Lathmar Holi 2021: बरसाना में आज होगी विश्वप्रसिद्ध लट्ठमार होली की धूम, सुरक्षा के किए गए कड़े इंतज़ाम

Lathmar Holi: मथुरा जिले के बरसाना कस्बे में मंगलवार यानी आज दुनिया भर में प्रसिद्ध ब्रज की लट्ठमार होली खेली जाएगी और ऐसा ही आयोजन कल बुधवार को नंदगांव में होगा.

Lathmar Holi 2021: बरसाना में आज होगी विश्वप्रसिद्ध लट्ठमार होली की धूम, सुरक्षा के किए गए कड़े इंतज़ाम

Lathmar Holi 2021: बरसाना में आज होगी विश्वप्रसिद्ध लट्ठमार होली की धूम.

नई दिल्ली:

Lathmar Holi 2021: मथुरा जिले के बरसाना कस्बे में मंगलवार यानी आज दुनिया भर में प्रसिद्ध ब्रज की लट्ठमार होली खेली जाएगी और ऐसा ही आयोजन कल बुधवार को नंदगांव में होगा. बता दें कि दूर-दूर से लोग लट्ठमार होली को देखने के लिए बरसाना और नंदगांव आते हैं. इस बार भी उनका आगमन हो रहा है, जिसके मद्देनजर प्रशासन ने सुरक्षा के चाक-चौबंद इंतजाम किए हैं. परंपरा के अनुसार, आयोजन से एक दिन पहले दोनों ही गांवों के लोग होली खेलने का निमंत्रण देने के लिए एक-दूसरे के गांवों में जाते हैं. 

Holi 2021: कोरोना के खतरे के बीच ऐसे मनाएं होली का जश्न, ये 10 टिप्स नहीं पड़ने देंगे रंगों को फीका

बरसाना के गोस्वामी समाज के सदस्य कृष्णदयाल गौड़ उर्फ कोका पण्डित ने बताया था, ‘‘फाग आमंत्रण महोत्सव में स्थानीय गोस्वामी समाज के सदस्य और राधारानी की सखियां होली गीतों पर लोकनृत्य करते हैं. इसके बाद सखियों को आदर के साथ विदा किया जाता है. सखियां बरसाना के श्रीजी महल (लाड़िलीजी यानि राधारानी के मंदिर) में होली निमंत्रण को स्वीकार किए जाने की सूचना देती हैं.''

कोका पंडित ने बताया कि दोपहर बाद नन्दगांव का एक हरकारा (प्रतिनिधि) राधारानी के निवास पर जा कर उन्हें निमंत्रण स्वीकार किए जाने की बधाई देने के साथ ही नन्दगांव में होली खेलने के लिए आने का निमंत्रण देता है. उन्होंने बताया कि इस दौरान लड्डुओं का वितरण होता है, जिसे ‘लड्डू लीला' अथवा ‘पाण्डे लीला' भी कहा जाता है.

कोका पण्डित ने बताया कि बरसाना में लट्ठमार होली 23 मार्च को होगी और 24 मार्च को लट्ठमार होली नन्दगांव में खेली जाएगी.

उन्होंने लट्ठमार होली के बारे में बताया,‘‘इस दिन बरसाना की गोपियां नन्दगांव से आए पुरुषों पर लाठियां बरसाकर होली खेलती हैं. नन्दगांव के हुरियारे (होली खेलने वाले) बरसाना की हुरियारिनों (होली खेलने वालियां) की लाठियों की मार अपने हाथों में ली हुई चमड़े की या धातु से बनीं ढालों पर झेलते हैं.''

बरसाना के हुरियार एवं राधारानी मंदिर के सेवायतों में से एक डॉ. संजय गोस्वामी बताते हैं ‘‘बरसाना की लठामार होली देखने के लिए दूर दूर से लोग आते हैं. तब यहां अद्भुद माहौल रहता है.''

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश में भाजपा की सरकार बनने के बाद वर्ष 2018 में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बरसाना और नन्दगांव को तीर्थस्थल तथा लट्ठमार होली आयोजन को राजकीय मेला घोषित कर दिया.

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डॉ गौरव ग्रोवर ने बताया, ‘‘सुरक्षा की दृष्टि से पूरे बरसाना क्षेत्र को पांच जोन और 12 सेक्टरों में विभाजित कर सभी अधिकारियों सहित करीब एक हजार पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है. राधारानी के मंदिर में व्यवस्था संभालने के लिए तो कमाण्डो लगाए गए हैं, जो हर गतिविधि पर नजर रखते हुए व्यवस्था बनाए रखेंगे.''


उन्होंने बताया, ‘‘बरसाना तथा उसके आसपास के मेला क्षेत्र में छोटे-बड़े सभी वाहनों का प्रवेश बंद कर दिया है. वाहन पार्किंग स्थलों पर खड़े कराए गए हैं. मेले में पैदल घूमने की ही अनुमति है.''

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


एसएसपी ने बताया, ‘‘मेला क्षेत्र में पांच अपर पुलिस अधीक्षक, 12 उपाधीक्षक, इतने ही निरीक्षक, 50 उप निरीक्षक, 7 महिला उप निरीक्षक, 650 कांस्टेबल, 50 महिला कांस्टेबल, चार कंपनी पीएसी, 10 गुण्डा दमन दल, चार दमकल, 10 घुड़सवार, बम निरोधक दस्ता और श्वान दस्ता लगाया गया है. सादा वर्दी में भी जवान तैनात किए जा रहे हैं.''
एसपी (देहात) एवं मेलाधिकारी श्रीश चंद्र ने बताया, ‘‘रविवार से ही बरसाना की नाकाबंदी कर 35 स्थानों पर बैरियर लगाए गए हैं.''



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)