जैश आतंकियों से पूछताछ में खुलासा : कश्मीर को बनाना चाहते हैं अलग देश, पाक में ट्रेनिंग का था प्लान

पकड़े गए दोनों आतंकियों की प्लानिंग पाकिस्तान में जाकर ट्रेनिंग लेने की थी. कई बार बार्डर क्रॉस कर पाकिस्तान जाने का प्रयास भी कर चुके थे लेकिन LoC पर सख्ती के कारण वे अपने मंसूबे में कामयाब नहीं हो सके.

जैश आतंकियों से पूछताछ में खुलासा : कश्मीर को बनाना चाहते हैं अलग देश, पाक में ट्रेनिंग का था प्लान

आतंकी अशरफ खटाना और लतीफ मीर.

खास बातें

  • दिल्ली से पकड़े गए दोनों आतंकी
  • जैश-ए-मोहम्मद से है ताल्लुक
  • पाकिस्तान जाना चाहते थे आतंकी
नई दिल्ली:

विदेशी मूवमेंट वाले इलाके, नई दिल्ली इलाके में विदेशी दूतावास, चर्च और दूसरे धार्मिक स्थल, बड़े होटल समेत महत्वपूर्ण इमारतों को टारगेट करने वाले जैश-ए-मोहम्मद (Jaish-e-Mohammed) के दो आतंकियों को दिल्ली पुलिस (Delhi Police) की स्पेशल सेल ने गिरफ्तार किया है. पकड़े गए आरोपियों की पहचान अब्दुल लतीफ मीर (22) और मोहम्मद अशरफ खटाना (20) के तौर पर हुई है. ये दोनों जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) के बारामूला और कुपवाड़ा के रहने वाले हैं. इनकी प्लानिंग पाकिस्तान में जाकर ट्रेनिंग लेने की थी. कई बार बार्डर क्रॉस कर पाकिस्तान जाने का प्रयास भी कर चुके थे लेकिन LoC पर सख्ती के कारण वे अपने मंसूबे में कामयाब नहीं हो सके.

स्पेशल सेल के डीसीपी संजीव यादव के मुताबिक, उनकी टीम लगातार आतंकी गतिविधियों पर नजर रखती है. इसी कड़ी में 16 नवंबर को स्पेशल सेल को इन आतंकियों के बारे में इनपुट मिला था कि वे सराय काले खां इलाके में आने वाले हैं, जिन्हें आगे निजामुदीन इलाके में जाना है. यह जानकारी मिलते ही एक टीम ने सराय काले खां मिलेनियम पार्क के नजदीक ट्रैप लगाकर इन दोनों को पकड़ लिया. उनके पास से दो सेमी ऑटोमैटिक पिस्टल, 10 जिंदा कारतूस, दो मोबाइल, कपड़ों से भरा बैग, पहचान पत्र व अन्य सामान जब्त किया गया है.

आतंकवाद पर भारत के खिलाफ पाकिस्तान के आरोप मनगढ़ंत : विदेश मंत्रालय

जांच में पता चला है कि दोनों आतंकी दिल्ली में कई जगहों पर हमले की साजिश रच रहे थे. उनके निशाने पर कई वीवीआईपी थे. ये एक व्हाट्सएप ग्रुप का हिस्सा भी थे. इनमें एक पाकिस्तानी भी जुड़ा हुआ है, जो उन्हें तमाम तरह के निर्देश देता था. ग्रुप में कई आतंकियों के वीडियो मिले हैं. पुलिस अब इनके मोबाइल के नंबर की जांच कर रही है. दोनों आतंकी देवबंद और सहारनपुर भी जा चुके हैं. पूछताछ में पता चला है कि आतंकी कश्मीर को अलग देश बनाना चाहते हैं. जम्मू-कश्मीर से अनुछेद 370 हटने से भी वह नाराज थे.

पाकिस्तान : आतंकी वित्त पोषण के मामले में जमात-उद-दावा के प्रवक्ता को 32 साल की कैद

पुलिस अब इनके देवबंद कनेक्शन को खंगालने में लगी है. ये सोशल मीडिया के माध्यम से आतंकी गुट में शामिल हुए थे. कई बार इन्होंने बॉर्डर पार कर पाकिस्तान जाने का प्रयास भी किया लेकिन सेना के जवानों की कड़ी चौकसी के कारण वे अपने इरादे में कामयाब नहीं हो सके. शुरुआती तफ्तीश में पता चला है कि दोनों आतंकियों का रोल मॉडल जैश-ए-मोहम्मद संगठन का लीडर मौलाना मसूद अजहर है. अब्दुल लतीफ मीर का सोशल मीडिया अकाउंट है, जिसमें उसने मौलाना मसूद अजहर की तस्वीरें लगा रखी हैं.

कश्‍मीर में आतंकी अभियान में शहीद जवान के परिजनों को 50 लाख की मदद देगी तेलंगाना सरकार

लतीफ मीर सोशल मीडिया पर मौलाना मसूद अजहर को बेहद ध्यान से सुनता था और उसका इरादा जम्मू-कश्मीर को आजाद कराने और इस्लाम धर्म का प्रचार-प्रसार विश्व भर में करने का था. अरशद मदानी, मौलाना मुफ्ती फैजुल वाहिद और नाजिर अहमद, साहा काश्मी द्वारा दिए जाने वाले मैसेज का प्रचार प्रसार करते थे. आजकल दोनों आतंकी लाहौर निवासी अलताफ मलिक के संपर्क में थे. जो इन दोनों को बॉर्डर क्रॉस कराने की कोशिश में लगा था.


VIDEO: दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने जैश के दो संदिग्ध आतंकियों को किया गिरफ्तार

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com