Share Market: पहली बार 52,000 लेवल के ऊपर बंद हुआ सेंसेक्स, निफ्टी ने भी बनाया रिकॉर्ड

Sensex, Nifty today: बैंकिंग, रियल्टी और फाइनेंशियल सेक्टर में तेजी के बीच बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का इंडेक्स सेंसेक्स पहली बार 52,000 के लेवल के पार बंद हुआ हैं, वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का इंडेक्स निफ्टी भी 15,314 के लेवल पर बंद हुआ है.

Share Market: पहली बार 52,000 लेवल के ऊपर बंद हुआ सेंसेक्स, निफ्टी ने भी बनाया रिकॉर्ड

शेयर बाजार में रिकॉर्ड तेजी, सेंसेक्स पहली बार 52,000 के पार हुआ बंद.

खास बातें

  • घरेलू शेयर बाजार में दिखी रिकॉर्ड तेजी
  • सेंसेक्स ऑल-टाइम हाई पर
  • निफ्टी भी मजबूत
नई दिल्ली:

Share Market Today : घरेलू शेयर बाजार सोमवार यानी 15 फरवरी, 2021 को नए रिकॉर्ड बनाते हुए बंद हुआ है. दोनों ही बेंचमार्क इंडेक्स रिकॉर्ड हाई पर बंद हुए हैं. बैंकिंग, रियल्टी और फाइनेंशियल सेक्टर में तेजी के बीच बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का इंडेक्स सेंसेक्स पहली बार 52,000 के लेवल के पार बंद हुआ हैं, वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का इंडेक्स निफ्टी भी 15,314 के लेवल पर बंद हुआ है.

क्लोजिंग पर सेंसेक्स 609.83 अंकों यानी 1.18% की उछाल लेकर 52,154.13 पर बंदा हुआ, वहीं निफ्टी 151.40 अंकों यानी 1% की बढ़त लेकर 15,314.70 पर रुका है. ट्रेडिंग सेशन खत्म होते-होते लगभग 1337 शेयरों में तेजी दर्ज गई गई, 1648 शेयरों में गिरावट आई है, वहीं 149 शेयरों में कोई बदलाव नहीं हुआ है.


बता दें कि आज सुबह घरेलू शेयर मार्केट रिकॉर्ड ऊंचाई के साथ खुले थे.  बाजार खुलते ही बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का इंडेक्स सेंसेक्स पहली बार 52,000 के लेवल को पार कर गया. वहीं, निफ्टी भी रिकॉर्ड लेवल पर ट्रेड कर रहा था. सेंसेक्स सुबह 9:36 बजे 455.38 अंक के उछाल के साथ 51999.68 पर कारोबार कर रहा था, जबकि इससे पहले कारोबार के दौरान वह 52110.74 तक गया था. निफ्टी सुबह 9:36 बजे 120.15 अंक की तेज़ी के साथ 15283.45 पर कारोबार कर रहा था.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


इस काराबोरी हफ्ते को लेकर बाजार विश्लेषकों का कहना है कि इस हफ्ते बाजार ग्लोबल संकेतों पर काफी हद तक निर्भर करेगा. विश्लेषकों ने कहा है कि कंपनियों के तिमाही परिणामों की घोषणा का दौर करीब करीब पूरा होने को है, ऐसे में बाजार में कुछ कंसॉलिडेशन (गिरावट) भी देखने को मिल सकता है. उनकी राय में रुपए की विनिमय दर और विदेशी संस्थागत निवेशकों के निवेश के रुझानों से भी बाजार प्रभावित हो सकता है.