मॉक ड्रिल में हिस्सा ले रहे नौसेना अधिकारियों को आतंकवादी समझकर गिरफ्तार किया

मॉक ड्रिल में हिस्सा ले रहे नौसेना अधिकारियों को आतंकवादी समझकर गिरफ्तार किया

दमन:

एक मॉक ड्रिल में हिस्सा ले रहे छह नौसेना अधिकारियों को आज स्थानीय लोगों ने गलती से आतंकवादी समझ लिया, जिसकी वजह से पुलिस ने इन अधिकारियों को कुछ देर के लिए हिरासत में भी ले लिया।

दमन के पुलिस अधीक्षक ईश सिंघल ने बताया कि मुंबई स्थित पश्चिमी नौसेना कमान द्वारा उनकी पहचान की पुष्टि किए जाने के बाद उन्हें रिहा किया गया। ननी दमन इलाके के कुछ लोगों ने बुधवार को पुलिस को सूचना दी कि छह लोग सेना की वर्दी पहनकर संदेहास्पद तरीके से घूम रहे हैं। लोगों को लगा कि वे आतंकवादी हैं।

सिंघल ने कहा, 'हमने उनकी तलाश शुरू कर दी। हमने एक सीसीटीवी फुटेज भी पाया, जिसमें वर्दी पहने इन लोगों को देखा गया।' पुलिस को कदैया के पास स्थित पर एक नौका भी मिली। सिंघल ने कहा, 'हमने तब पांच लोगों को देखा जो वर्दी में नहीं थे और एक मिनी ट्रक के पास खड़े थे। उन्होंने हमें बताया कि वे 200 किलोग्राम वजन वाली कोई सामग्री लेने के लिए यहां आए हैं।'

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


इस पर पुलिस ने तलाशी तेज कर दी। देर रात करीब 1:45 बजे पुलिस ने ननी दमन इलाके में तटरक्षक बल वायु स्टेशन के पास छह लोगों को आखिरकार गिरफ्तार कर लिया।' उन्होंने कहा कि पूछताछ में पता चला कि वे नौसेना अधिकारी हैं जो अपनी नौका 'जेमिनी' से यहां आए थे।
लेफ्टिनेंट कमांडर राहुल मिश्रा टीम की अगुवाई कर रहे थे। सिंघल ने बताया कि नौसेना ने पुलिस को मॉक ड्रिल के बारे में कोई सूचना नहीं दी थी।