देश में टेक्‍नोलॉजी के नए युग का होगा आगाज, PM मोदी शनिवार को करेंगे 5जी सेवाओं की शुरुआत

4जी की तुलना में 5जी नेटवर्क कई गुना तेज गति देता है और बाधा रहित संपर्क मुहैया कराता है और अरबों जुड़े डिवाइसों को वास्तविक समय में डेटा साझा करने में सक्षम बनाता है.

नई दिल्‍ली :

टेक्‍नोलॉजी के क्षेत्र में कल, शनिवार का दिन भारत के लिए खास होगा. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सुबह 10 बजे देश में 5जी सेवाओं की शुरुआत करेंगे. देश में 5जी तकनीक की क्षमता दिखाने के लिए तीन प्रमुख टेलीकॉम ऑपरेटर, पीएम के समक्ष इस तकनीक का प्रदर्शन करेंगे. Reliance Jio मुंबई के एक स्‍कूल के टीचर को महाराष्‍ट्र, गुजरात और ओडिशा में तीन अलग-अलग स्‍थानों से कनेक्‍ट करेगी. इसके जरिये यह दिखाया जाएगा कि कैसे 5 जी तकनीक टीचर्स को छात्रों के करीब लाकर, इनके बीच की शारीरिक दूरी को दूर करके शिक्षा की सुविधा प्रदान करेगी. Airtel के डेमो में यूपी की एक स्‍कूली छात्रा Virtual reality and Augmented reality की मदद से सौर मंडल के बारे में जानने के लिए लाइव एजुकेशन को देखेगी. यह छात्रा होलोग्राम इमेज के जरिये मंच पर उपस्थित होकर अपने सीखने को अनुभव को पीएम के साथ शेयर करेगी. इसी क्रम में वोडोफोन आइडिया का टेस्‍ट केस दिल्‍ली मेट्रो की एक निर्माणाधीन टनल (सुरंग) में कामगारों की सुरक्षा को डिजिटल ट्विवन (Digital twin) के क्रिएशन के जरिये प्रदर्शित करेगा. Digital twin किसी भी दूरस्‍थ स्‍थान से वास्‍तविक समय में श्रमिकों को सेफ्टी अलर्ट देने में मददगार साबित होगा. इस दौरान प्रधानमंत्री मोदी एक प्रदर्शनी में कई क्षेत्रों में 5 जी टेक्‍नोलॉजी के प्रदर्शन को भी देखेंगे. 

एक आधिकारिक बयान के अनुसार, प्रधानमंत्री चुनिंदा शहरों में 5जी सेवाओं की शुरुआत करेंगे और अगले कुछ वर्षों में क्रमिक रूप से पूरे देश में इसका विस्तार किया जाएगा. भारत पर 5जी का कुल आर्थिक प्रभाव 2035 तक 450 अरब अमेरिकी डॉलर तक होने का अनुमान है. बयान में कहा गया, ‘‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक अक्टूबर, 2022 को भारत में 5जी सेवाओं की शुरुआत करेंगे, और वह 1-4 अक्टूबर 2022 तक नई दिल्ली के प्रगति मैदान में आयोजित होने वाले इंडिया मोबाइल कांग्रेस 2022 के छठे संस्करण का भी उद्घाटन करेंगे.''

बता दें, 4जी की तुलना में 5जी नेटवर्क कई गुना तेज गति देता है और बाधा रहित संपर्क मुहैया कराता है और अरबों जुड़े डिवाइसों को वास्तविक समय में डेटा साझा करने में सक्षम बनाता है. आधिकारिक बयान के अनुसार, ‘‘5जी से नये आर्थिक अवसर और सामाजिक लाभ मिल सकते हैं, जिसके कारण यह भारतीय समाज के लिए एक परिवर्तनकारी शक्ति होने की क्षमता रखता है. यह देश की वृद्धि के लिए पारंपरिक बाधाओं को दूर करने में मदद करेगा, स्टार्टअप और व्यावसायिक उद्यमों द्वारा नवाचारों के साथ ही ‘डिजिटल इंडिया' के दृष्टिकोण को आगे बढ़ाएगा.' 'पांचवीं पीढ़ी यानी 5जी दूरसंचार सेवाओं के जरिये कुछ ही सेकंड में मोबाइल और अन्य उपकरणों पर उच्च-गुणवत्ता वाले लंबी अवधि के वीडियो या फिल्म को डाउनलोड किया जा सकता है. यह एक वर्ग किलोमीटर में करीब एक लाख संचार उपकरणों को 'सपोर्ट' करेगा.

देश की अब तक की सबसे बड़ी दूरसंचार स्पेक्ट्रम की नीलामी में रिकॉर्ड 1.5 लाख करोड़ रुपये की बोलियां प्राप्त हुई थीं. इसमें उद्योगपति मुकेश अंबानी की जियो ने 87,946.93 करोड़ रुपये की बोली के साथ बेचे गए सभी स्पेक्ट्रम का लगभग आधा हिस्सा हासिल किया है. भारत के सबसे धनी व्यक्ति गौतम अडाणी के समूह ने 400 मेगाहर्ट्ज के लिए 211.86 करोड़ रुपये की बोली लगाई थी, इसका इस्तेमाल हालांकि, सार्वजनिक टेलीफोन सेवाओं के लिए नहीं किया जाता है. वहीं, दूरसंचार क्षेत्र के दिग्गज सुनील भारती मित्तल की भारती एयरटेल ने 43,039.63 करोड़ रुपये की सफल बोली लगाई, जबकि वोडाफोन-आइडिया ने 18,786.25 करोड़ रुपये में स्पेक्ट्रम खरीदा है. (भाषा से भी इनपुट)

* कांग्रेस अध्यक्ष पद चुनाव : शशि थरूर और मल्लिकार्जुन खड़गे में टक्कर, 10 बड़ी बातें
* NDTV Exclusive: शशि थरूर ने PM मोदी की सबसे बड़ी ताकत और कमज़ोरी पर की बात"

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

PM मोदी ने वंदे भारत ट्रेन का किया उद्घाटन, कहा- हिंदुस्तान पीछे नहीं रह सकता...