गुजरात में करीब 12 से15 हजार करोड़ रुपए की हेरोइन बरामद, ED ने दर्ज किया मनी लांड्रिंग का केस

DRI का ये ऑपरेशन अभी भी जारी है. फोरेंसिक लैब द्वारा ड्रग्स की जांच करवाई जा रही है.

नई दिल्ली:

डायरेक्टरेट ऑफ रेवेन्यू इंटेलिजेंस (DRI) ने अब तक की ड्रग्स की सबसे बड़ी खेप बरामद की है. गुजरात के MUNDRA पोर्ट से यह ड्रग्स की खेप पकड़ी गई है. बरामद हेरोइन की कीमत अंतरराष्ट्रीय बाजार में करीब 12 से 15 हजार करोड़ रुपए आंकी जा रही है. ड्रग्स की ये खेप शिप के रास्ते कंटेनरों में छुपा कर अफगानिस्तान से वाया ईरान होते हुए भारत लाई गई थी
. चार दिन चले DRI के एक बडे ऑपरेशन के बाद ये ड्रग्स की खेप बरामद की गई है. इस मामले में कुल 5 लोग गिरफ्तार किए गए है जिसमे कुछ अफगानिस्तान मूल के रहने वाले भी है. 

DRI का ये ऑपरेशन अभी भी जारी है. फोरेंसिक लैब ने ड्रग्स की जांच करवाई जा रही है. सूत्रों के तालिबान की शह पर ये ड्रग्स भारत भेजी गई थी. इसके पहले भी अफगानिस्तान में तालिबान की शह पर करोड़ों की ड्रग्स भारत भेजी जा चुकी है, जिसमे नार्को टेरर एंगल भी शामिल रहा है.

एजेंसी ने एक बयान में कल सोमवार को कहा था, "गुजरात के अहमदाबाद, दिल्ली, चेन्नई, गांधीधाम और मांडवी में तलाशी अभियान चलाया गया." डीआरआई ने कहा था कि पूरे मामले में कथित तौर पर अफगान नागरिकों की संलिप्तता भी सामने आई है.


दुनिया में हेरोइन का सबसे बड़ा उत्पादक अफगानिस्तान है, जो वैश्विक उत्पादन का 80-90 प्रतिशत के बीच आपूर्ति करता है. हाल के वर्षों में अफगानिस्तान में हेरोइन का उत्पादन तेजी से बढ़ा है, जिससे अगस्त में सत्ता में लौटने वाले तालिबान को फंड देने में मदद मिली है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


यह भी पढ़ेंः