मुठभेड़ के दौरान आतंकी पिता से चार साल के मासूम की अपील – बाहर आ जाओ, मिस यू

वहीं, सेना का कहना है कि अकीब अहमद मलिक बाहर आकर आत्मसमर्पण करना चाहता था, लेकिन उसे अन्य आतंकवादियों ने इमारत से बाहर आने नहीं दिया.

श्रीनगर:

चार साल के एक मासूम का वीडियो सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रहा है. जिसमें बच्चा अपने आतंकी पिता से अपील कर रहा है कि वो सेना के सामने आत्मसमर्पण कर दें. ये वीडियो जम्मू कश्मीर के शोपियां जिले की है, जिसमें सुरक्षाबलों ने लश्कर-ए- तैयबा के चार आतंकवादियों को मुठभेड़ में मार गिराया है. वीडियो में देखा जा रहा है कि बच्चा लगातार अपने पिता से अपील कर रहा है कि वो सेना के सामने आत्मसमर्पण कर दें. हालांकि 25 वर्षीय अकीब अहमद मलिक आत्मसमर्पण करना चाहता था, लेकिन उसके अन्य आतंकी साथियों ने उसे बाहर आने नहीं दिया. बताया जा रहा है कि अकीब अहमद मलिक तीन महीने पहले ही आतंकी संगठन लश्कर-ए- तैयबा में शामिल हुआ था, जो कि अपने तीन साथियों के साथ सेना द्वारा मुठभेड़ में मारा गया.

जम्मू-कश्मीर: शोपियां में बड़ा एनकाउंटर, लश्कर-ए-तैयबा के 4 आतंकवादी मारे गए

कुछ मिनट के लिए मन को विचलित कर देने वाला ये वीडियो मुठभेड़ के बाद काफी वायरल हो रहा है. इस वीडियो को लेकर सोशल मीडिया पर कई तरह की प्रतिक्रियाएं आ रही हैं. बता दें कि, अकीब अहमद मलिक को सरेंडर कराने के लिए मुठभेड़ स्थल पर उसकी पत्नी और बच्चे को सेना लेकर आई थी. वीडियो में चार साल का मासूम लगातार कह रहा है, “बाहर आओ, वे आपको नुकसान नहीं पहुंचाएंगे. बाहर आओ, मैं आपको याद कर रहा हूं.” वीडियो में साफतौर पर देखा जा सकता है कि, मुठभेड़ वाले स्थल पर सुरक्षाबल खचाखच भरे हुए हैं. वीडियो में देखा जा रहा है कि अकीब अहमद मलिक की पत्नी भी आधी रात को ऑपरेशन के दौरान अपने पति से भावुक अपील कर रही हैं. पत्नी वीडियो में कह रही हैं, “कृपया बाहर आएं और आत्मसमर्पण करें. कृपया मुझे गोली मार दीजिए, अगर आप बाहर नहीं आना चाहते हैं. हमारे दोनों बच्चे मेरे साथ आए हैं. कृपया बाहर आकर आत्मसमर्पण करें.”

अफगानिस्तान से होगी अमेरिकी सेना की वापसी? समयसीमा उल्लंघन पर तालिबान ने दी चेतावनी

वहीं, सेना का कहना है कि अकीब अहमद मलिक बाहर आकर आत्मसमर्पण करना चाहता था, लेकिन उसे अन्य आतंकवादियों ने इमारत से बाहर आने नहीं दिया. एक वरिष्ठ अधिकारी मेजर जनरल रशीम बाली ने कहा, “पहले उसकी पत्नी ने उससे आत्मसमर्पण करने की अपील की, फिर हमने उसके चार साल के बच्चे से कहा कि वो अपने पिता से अपील करे कि वो बाहर आकर आत्मसमर्पण करे.” उन्होंने कहा, "हमारे पास जानकारी है कि अकीब बाहर आना चाहता था, लेकिन उसके साथियों ने उसे रोक दिया था, अगर वह बाहर आ गया होता, तो हम उसे बचा सकते थे." स्थानीय लोगों का कहना है कि 20 दिसंबर को लापता होने और आतंकवादियों में शामिल होने से पहले अकीब अहमद मलिक एक बैंक कर्मचारी थे. सेना ने कहा कि मुठभेड़ स्थल से एक AK राइफल और तीन पिस्तौल बरामद किए गए हैं. मारे गए आतंकवादियों की पहचान रईस अहमद भट, आमिर शफी मीर, अकीब अहमद मलिक और आफताब अहमद वानी के रूप में हुई है. उन्होंने कहा कि घाटी में इस साल अब तक नौ मुठभेड़ हुई हैं, जिनमें से आठ दक्षिणी कश्मीर में तथा एक मुठभेड़ उत्तरी कश्मीर में हुई है.

Video: श्रीनगर आतंकी हमले में 2 पुलिस जवान शहीद, CCTV में कैद हुई घटना


Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com