सम्बंधित मुद्दों को उठाया है इसलिए दीक्षित को मुख्यमंत्री पद पर बने रहने का अधिकार नहीं है।" उन्होंने कहा, "रिपोर्ट के मुताबिक ठेके देने में हुई देरी से परियोजनाओं की लागत काफी बढ़ गई।" गडकरी ने कहा, "लोकायुक्त ने जब अपनी रिपोर्ट में राज्य में अवैध खनन के लिए येदियुरप्पा को जिम्मेदार ठहराया तो कांग्रेस ने उनके इस्तीफे की मांग की।" उन्होंने कहा, "सीएजी एक संवैधानिक संस्था है और जब उसकी रिपोर्ट अनियमितताओं के लिए किसी एक व्यक्ति को जिम्मेदार ठहराती है तो उस व्यक्ति को फौरन इस्तीफा दे देना चाहिए।" 

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
नीतीश के दिल में क्या? हंसी-हंसी में लड़वाए तिलक लगाए मंत्रियों के सिर
कांग्रेस ने कहा, 'कर्नाटक' नहीं है दिल्ली!
"अदालत की सुनवाई का वीडियो जल्द हटाओ...": एक्स, फेसबुक, यूट्यूब और इंस्टाग्राम को दिल्ली HC का आदेश
Next Article
"अदालत की सुनवाई का वीडियो जल्द हटाओ...": एक्स, फेसबुक, यूट्यूब और इंस्टाग्राम को दिल्ली HC का आदेश
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;