ITBP 10वीं अखिल भारतीय पुलिस तीरंदाजी चैंपियनशिप में ओवरऑल चैंपियन बनकर उभरी

भारत-तिब्बत सीमा पुलिस द्वारा आयोजित अखिल भारतीय पुलिस तीरंदाजी चैम्पियनशिप के 10वें संस्करण में भारत-तिब्बत सीमा पुलिस की मजबूत टीमों ने पुरुष और महिला दोनों श्रेणियों की ओवरआल चैंपियनशिप जीत ली है.

ITBP 10वीं अखिल भारतीय पुलिस तीरंदाजी चैंपियनशिप में ओवरऑल चैंपियन बनकर उभरी

भारत-तिब्बत सीमा पुलिस बनी चैंपियन

नई दिल्ली :

भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (ITBP) द्वारा आयोजित अखिल भारतीय पुलिस तीरंदाजी चैम्पियनशिप के 10वें संस्करण में भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (ITBP) की मजबूत टीमों ने पुरुष और महिला दोनों श्रेणियों की ओवरआल चैंपियनशिप जीत ली है. ग्रेटर नोएडा में 39वीं बटालियन आईटीबीपी कैंपस में आज औपचारिक समापन समारोह आयोजित किया गया. इस अवसर पर आईबी के विशेष निदेशक सुनील कुमार बंसल मुख्य अतिथि थे, जिन्होंने विजेताओं को ट्रॉफी प्रदान की. ITBP इस चैंपियनशिप के कुल 111 पदकों में 18 स्वर्ण, 11 रजत और 12 कांस्य पदक सहित कुल 41 पदकों के साथ पदक तालिका में शीर्ष पर रही. राजस्थान पुलिस को 6 स्वर्ण और महाराष्ट्र पुलिस को 4 स्वर्ण पदक प्राप्त हुए और वह समग्र पदक के मामले में दूसरे और तीसरे स्थान पर रही. यह पहली बार है जब ITBP ने अखिल भारतीय तीरंदाजी चैम्पियनशिप की समग्र चैंपियनशिप की दोनों श्रेणियों में जीत हासिल की है. 

ITBP के कांस्टेबल नीरज चौहान और दीप्ति कुमारी को क्रमशः चैंपियनशिप का  सर्वश्रेष्ठ पुरुष और महिला तीरंदाज घोषित किया गया, जिन्होंने रिकर्व स्पर्धाओं में भाग लिया था. विशेष निदेशक बंसल ने इस अवसर पर बोलते हुए कहा कि अखिल भारतीय पुलिस चैंपियनशिप देश के पुलिस बलों की तीरंदाजी प्रतिभाओं के लिए एक बड़ा मंच रही है. आईटीबीपी के एडीजी ए एम प्रसाद ने मुख्य अतिथि का स्वागत किया और कहा कि आईटीबीपी ने चैंपियनशिप के लिए सभी आवश्यक एवं किए हैं. उन्होंने कहा कि आईटीबीपी विभिन्न खेलों के क्षेत्र में विशेष रूप से तीरंदाजी में वर्षों से बहुत अच्छा प्रदर्शन कर रहा है.

NZ vs AUS Final: वॉर्नर के पास T20I क्रिकेट में ऑस्ट्रेलिया के लिए इतिहास रचने का मौका


धन्यवाद प्रस्ताव के दौरान आईटीबीपी के आई जी ट्रेनिंग आई एस दुहन ने कहा कि वर्षों से अखिल भारतीय पुलिस चैंपियनशिप की कई प्रतियोगिताएं का आयोजन करना बल के लिए गर्व का विषय है. उन्होंने कहा कि चैंपियनशिप का शुभंकर 'हिमू' था - जो एक बाघ शावक की कल्पना है जिसका नाम हिमवीर (हिमालय में बर्फीली परिस्थितियों में तैनात आईटीबीपी कर्मियों के लिए प्रचलित) के नाम पर रखा गया था.

कोविड-19 महामारी के संक्रमण की स्थिति के बाद आयोजित इस अखिल भारतीय पुलिस आर्चरी प्रतियोगिता में, केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों, राज्य पुलिस बलों और केंद्रीय पुलिस संगठनों की कुल 24 टीमों ने भाग लिया. 5 दिवसीय लंबी चैंपियनशिप (9 से 13 नवंबर, 2021 तक) में 371 से अधिक पुरुष और महिला तीरंदाजों ने तीरंदाजी की विभिन्न श्रेणियों- रिकर्व, कंपाउंड और भारतीय में पदक / व्यक्तिगत / टीम और मिश्रित स्पर्धाओं में प्रतिस्पर्धा की.

हसन अली ने पाक क्रिकेट प्रमियों से मांगी माफी, कहा- मुझसे ज्यादा दुखी शायद ही हों आप

अखिल भारतीय पुलिस खेल- अखिल भारतीय पुलिस खेल नियंत्रण बोर्ड (AIPSCB) द्वारा समन्वित हर साल विभिन्न खेलों के लिए प्रतिवर्ष आयोजित किया जाता है. खेलों का इतिहास 70 साल पुराना है और अखिल भारतीय पुलिस खेलों का पहला संस्करण 1951 में आयोजित किया गया था. तीरंदाजी को 2013 से AIPSCB नियंत्रित वार्षिक पुलिस खेलों की सूची में शामिल किया गया था.

NZ vs AUS: विलियम्सन ज्यादा हुनरमंद लेकिन किसका पलड़ा रहेगा भारी?

. ​

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com