...तो इंग्लैंड दौरे में अर्जन नगवासवाला बनाएंगे इतिहास, बनेंगे 28 साल बाद पहले ऐसे खिलाड़ी

एक पत्रिका से बातचीत में नगवासवाला (Arjan Nagwaswalla) ने कहा, यह वह मौका है, जिसका मैं लंबे समय से इंतजार कर रहा था. अब यह मुझे मिल गया है और मैं बहुत ही खुश हूं. क्रिकेट का ककहरा अपने बड़े भाई से सीखने वाले अर्जन ने साल 2018-19 में काफी जल्द ही गुजरात रणजी ट्रॉफी टीम में जगह बना ली थी और वह मुंबई के खिलाफ पांच विकेट चटकाकर सुर्खियों में  आए थे. 

...तो इंग्लैंड दौरे में अर्जन नगवासवाला बनाएंगे इतिहास, बनेंगे 28 साल बाद पहले ऐसे खिलाड़ी

अर्जन नगवासवाल को लेकर उत्सुकता बनी हुई है फैंस के बीच

नई दिल्ली:

इंग्लैंड दौरे के लिए शुक्रवार को घोषित हुई 20 सदस्यीय टीम को लेकर करोड़ों भारतीय फैंस के बीच चर्चा जोर-शोर से हो रही है, लेकिन कौतुहल का विषय बने हुए हैं गुजरात के लेफ्टी सीमर अर्जन नगवासवाला (Arjan Nagwaswalla). सोशल मीडिया पर ढूंढे से ढूंढे नहीं मिल रहे, तो ट्विटर पर फैंस सवाल कर रहे है कि कौन हैं ये अर्जन? ये हैं 23 साल के लेफ्टी सीमर, जिन्होंने बहुत ही खामोशी से इंग्लैंड दौरे के लिए घोषित चार स्टैंड-बाय खिलाड़ियों में अपनी जगह बना ली है. पर अब प्रसिद्ध कृष्णा के कोवड-19 पीड़ित होने के बाद हालात ऐसे बनने लगे हैं कि हो सकता है कि अर्जन को टीम में इंग्लैंड दौरे का टिकट मिल जाए. अगर ऐसा हुआ, यह लेफ्टी बॉलर एक बड़ा इतिहास रच देगा. 

नगवासवाला ने फैंस को चौंकाया, इस "साइलेंट परफॉरमेंस" ने इंग्लैंड दौरे में बनाया स्टैंड-बाय

बता दें कि गुजरात के नारगोल गांव से जुड़े अर्जन अगर भारत के लिए खेलते हैं, तो वह साल 1975 के बाद से पहले ऐसे पारसी क्रिकेटर होंगे, जो भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे. करीब 28 साल बाद. साल 1975 में विकेटकीपर फारुख इंजीनियर आखिरी पारसी थे, जिन्हें भारतीय इलेवन का हिस्सा बनने का सौभाग्य प्राप्त हुआ. वहीं, महिला पारसी खिलाड़ियों की बात करें, तो डायना एडुल्जी 1993 में भारत के लिए खेलने वाली आखिरी वीमेन खिलाड़ी रहीं

एक पत्रिका से बातचीत में नगवासवाला ने कहा, यह वह मौका है, जिसका मैं लंबे समय से इंतजार कर रहा था. अब यह मुझे मिल गया है और मैं बहुत ही खुश हूं. क्रिकेट का ककहरा अपने बड़े भाई से सीखने वाले अर्जन ने साल 2018-19 में काफी जल्द ही गुजरात रणजी ट्रॉफी टीम में जगह बना ली थी और वह मुंबई के खिलाफ पांच विकेट चटकाकर सुर्खियों में  आए थे. 

WTC और इंग्लैंड दौरे के लिए BCCI ने तैयार किया प्लान, भारत में 8 दिन बायो बबल तो वहीं..जानें पूरी डिटेल्स

बहरहाल, अर्जन अपने उस समुदाय के लिए गौरव बनकर आए हैं, जिसकी संख्या भारत में बहुत ही कम या न के बराबर है. नगवासवाला कहते हैं, 'अगर मैं इलेवन में खेलता हूं, तो मेरा लक्ष्य वही बना रहेगा, जो आज है या रहा है. मैं पूरी तरह अपना ध्यान अपनी क्षमता पर लगाना चाहता हूं. मेरा भरोसा प्रक्रिया में है और आगे बना रहेगा. 'चलिए भारत के लिए खेलने वाले पारसी खिलाड़ियों पर नजर दौड़ा लीजिए:


1. फिरोज एडुल्जी पालिया 2. सोराबजी होरमसजी मुंचरेशा कोलाह 3. रुस्तमजी जमशेदजी 4. खेरशेद ररुस्तमजी मेहरहोमजी 5. रुस्तमजी शहरियार मोदी 6. जमशेद खुदादद इरानी 7. केके खुर्शीदजी तारपोरे 8. पहलान रतनजी उमरीगर 9. नरिमन जमशेदजी कॉन्ट्रैक्टर 10. रूसी फ्रैमरोज सुर्ती 11. फारुख इंजीनियर 11. डायना इडुल्जी 12. बहरोज इडुल्टी 13. रूसी जीजाभाई (रिजर्व विकेटकीपर, विंडीज दौरा, 1971) 14. अर्जन नगवासवाला (स्टैंड-बाय)

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO:  कुछ महीने पहले हुयी मिनी ऑक्शन में कृष्णप्पा गौतम 9.25 करोड़ रुपये में बिके थे.