"कोविशील्ड की प्रभावशीलता ज्यादा होगी अगर टीकों में अंतराल 28 दिन से ज्यादा हो : सीरम इंस्टीट्यूट ने NDTV को बताया

भारत में इस्तेमाल की जा रहीं दोनों वैक्सीन (सीरम की कोविशील्ड और भारत बायोटेक की कोवैक्सीन) दो खुराक वाली हैं, जिन्हें 28 दिनों के अंतराल के बाद दिया जाना है,

सीरम इंस्टीट्यूट के सुरेश जाधव ने कहा कि नतीजे और बेहतर होते अगर खुराक के बीच अंतराल कुछ हफ्ते ज्यादा होता. 

नई दिल्ली:

सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (Serum Institute Of India) द्वारा तैयार वैक्सीन कोविशील्ड ( Covishield) की दोनों खुराक के बीच अंतर अगर 28 दिनों से ज्यादा रहता है तो प्रभावशीलता बढ़ जाती है. भारत में कोविड वैक्सीन (Covid Vaccine) का टीकाकरण शुरू होने के एक दिन पहले सीरम के एक शीर्ष वैज्ञानिक ने शुक्रवार को यह जानकारी दी. 

भारत में इस्तेमाल की जा रहीं दोनों वैक्सीन (सीरम की कोविशील्ड और भारत बायोटेक की कोवैक्सीन) दो खुराक वाली हैं, जिन्हें 28 दिनों के अंतराल के बाद दिया जाना है. Covaxin स्वदेशी वैक्सीन है.सीरम इंस्टीट्यूट के सुरेश जाधव ने कहा कि नतीजे और बेहतर होते अगर खुराक के बीच अंतराल कुछ हफ्ते ज्यादा होता. सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के कार्यकारी निदेशक डॉ. जाधव ने कहा, अगर अंतराल चार हफ्ते भी रहता है तो भी यह बेहतर सुरक्षा देती है, लेकिन 70-80 प्रतिशत के करीब. अगर दोनों टीकों के बीच अंतराल 6-8 हफ्ते या उससे ज्यादा 10 हफ्तों का होता है तो नतीजे और बेहतर रहते हैं. उन्होंने कहा कि फेज 3 के क्लीनिकल ट्रायल 28 दिनों के अंतराल में आयोजित किए गए, जो मानक बन गया. लेकिन अगर दूसरी खुराक कम वक्त में ले ली जाती है तो भी यह 70 फीसदी तक सुरक्षा देती है. 

जाधव ने कहा, " अगर आप लंबे समय तक और ऊंचे स्तर की सुरक्षा चाहते हैं तो यह बेहतर होगा कि इसे 6 से 8 हफ्तों के अंतराल में लिया जाए. डॉ. जाधव ने यह भी स्पष्ट किया कि पहली खुराक लेने के बाद दूसरी बार टीका जरूर लिया जाना चाहिए क्योंकि यह महत्वपूर्ण सुरक्षा देने का काम करता है. कोरोना वायरस से उबर चुके लोगों के लिए वैक्सीनेशन के सवाल पर उन्होंने कहा, कोविड-19 के संक्रमण के बाद भी लोगों को वैक्सीन जरूर लेनी चाहिए. ऐसा देखा गया है कि लोगों को दोबारा संक्रमण भी हो सकता है. 


क्या वैक्सीन लेने के बाद भी वायरस के संक्रमण की संभावना है? 
हां, कोरोना वैक्सीन लेने के बाद भी आपको कोरोना चपेट में ले सकता है, यह सभी बीमारियों में होता है. अंतर यह होगा कि आपको संक्रमण तो होगा, लेकिन बीमारी नहीं होगी. यह बेहद मामूली और बिना लक्षणों वाला होगा.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


क्या दो खुराकों में अलग-अलग वैक्सीन ली जा सकती है ? ​
उन्होंने यह भी कहा कि दोनों वैक्सीनों का घालमेल नहीं करना चाहिए. दोनों खुराक में अलग-अलग वैक्सीन लेने के सवाल पर डॉ. जाधव ने कहा, अलग-अलग वैक्सीन की खुराक अलग होती है, अलग तकनीक होती है, लिहाजा किसी को भी दोनों वैक्सीन नहीं लेनी चाहिए.