विनेश फोगाट ने टोक्यो ओलिंपिक के लिए क्वालीफाई किया, पूजा ढांडा हासिल कर सकती हैं 'बड़ी उपलब्धि'

विनेश फोगाट ने टोक्यो ओलिंपिक के लिए क्वालीफाई किया, पूजा ढांडा हासिल कर सकती हैं 'बड़ी उपलब्धि'

Vinesh Phogat टोक्यो ओलिंपिक के लिये क्वालीफाई करने वाली पहली भारतीय रेसलर हैं

खास बातें

  • विश्व कुश्ती चैंपियनशिप में विनेश की कांस्य की आशा कायम
  • पूजा ढांडा 59 किग्रा. वर्ग के सेमीफाइनल में पहुंचीं
  • उनके पास वर्ल्ड चैंपियनशिप में दो पदक जीतने का है मौका
नूर सुल्तान (कजाखस्तान):

World Wrestling Championships: विनेश फोगाट (Vinesh Phogat)बुधवार को यहां 2020 टोक्यो ओलिंपिक के लिये क्वालीफाई करने वाली पहली भारतीय रेसलर बन गई हैं जबकि पूजा ढांडा (Pooja Dhanda) के पास विश्व कुश्ती चैम्पियनशिप (World Wrestling Championships) में दो पदक जीतने वाली पहली महिला पहलवान बनने का मौका है. अमेरिका की सारा एन हिल्डेब्रांट ने कम से कम पांच बार विनेश के दायें पैर को पकड़ने का प्रयास किया लेकिन भारतीय पहलवान ने बेहतरीन रक्षात्मक प्रदर्शन करते हुए उसे फायदा नहीं उठाने दिया और 53 किग्रा में रेपेचेज के दूसरे दौर में 8-2 से जीत हासिल की. विनेश ड्रॉ के दूसरे दौर में मौजूदा चैम्पियन मायू मुकैदा से हार गई थीं. फिर रेपेचज के पहले दौर में उन्होंने यूक्रेन की यूलिया खालवाद्जी को आसानी से 5-0 से पराजित किया.

जो सचिन तेंदुलकर भी नहीं पा सके, वह सम्मान विनेश फोगाट को मिल गया

इस बीच, पूजा ढांडा (Pooja Dhanda) ने 59 किग्रा के सेमीफाइनल में पहुंचकर भारतीय खेमे की खुशी बढ़ा दी, हालांकि यह वर्ग ओलिंपिक में शामिल नहीं है. बुडापेस्ट में 2018 विश्व चैम्पियनशिप में कांस्य पदक जीतने वाली पूजा ने जापान की युजुका इंगाकी के खिलाफ 0-5 से पिछड़ते हुए शानदार वापसी की. उन्होंने मुकाबले में वापसी की लेकिन वह फिर भी 4-7 से पिछड़ रही थीं. इसके बाद भारतीय खिलाड़ी ने अच्छे दांव लगाए और जापानी पहलवान के नीचे से निकलकर पीछे जाकर नीचे गिरा दिया. महज 40 सेकेंड बचे थे और पूजा फिर भी पीछे थीं. पर उन्होंने चार अंक जुटाकर बढ़त बना ली और इसे कायम रखा जिससे उनका सेमीफाइनल में स्थान सुनिश्चित हुआ.उन्होंने प्री क्वार्टरफाइनल में बेलारूस की कटसियारना हंचार को तकनीकी श्रेष्ठता के बूते पराजित किया था और अब वह 2017 यूरोपीय चैम्पियन रूस की लियूबोव ओवचारोवा से भिड़ेंगी.


पूजा पिछले साल बुडापेस्ट में विश्व चैम्पियनशिप पदक जीतने वाली चौथी भारतीय बनी थीं और अब वह दो पदक जीतने वाली देश की पहली महिला पहलवान बन सकती हैं. भारत के पुरुष पहलवान बजरंग पूनिया ने ही सिर्फ विश्व चैम्पियनशिप में दो पदक जीते हैं. विनेश (Vinesh Phogat) ने अपने कैरियर में राष्ट्रमंडल खेलों और एशियाई खेलों के स्वर्ण पदक अपनी झोली में डाले हैं लेकिन विश्व चैम्पियनिशप में पिछले तीन प्रयासों में वह पदक हासिल नहीं कर पायी हैं. अपनी चौथी विश्व चैम्पियनशिप में वह इस प्रतियोगिता के पहले पदक से केवल एक जीत दूर हैं. कांस्य पदक के लिये वह यूनान की पहलवान मारिया प्रेवोलाराकी से भिड़ेंगी. विनेश ने कहा, ‘मैं खुश हूं और राहत महसूस कर रही हूं कि मैंने टोक्यो ओलिंपिक के लिये क्वालीफाई कर लिया है लेकिन यहां अभी चुनौती खत्म नहीं हुई है. मेरा मुकाबला अब पदक के लिये है और मैं इस मौके को चूकना नहीं चाहती. '

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


वीडियो: रेसलर विनेश फोगाट से खास बातचीत



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)