"ऊपर से नीचे तक अनपढ़ों की जमात..." बजट रोकने को लेकर विधानसभा में केजरीवाल ने BJP पर साधा निशाना

बजट अप्रूव करने में देरी को लेकर अरविंद केजरीवाल ने विधानसभा में बीजेपी पर जमकर निशाना साधा. उन्होंने कहा, 'इन्होंने ऊपर से लेकर नीचे तक अनपढ़ों की जमात बैठा रखी है.' बीजेपी ने जब इस बयान पर आपत्ति जताई, तो केजरीवाल ने कहा कि मैंने तो आपके नेता का नाम नहीं लिया.

नई दिल्ली:

दिल्ली में आम आदमी पार्टी और भारतीय जनता पार्टी के बीच बजट न पेश होने को लेकर खींचतान चल रही है. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को गृह मंत्रालय पर दिल्ली का बजट रोकने का आरोप लगाया था. इसके बाद बीजेपी ने पलटवार करते हुए कहा कि आप सरकार नौटंकी कर रही है. हालांकि, अब गृह मंत्रालय ने दिल्ली सरकार का बजट अप्रूव कर दिया है. इसे लेकर केजरीवाल ने गृह मंत्रालय और केंद्र सरकार पर जमकर निशाना साधा. 

बजट अप्रूव करने में देरी को लेकर अरविंद केजरीवाल ने विधानसभा में बीजेपी पर जमकर निशाना साधा. उन्होंने कहा, 'इन्होंने ऊपर से लेकर नीचे तक अनपढ़ों की जमात बैठा रखी है.' बीजेपी ने जब इस बयान पर आपत्ति जताई, तो केजरीवाल ने कहा कि मैंने तो आपके नेता का नाम नहीं लिया.

एलजी को बजट रोकने का अधिकार नहीं
दिल्ली विधानसभा में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा, 'बजट रोकना संविधान के ऊपर हमला है. एलजी को बजट रोकने का कोई अधिकार नहीं है. आज तक दिल्ली का बजट कभी नहीं रोका गया था. पहली बार केंद्र ने परंपरा को तोड़ा है. यह अहंकार को दिखाया गया है.'

हम लड़ना नहीं चाहते
केजरीवाल ने आरोप लगाया, "हमें लड़ना नहीं काम करने आता है. सब कुछ ऊपर से आदेश आया है. इस देश में संविधान के ऊपर हमला हो रहा है. संविधान के अंदर बजट पर एलजी को रोकने का कोई अधिकार नहीं है. केन्द्र सरकार को बजट पर आपति करने का कोई अधिकार नहीं है. पीएम को अपील है कि हम लड़ना नहीं चाहते, क्योंकि हम बहुत छोटे लोग हैं. लड़ाई से घर और राज्य, देश बर्बाद हो जाते हैं."

बस तारीखें बताई जा रही हैं
दिल्ली के मुख्यमंत्री ने आगे कहा, "आज दिल्ली विधानसभा में बजट पेश होना था, लेकिन केंद्र सरकार ने बजट रोक दिया, इस पर हम चर्चा कर रहे हैं. बाबा साहेब अंबेडकर जब संविधान लिख रहे होंगे, तो उन्होंने सोचा भी नहीं होगा कि एक राज्य का बजट रोक दिया जाएगा. ये संविधान पर हमला है. तारीखें बताई जा रही है, उपराज्यपाल ने आपत्तियां लगाई, लेकिन संविधान में उपराज्यपाल को इस तरह की आपत्तियां लगाने का कोई अधिकार नहीं है.'

SC के आदेश का दिया हवाला
उन्होंने कहा- 'सुप्रीम कोर्ट का 2018 का आदेश और GNCTD एक्ट कहते हैं कि एलजी न तो ऑब्जेक्शन लगा सकते हैं और न ही आब्जर्वेशन. अगर सब कुछ एलजी को‌ करना है तो ये सदन किस लिए है."

अधिकारियों की गर्दन केंद्र और एलजी के हाथ में
केजरीवाल ने कहा, 'हम यहां लड़ने नहीं आए हैं. अधिकारियों की गर्दन केंद्र सरकार और एलजी के हाथ में है. ऊपर से आदेश आया कि 3 दिन तक फाइल लेकर बैठे रहो. फ़ाइल बार बार मंत्री को फोन करने के बाद मिली. मैंने मंत्री से कहा कि हमें लड़ना नहीं है. सेम बजट भेजा, लेकिन उनमें ईगो थी." 

केजरीवाल ने कसे तंज
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली सरकार का बजट अप्रूव कर दिया गया है. कह रहे हैं कि कैपिटल से ज्यादा विज्ञापन पर बजट रखा गया, इन्हे ये भी नहीं पता कि 500 करोड़ ज्यादा होते हैं या 20 हजार करोड़, नीचे से ऊपर तक अनपढ़ बैठे हैं. अनपढ़ों की जमात बिठा रखी है.

मिलकर काम करेंगे, तो तरक्की होगी
अरविंद केजरीवाल ने कहा, "हाथ जोड़कर प्रधानमंत्री से अपील करते है कि हम छोटे लोग हैं हमें राजनीति करनी नहीं आती है. घर में लड़ाई होती है वह घर बर्बाद हो जाते हैं. जिस राज्य में लड़ाई होती है वह राज्य बर्बाद हो जाते हैं. सब मिलजुल कर काम करेंगे तो तरक्की होगी."

ये भी पढ़ें:-

"गलतियों को छिपाने के लिए केंद्र और पीएम पर आरोप लगा रहे केजरीवाल" : दिल्ली BJP का पलटवार

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

दिल्ली सरकार vs एलजी केस : SC पहुंची केजरीवाल सरकार, GNCTD संशोधन बिल से जुड़ी अर्जी पर जल्द सुनवाई की मांग