Weather Updates: दिल्ली-UP-बिहार समेत देश के कई हिस्सों में सता रही गर्मी, इन राज्यों में हो सकती है बारिश-बर्फबारी

Weather Forecast Today: मौसम विभाग के मुताबिक, वर्तमान में उत्तर, पश्चिम, मध्य और पूर्वी भारत में अधिकतम तापमान सामान्य से 3 से 6 डिग्री सेल्सियस ऊपर है.

Weather Updates: दिल्ली-UP-बिहार समेत देश के कई हिस्सों में सता रही गर्मी, इन राज्यों में हो सकती है बारिश-बर्फबारी

Weather Forecast Update: इस साल मार्च से मई तक प्रचंड गर्मी के आसार (प्रतीकात्मक तस्वीर)

नई दिल्ली:

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली समेत देश के अन्य हिस्सों में गर्मी के बीच मौसम विभाग ने अनुमान जताया कि इस साल मार्च से मई तक उत्तर, पूर्वोत्तर तथा पूर्व एवं पश्चिम भारत के कुछ हिस्सों में दिन का तापमान सामान्य से अधिक रहेगा. इस बीच, मौसम विभाग ने पश्चिमी विक्षोभ के कारण जम्मू-कश्मीर, लद्दाख, गिलगित बाल्टिस्तान, मुजफ्फराबाद, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में तीन और चार मार्च को बारिश के साथ बर्फबारी की आशंका जताई है. 

मौसम विभाग ने कहा कि अगले 2 से 3 दिनों में अरुणाचल प्रदेश में हल्की से अच्छी बारिश की संभावना है जबकि असम, मेघाल, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा में आंधी-पानी के साथ बिजली कड़कने की आशंका है. चार मार्च को असम और मेघालय में बादल गरज सकते हैं. 

तापमान सामान्य से 3 से 6 डिग्री सेल्सियस ऊपर
मौसम विभाग के मुताबिक, वर्तमान में उत्तर, पश्चिम, मध्य और पूर्वी भारत में अधिकतम तापमान सामान्य से 3 से 6 डिग्री सेल्सियस ऊपर है. इसमें राजस्थान, पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, सौराष्ट्र एवं कच्छ, विदर्भ, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, ओडिशा, बिहार, झारखंड और पश्चिम बंगाल का कुछ हिस्सा शामिल है.   

मार्च से मई तक तापामान सामान्य से अधिक रहने की आशंका
भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने सोमवार को मार्च से मई तक के अपने ग्रीष्मकालीन पूर्वानुमान में कहा कि उत्तर, पूर्वोत्तर तथा पूर्व एवं पश्चिम भारत के कुछ हिस्सों में दिन का तापामान सामान्य से अधिक रहने की आशंका है. हालांकि, दक्षिण एवं उससे सटे मध्य भारत में दिन का तापमान सामान्य से कम रहने का अनुमान जताया गया है. छत्तीसगढ़, ओड़िशा, गुजरात, तटीय महाराष्ट्र, गोवा एवं तटीय आंध्र प्रदेश में अधिकतम तापमान सामान्य से अधिक रहने का अनुमान है. 

1901 के बाद से जनवरी-फरवरी सबसे अधिक गर्म
भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) की ओर से मंगलवार को जारी एक रिपोर्ट के अनुसार, पिछले 121 सालों के औसत तापमान के आधार पर, जनवरी सर्दियों का तीसरा सबसे गर्म महीना था, वहीं न्यूनतम तापमान के आधार पर फरवरी दूसरा सबसे गर्म महीना दर्ज किया गया.  उत्तर पश्चिमी भारत के लिए फरवरी में न्यूनतम और औसत तापमान वर्ष 1901 से लेकर अब तक के कालखंड में सबसे ज्यादा रहा. वर्ष 1901-2021 के बीच किया गया विश्लेषण यह दिखाता है कि जनवरी 2021 में अखिल भारतीय औसत न्यूनतम तापमान 14.78 डिग्री सेल्सियस था. 


(भाषा के इनपुट के साथ)

वीडियो: किसान आंदोलन: सर्दियों के बाद अब गर्मियों की तैयारियां तेज

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com