चुनाव आयोग राजनीतिक दलों की रैलियां तत्काल बंद करे : अशोक गहलोत

गहलोत ने ट्वीट के जरिये कहा ‘‘संवैधानिक प्रावधानों के कारण चुनाव टाले नहीं जा सकते परन्तु कोविड की परिस्थितियों को देखते हुए चुनाव आयोग को राजनीतिक पार्टियों की रैलियों पर अविलंब रोक लगा देनी चाहिए.

चुनाव आयोग राजनीतिक दलों की रैलियां तत्काल बंद करे : अशोक गहलोत

विशेषज्ञों के अनुसार ओमिक्रॉन आगे जाकर क्या नया रूप लेगा यह अभी किसी को मालूम नहीं है .

जयपुर:

राजस्थान (Rajasthan) के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने बुधवार को कहा कि कोरोना संक्रमण के बढते मामलों को देखते हुए चुनाव आयोग को राजनीतिक पार्टियों (Political Parties) की रैलियों पर रोक लगा देनी चाहिए. गहलोत ने ट्वीट के जरिये कहा ‘‘संवैधानिक प्रावधानों के कारण चुनाव टाले नहीं जा सकते परन्तु कोविड की परिस्थितियों को देखते हुए चुनाव आयोग को राजनीतिक पार्टियों की रैलियों पर अविलंब रोक लगा देनी चाहिए. 'उन्होंने कहा, 'रैलियों की जगह प्रचार के दूसरे तरीकों का इस्तेमाल होना चाहिए. आज सूचना प्रोद्योगिकी का युग है इसलिए प्रचार भी सूचना और तकनीक एवं सोशल मीडिया आधारित होना चाहिए.'

'रैलियों, मेलों, शादियों पर पाबंदी, मंदिरों में फूल-प्रसाद चढ़ाने की मनाही', राजस्थान में कोविड पर नई गाइडलाइन्स

उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग टीवी, रेडियो इत्यादि कम्युनिकेशन माध्यमों पर सभी पार्टियों को टाइम स्लॉट बांट दे जिससे सभी दलों को प्रचार के समान अवसर मिल सकें. बड़ी रैलियों की जगह कोविड प्रोटोकॉल के तहत घर-घर प्रचार किया जाए. मुख्यमंत्री ने कहा कि ‘‘हम अधिकांश देशवासी अभी तक कोविड की दूसरी लहर की भयावहता को भूले नहीं हैं. पिछले साल अप्रैल-मई के महीने में किस तरह अस्पतालों में बेड तक नहीं मिल रहे थे एवं ऑक्सीजन की कमी के कारण लोगों की तड़प-तड़प कर मृत्यु हुई.''

'धर्म के नाम पर देश बनाया तो जा सकता है, पर देश कायम नहीं रह सकता': गहलोत

उन्होंने कहा, 'अब देश के सामने कोरोना की तीसरी लहर है. विशेषज्ञों के अनुसार ओमिक्रॉन आगे जाकर क्या नया रूप लेगा यह अभी किसी को मालूम नहीं है.''

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


देश प्रदेश : अशोक गहलोत का अमित शाह पर आरोप- रची थी सरकार गिराने की साजिश



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)