सुप्रीम कोर्ट ने कोरोना काल में पिछले साल 9 माह में 43,713 मामलों में सुनवाई की, 231 दिन कार्य किया

सुप्रीम कोर्ट में पिछले तीन वर्षों में औसतन 268 दिनों की तुलना में रजिस्ट्री 271 दिनों तक कामकाज करती रही. तकनीकी बाधाओं और कम कार्यबल जैसी चुनौतियों के बावजूद कोविड -19 प्रोटोकॉल का पूरी तरह पालन किया गया.

सुप्रीम कोर्ट ने कोरोना काल में पिछले साल 9 माह में 43,713 मामलों में सुनवाई की, 231 दिन कार्य किया

Supreme Court : कोरोना काल के 9 माह में करीब 1998 बेंचें बैठीं

नई दिल्ली:

सुप्रीम कोर्ट ने अपनी स्थापना की 71वीं वर्षगांठ (Supreme Court 71 Years) की शुरुआत पर आंकड़े जारी किए हैं. अदालत ने गुरुवार को बताया कि कोरोना काल (Corona period) के बीच 2020 में वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से उसने 43,713 मामलों की सुनवाई की.  23 मार्च 2020 से 31 दिसंबर 2020 तक करीब 9 माह की अवधि के दौरान 1998 बेंच बैठीं, ताकि वर्चुअल मोड के माध्यम से मामलों की सुनवाई की जा सके.


शीर्ष अदालत की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार, अदालत ने वर्ष 2020 में 231 दिनों के लिए कार्य किया , जिसमें 13 दिन छुट्टियों के थे. पिछले तीन वर्षों में औसतन 268 दिनों की तुलना में रजिस्ट्री 271 दिनों तक कामकाज करती रही. इसमें कहा गया है कि तकनीकी बाधाओं और कम कार्यबल जैसी चुनौतियों के बावजूद कोविड -19 प्रोटोकॉल का पूरी तरह पालन किया गया. सुप्रीम कोर्ट में 31 दिसंबर 2020 तक वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से 1,998 बेंचों द्वारा 43,713 मामलों में सुनवाई आयोजित की गई.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


उच्चतम न्यायालय की ओर से यह भी  बताया है कि अदालत के 408 अधिकारी / कर्मचारी कोविड-19 से संक्रमित हुए और एक का निधन हो गया. हालांकि, लगभग 99 प्रतिशत पॉजिटिव पाए गए अधिकारियों / कर्मचारियों के केस लक्षण रहित या हल्के लक्षणों वाले थे सुप्रीम कोर्ट में कोविड -19 प्रोटोकॉल का पालन किया गया और थोड़े-थोड़े अंतराल पर अधिकारियों / कर्मचारियों के नियमित परीक्षण किए गए. साथ ही सैनेटाइजेशन की प्रक्रिया भी अपनाई गई.