"रेप का आरोपी मुठभेड़ में मारा जाएगा ", हैदराबाद में 6 साल की बच्ची से दुष्कर्म- हत्या के केस में बोले मंत्री

Hyderabad Rape Murder : प्रारंभिक रिपोर्ट में कहा गया था कि हत्यारोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है. लेकिन बाद में यह सूचना गलत निकली. हैदराबाद शहर में लगातार इस मामले को लेकर विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं और इलाके में तनाव व्याप्त है.

हैदराबाद:

तेलंगाना (Telnagana) की राजधानी हैदराबाद में 6 साल की बच्ची से दुष्कर्म औऱ हत्या के मामले (6 year old girl raped and murdered in Hyderabad) से भारी जनाक्रोश है. बच्ची से रेप औऱ हत्या का आऱोपी पुलिस की पकड़ से अभी दूर है. हैदराबाद में पिछले हफ्ते रेप औऱ हत्या के मामले का आरोपी अभी गिरफ्तार नहीं हुआ है. तेलंगाना के मंत्री केटी रामाराव ने पहले ट्वीट कर कहा था कि उसे कुछ ही घंटों में गिरफ्तार कर लिया गया है. इस बीच तेलंगाना की टीआरएस सरकार के एक मंत्री ने कह दिया है कि इस घिनौने कृत्य का आरोपी एनकाउंटर (Rape Accused Encounter) में मारा जाएगा.

तेलंगाना सरकार के श्रम मंत्री मल्ला रेड्डी ने संवाददाताओं से बातचीत में कहा, "हम दुष्कर्म के आरोपी औऱ हत्यारे को दबोच लेंगे. उसको पकड़ने के बाद एक मुठभेड़ होगी. " पुलिस ने उस हत्यारोपी की एक तस्वीर जारी की है औऱ उसका सुराग देने वाले पर 10 लाख रुपये का इनाम रखा है. आरोपी की पहचान पल्लाकोंडा राजू के तौर पर हुई है, जो बच्ची का पड़ोसी बताया जाता है. लड़की के उसके घर के भीतर मृत पाए जाने के बाद से ही वो फरार है.

खबरों के मुताबिक, लड़की 9 सितंबर से सिंगरेनी कालोनी स्थित उसके घर से लापता हो गई थी. अगले दिन उसकी लाश उसके पड़ोसी के घर से बरामद हुई. लड़की की लाश चादर में लिपटी हुई थी. 


प्रारंभिक रिपोर्ट में कहा गया था कि हत्यारोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है. लेकिन बाद में यह सूचना गलत निकली. हैदराबाद शहर में लगातार इस मामले को लेकर विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं और इलाके में तनाव व्याप्त है. पीड़िता के इलाके के लोग लड़की और उसके परिवार को न्याय दिलाने की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


गौरतलब है कि हैदराबाद में करीब दो साल पहले एक वेटनरी डॉक्टर को दुष्कर्म के बाद जिंदा जलाकर मार दिया गया था. इस मामले की तुलना निर्भया गैंगरेप से की गई और पूरे देश में इसको लेकर गुस्सा फूटा था. इस घटना के चारों आरोपी बाद में एक कथित मुठभेड़ में मार दिए गए थे. मुठभेड़ को फर्जी बताते हुए इसके खिलाफ याचिका भी दाखिल की गई थी.