गाजीपुर बॉर्डर पर चलाई जा रही है पाठशाला, आंदोलन में आए कूड़ा बीनने वाले बच्चों को मिल रही है शिक्षा

किसान आंदोलन को लेकर देश भर में चर्चा का केंद्र बन चुके गाजीपुर बॉर्डर पर अब पाठशाला भी चल रही है. सड़क पर ही पाठशाला का संचालन किया जा रहा है.

नई दिल्ली:

गाजीपुर बॉर्डर पर किसान आंदोलन के बीच देश और दिल्ली को अलग-अलग तस्वीरें देखने को मिल रही है. किसान आंदोलन में देश ने और दिल्ली ने धरना प्रदर्शन, ट्रैक्टर मार्च, दंगल, संगीत कार्यक्रम फिर कंटीले तारों का बॉर्डर और पौधा रोपण भी देखा. लेकिन अब गाजीपुर बॉर्डर से काफी खूबसूरत तस्वीर आ रही है. आप देखिए कि किसान आंदोलन में आए परिवारों के कुछ बच्चें किस तरह से अपनी पाठशाला शुरू कर चुके हैं. ये बच्चें किसान आंदोलन के परिवारों के ही कुछ बच्चों और स्थानीय बच्चों के साथ मिलकर पाठशाला शुरू कर चुके हैं. एक दूसरे को पढ़ा रहे हैं.

इस पाठशाला को चलाने वाली निर्देशिका ने NDTV से बात करते हुए कहा कि ये पाठशाला किसानों के बच्चों के लिए खोली गई थी. लेकिन 28 के बाद यहां महिलाएं कम हो गई हैं, ऐसे में यहां बच्चे भी कम हो गए हैं, तो हमने सोचा क्यों ने हम यहां के स्थानीय बच्चों के भी पढा दें. इसलिए हमने इलाके में कूड़ा चुनने वाले बच्चों को भी इस पाठशाला से जोड़ दिया.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com