जब दर्जनों देशों तक Made in India वैक्सीन पहुंचते देखते हैं, तो माथा और ऊंचा हो जाता है : मन की बात में बोले PM मोदी

आत्मनिर्भर भारत अभियान’ में विज्ञान की शक्ति का बहुत बड़ा योगदान है: मन की बात में बोले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

जब दर्जनों देशों तक Made in India वैक्सीन पहुंचते देखते हैं, तो माथा और ऊंचा हो जाता है : मन की बात में बोले PM मोदी

आत्मनिर्भर भारत का मंत्र गांवों तक पहुंच रहा है: मन की बात में बोले PM मोदी

नई दिल्ली:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) ने आज मन की बात ( Mann ki Baat) का 74वां संस्करण पेश किया. इस मौके पर उन्होंने आत्मनिर्भऱ भारत (Atmanirbhar Bharat) अभियान का जिक्र भी किया. सांइस डे के मौके पर आत्मनिर्भर अभियान की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि आत्मनिर्भर भारत अभियान' में Science की शक्ति का बहुत बड़ा योगदान है. हमें साइंस को 'Lab to Land' के मंत्र के साथ आगे बढ़ाना होगा. उन्होंने बताया कि इसी महीने उन्हें World Intellectual Property Organization, Geneva से patent भी मिली है . ये हमारी सरकार का सौभाग्य है कि वेंकट रेड्डी जी को पिछले साल पद्मश्री से भी सम्मानित किया था.”

Read Also: जल संरक्षण का संदेश दे PM मोदी ने शुरू की 'मन की बात', बोले- 'पारस से भी बढ़कर है पानी'

पीएम मोदी ने बताया कि हैदराबाद के चिंतला वेंकट रेड्डी जी , जिन्होंने, गेहूं , चावल की ऐसी प्रजातियों को विकसित की जो खासतौर पर ‘विटामिन-डी' से युक्त हैं. प्रधानमंत्री ने बताया कि लद्दाख के उरगेन फुत्सौग जी इतनी ऊंचाई पर ऑर्गेनिक तरीके से खेती करके करीब 20 फसलें उगा रहे हैं वो भी साइक्लिक तरीके से, यानी वो, एक फसल के वेस्ट को, दूसरी फसल में, खाद के तौर पर, इस्तेमाल कर लेते हैं.” उन्होंने बताया कि इसी तरह गुजरात के पाटन जिले में कामराज भाई चौधरी ने घर में ही सहजन के अच्छे बीज विकसित किए हैं, लेकिन अब, चिया सीड्स में आत्मनिर्भरता का बीड़ा भी लोग उठा रहे हैं . ऐसे ही यूपी के बाराबंकी में हरिश्चंद्र जी ने Chia seeds (चिया सीड्स) की खेती शुरू की है.” 

पीएम मोदी ने कहा कि जब देश का हर नागरिक अपने जीवन में विज्ञान का विस्तार करेगा, हर क्षेत्र में करेगा, तो प्रगति के रास्ते भी खुलेंगे और देश आत्मनिर्भर भी बनेगा. और मुझे विश्वास है, ये देश का हर नागरिक कर सकता है.” मन की बात कार्यक्रम में प्रधानमंत्री ने कहा “मैं ये भी कहूंगा कि आत्मनिर्भरता की पहली शर्त होती है – अपने देश की चीजों पर गर्व होना, अपने देश के लोगों द्वारा बनाई वस्तुओं पर गर्व होना.” उन्होंने कहा “जब प्रत्येक देशवासी गर्व करता है, प्रत्येक देशवासी जुड़ता है, तो आत्मनिर्भर भारत, सिर्फ एक आर्थिक अभियान न रहकर एक National spirit बन जाता है. 


Read Also: "हिम्मत है तो करो..." : 'मन की बात' पर राहुल गांधी का PM मोदी को चैलेंज

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत में बने कपड़े, भारत के प्रतिभावान कारीगरों द्वारा बनाया गया हैंडीक्राफ्ट का समान, भारत के इलेक्ट्रॉनिक उपकरण, भारत के मोबाइल, हर क्षेत्र में, हमें, इस गौरव को बढ़ाना होगा. उन्होंने कहा कि जब हम इसी सोच के साथ आगे बढ़ेंगे, तभी सही मायने में आत्मनिर्भर बन पाएंगे.” पीएम मोदी ने कहा कि “जब आसमान में हम अपने देश में बने लड़ाकू विमान तेजस को कलाबाजियां खाते देखते हैं, जब भारत में बने टैंक, भारत में बनी मिसाइलें, हमारा गौरव बढ़ाते हैं, जब समृद्ध देशों में हम मेट्रो ट्रेन के मेड इन इंडिया कोच देखते हैं, “जब दर्जनों देशों तक Made in India कोरोना वैक्सीन को पहुंचते हुए देखते हैं, तो हमारा माथा और ऊंचा हो जाता है” पीएम मोदी ने कहा कि आत्मनिर्भर भारत का ये मंत्र, देश के गांव-गांव में पहुंच रहा है.