IND vs SL 1st T20I: भारत ने पहला मैच 38 रन से जीता, सीरीज में 1-0 की बढ़त पर टीम धवन

India vs Sri Lanka 1st T20I: पहले बैटिंग का न्योता पाने के बाद भारत ने श्रीलंका के सामने जीत के लिए 165 रन का लक्ष्य रखा. और भारत को इस स्कोर तक पहुंचाने में अहम योगदान रहा बेहतरीन फॉर्म में चल रहे सूर्यकुमार यादव (50 रन, 34 गेंद, 5 चौके, 2 छक्के) और कप्तान शिखर धवन  (46 रन, 36 गेंद, 4 चौके, 1 छक्का) ने. सूर्य ने बेहतरीन 50 रन बनाए, लेकिन गलत यह रहा कि वह 16वें ओवर में आउट हुए, जब सब उनसे आखिर तक खेलने की उम्मीद कर रहे थे.

IND vs SL 1st T20I: भारत ने पहला मैच 38 रन से जीता, सीरीज में 1-0 की बढ़त पर टीम धवन

Sl vs Ind: भुवनेश्वर कुमार मैन ऑफ द मैच रहे

खास बातें

  • भुवनेश्वर कुमार बने मैन ऑफ द मैच
  • भुवनेश्वर ने चटकाए 4 विकेट
  • सूर्यकुमार ने बनाए 50 रन
कोलंबो:

Sri Lanka vs India 1st T20: कोलंबो को आर. प्रेमदासा स्टेडियम में खेेले जा रहे तीन मैचों की सीरीज के पहले टी20 मुकाबले में भारत ने मेजबान श्रीलंका को 38 रन से हराकर सीरीज में 1-0 की बढ़त हासिल कर ली है. मैच की कहानी आखिरी 5 ओवर में बदली और इस दौरान श्रीलंकाई अनुभवहीन बल्लेबाजों की कलई पूरी तरह से खुल गयी. जीत के लिए 165 रन का पीछा कर रहे श्रीलंका का स्कोर 15 ओवर की समाप्ति पर 4 विकेट पर 107 रन था.

यहां से उसे जीत के लिए 30 गेंदों पर  58 रन की दरकार थी, लेकिन  पारी के 15वें ओवर में फिर से आक्रमण पर लाए गए दीपक चाहर ने एक ही ओवर में दो विकेट चटकाकर श्रीलंका की राह ऐसी मुश्किल की कि यहां से लंकाई टीम ओवर दर ओवर बिखरती चली गयी और दीपक की शुरुआत को भुनाते हुए  मैन ऑफ द मैच भुवनेश्वर कुमार (3.3-0-22-4) एक के बाद विकेट की मुहर लगाते हुए भारत के लिए सर्वश्रेष्ठ बॉलर बन गए. दीपक चाहर ने इस ओवर में हसारंंगा और असालंका को आउट करके ऐसा शिकंजा लंकाइयों पर कसा कि मेजबान बल्लेबाज इससे बाहर ही नहीं निकल सके. पांचवां विकेट भारत को फिर से आक्रमण पर आए दीपक चाहर ने दिलाया, जब जम चुके चरिथ असालंका (44) को पृथ्वी के हाथों लपकवा दिया तो इसी ओवर में एक ही गेंद के बाद हसारंगा खाता भी नहीं खोल सके और प्लेडऑन हो गए. 

SCORE BOARD


इसके बाद अगले और पारी के 17वें ओवर की आखिरी गेंद पर भुवनेश्वर ने करुणारत्ने को बोल्ड करके भारत के जीत के दावे को और आगे बढ़ा दिया. अगले ओवर में पहला मैच खेल रहे वरुण चक्रवर्ती ने मेजबान कप्तान शनाका को बोल्ड किया, तो पारी के 19वें ओवर में भुवनेश्वर ने शुरुआती तीन गेंदों के भीतर उडाना और चमीरा को पवेलियन की राह दिखाकर भारत की जीत की औपचारिकात पूरी कर दी. श्रीलंकाई पारी 18.3 ओवरों में 126 रन पर सिमट गयी और श्रीलंका के लिए भारत का 164 का स्कोर बल्लेबाजी के लिए आसान पिच कहीं और कहीं ज्यादा बड़ा साबित हुआ. भुवनेश्वर कुमार ने लंकाइयों की उम्मीद से पहले लंका लगा दी और भुवनेश्वर कुमार अपने प्रदर्शन से मैन ऑफ द मैच झटकने में सफल रहे. 

वहीं, मैच चौथी सफलता हार्दिक पंड्या को मिली, जिन्होंने बंडारा को बोल्ड कर अपने लिए कुछ राहत लेकर आए. चौथे विकेट से पहले श्रीलंका  लगातार ओवरों में दो विकेट गंवाकर बैकफुट पर आ गया. वास्तव में मेजबान ने सिर्फ छह गेंदों के भीतर धनंजय और अविष्का के विकेट गंवा दिए. अविष्का को भुवनेश्वर ने शिकायर बनाया, तो  दूसरे आउट होने वाले बल्लेबाज धनंजय डि सिल्वा (9) रहे, जिन्हें चहल ने बोल्ड कर दिया. मेजबानों नेअपना पहला विकेट मिनोद भनुका (10) के रूप में गंवाया, जिन्हें क्रुणाल की गेंद पर सूर्यकुमार ने लपका. 

पावर प्ले (शुरुआती 6 ओवर): नहीं दिखी लंकाई पावर
आसान नहीं था  लंकाई ओपनरों के लिए शुरुआती 36 गेंदों के खिलाफ फायदा उठाना, जब 30 गज के घेरे के बाहर सिर्फ 2 फील्डर होते हैं. योग्यता भी चाहिए होती है और अनुभव भी और दोनों का ही अभाव दिखा लंकाई बल्लेबाजों में इस दौरान. हार्दिक ने दूसरे ही ओवर में एक आसान कैच छोड़ दिया था मिनोद का, लेकिन इसका  वह फायदा नहीं उठा सके और तीसरे ओवर में क्रुाल पंड्या ने उनकी पारी का अंत कर दिया. कुछ स्ट्रोक अविष्का फर्नांडो के ओवर से निकले, तो इक्का-दुक्ता मिनोद से और इससे श्रीलंकाई शुरुआती 6 ओवरों में 1 विकेट पर 46 रन तक ही पहुंच सके. जैसी शुरुआत चाहिए थी, वैसी नहीं मली.

इससे पहले बैटिंग का न्योता पाने के बाद भारत ने श्रीलंका के सामने जीत के लिए 165 रन का लक्ष्य रखा. और भारत को इस स्कोर तक पहुंचाने में अहम योगदान रहा बेहतरीन फॉर्म में चल रहे सूर्यकुमार यादव (50 रन, 34 गेंद, 5 चौके, 2 छक्के) और कप्तान शिखर धवन  (46 रन, 36 गेंद, 4 चौके, 1 छक्का) ने. सूर्य ने बेहतरीन 50 रन बनाए, लेकिन गलत यह रहा कि वह 16वें ओवर में आउट हुए, जब सब उनसे आखिर तक खेलने की उम्मीद कर रहे थे, लेकिन उन्होंने भारत को तब सहारा दिया जब टीम की शुरुआत भी खराब रही थी, जब पृथ्वी शॉ (0) अपने करियर के पहले ही मैच में पारी की पहली ही गेंद पर बिना खाता खोले आउट हो गए थे, तो संजू सैमसन (27) भी जमकर आउट हो गए थे.

बहरहाल, भारत ने  तीसरा विकेट धवन का गंवाया, जिन्होंने 46 रन बनाए. इससे पहले भारत के लिए शुरुआत सिर मुंडाते ही ओले पड़ने जैसी रही, जब चमीरा ने पारी की पहली गेंद पर पृथ्वी को विकेट के पीछे लपकवा दिया. न तो पृथ्वी पूरी तरह फ्रंटफुट पर दिखायी पड़े और न ही बैकफुट पर. और काफी हद तक यॉर्कर गेंद उनके बल्ले को छूते हुए विकेटकीपर मिनोद के हाथों में जा समायी. इसके बाद संजू सैमसन (27) ने मिलकर धवन के साथ उबारने की कोशिश की और पावर-प्ले के 6 ओवरों में स्कोर को 1 विकेट पर 51 तक ले गए, लेकिन पावर-प्ले खत्म हुआ, संजू की पारी पर हसारंगा ने भी ब्रेक लगा दिया. गेंद को पढ़ने में चूके और एलबीडब्ल्यू करार दिए गए. सूर्यकुमार के बाद हार्दिक पंड्या (10) भी कुछ खास तीर नहीं चला सके, तो एक छोर पर नंबर छह पर खेलने आए इशान किशन (नाबाद 20 रन, 14 गेंद, 1 चौका, 1 छक्का) ने अपनी ओर से जितनी कोशिश हो सकती थी, की. और टीम धवन कोटे के 30 ओवरों में 5 विकेट पर 164 रन तक पहुंचने में कामयाब रही.

सूर्यकुमार यादव के क्या कहने पर...
सूर्यकुमार मानों वहीं से शुरू करते हैं, जहां वह छोड़ते हैं. फिर चाहे वह वनडे हो या टी20. और यहां भी सैमसन के आउट होने के बाद  सूर्यकुमार के टेमप्रामेंट पर रत्ती भर भी असर नहीं पड़ा. वही बेहतरीन ऑनड्राइव, वही बेहतरीन स्कूप स्वीप और वही शानदार गति. सबकुछ एकदम सूर्यकुमार ब्रांड क्रिकेट! नतीजा यह रहा कि सूर्यकुमार ने 34 गेंदों पर 5 चौकों और 2 छक्कों से 50 रन बनाए. एक उम्दा अर्द्धशतक. बस गलती यही हो गयी कि वह 16वें ओवर में तब आउट हो गए, जब सभी उनके नॉटआउट रहते हुए भारत के लिए आखिरी ओवर में और धुआंधार और बेहतर स्कोर की उम्मीद कर रहे थे. 

पावर प्ले (शुरुआती 6 ओवर): स्कोर बेहतर होना था लेकिन...

जब शुरुआत ऐसी हो, तो पावरफुल गेम की उम्मीद बहुत कम हो जाती है. और ऐसा ही हुआ, चमीरा की पहली ही गेंद पर पृथ्वी शॉ करियर के पहले ही मैच में विकेट के पीछे  लपके गए. और खराब शुरुआत हुई, तो एप्रोच का गियर भी बदल गया धवन और संजू सैमसन का. धवन ने दूसरे ओवर की आखिरी गेंद पर चौका जड़ा, तो जब बदलाव के तौर पर अकिला चौथा ओवर लेकर आए, तो धवन के बल्ले से दो चौक और निकले, लेकिन पावर-प्ले के आखिरी ओवर में यह संजू सैमसन का धनंजय के खिलाफ बेहतरीन सीधा  छक्का और चौका ही था कि भारत शुरुआती 6 ओवर में स्कोर को 1 विकेट पर 51 तक ले गया, लेकिन एक बात साफ है कि जब विश्व कप नजदीक आ रहा है, तो स्कोर इस पिच पर और बेहतर होना चाहिए था..पावर कहीं ज्यादा दिखनी चाहिए थी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. 
 

इससे पहले टॉस श्रीलंका ने जीता और उसने पहले बॉलिंग करने का फैसला लिया. दोनों देशों ने अपनी-अपनी इलेवन में बदलाव भी किए. भारत के लिए पृथ्वी और वरुण चक्रवर्ती करियर का पहला टी-20 खेल रहे हैं, तो श्रीलंका के लिए अच्छी बात यह रही कि हसारंगा फिट होकर मैदान पर उतरे उनकी मांसपेशियों में वनडे सीरीज के दौरान खिंचाव आ गया था. बहरहाल, उनकी सेवा का ज्यादा  फायदा टीम को नहीं हुआ. चलिए मुकाबले में खेलीं दोनों देशों की फाइनल XI पर भी गौर फरमा लें: 

भारत: 1. शिखर धवन (कप्तान) 2. पृथ्वी शॉ 3. इशान किशन 4. सूर्यकुमार यादव 5. संजू  सैमसन 6. हार्दिक पंड्या 7. क्रुणाल पंड्या 8. दीपक चाहर 9. भुवनेश्वर कुमार 10. युजवेंद्र चहल 11. वरुण चक्रवर्ती

श्रीलंका: 1. दसुन शनाका (कप्तान) 2. अविष्का फर्नांडो 3. मिनोद भनुका (विकेटकीपर) 4. धनंजय डि सिल्वा 5. चरिथ असालंका 6. एशेन बंडारा 7. वनिंदु हसारंगा 8. चमिका करुणारत्ने 9. इसुरु उडाना 10. अकिला धनंजय 11. दुशमंथा चमीरा

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: कुछ दिन पहे ही मोहम्मद कैफ ने श्रीलंका सीरीज को लेकर एनडीटीवी से खास बात की थी. ​