NEET 2024 परीक्षा में बचे हैं महज दो महीने, इस स्ट्रेटजी से आसान है नीट परीक्षा क्रैक करना

NEET UG 2024: नीट परीक्षा के होने में महज दो महीने बचे हैं. वहीं लाखों बच्चे बोर्ड परीक्षा 2024 के साथ इस साल नीट दे रहे हैं. ऐसे में उन छात्रों के लिए नीट तैयारी के लिए काफी कम समय है.

NEET 2024 परीक्षा में बचे हैं महज दो महीने, इस स्ट्रेटजी से आसान है नीट परीक्षा क्रैक करना

NEET 2024 परीक्षा में बचे हैं महज दो महीने, इस स्ट्रेटजी से आसान है नीट परीक्षा क्रैक करना

नई दिल्ली:

NEET UG 2024: मेडिकल की सबसे प्रतिष्ठित परीक्षा नीट यानी नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेंस टेस्ट (NEET 2024) के लिए आवेदन प्रक्रिया फिलहाल शुरू है. नीट की परीक्षा इस साल 5 मई को होनी है. इस परीक्षा के होने में महज दो महीने बचे हैं. वहीं लाखों बच्चे बोर्ड परीक्षा 2024 के साथ इस साल नीट दे रहे हैं. ऐसे में उन छात्रों के लिए नीट तैयारी के लिए काफी कम समय है. हालांकि संतुलित दिनचर्या, लगन, कठिन परिश्रम और सही रणनीति के साथ छात्र टॉप 100 लिस्ट में अपनी रैंक सुनिश्चित कर सकते हैं. 

CBSE Board Exam 2024: सीबीएसई बोर्ड परीक्षा पास होने के लिए इतने अंक जरूरी, 10वीं, 12वीं की मार्किंग स्कीम यहां

नीट परीक्षा में जिन विषयों से प्रश्न पूछे जाते हैं, उनपर रणनीति बनाने से पहले नीट परीक्षा के स्वरूप को जानने की जरूरत है. नीट परीक्षा की अवधि 200 मिनट की होती है. इस परीक्षा में 720 अंकों के लिए प्रश्न पूछे जाते हैं. प्रत्येक विषय यानी फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी में दो सेक्शन होते हैं. सेक्शन ए में 35 प्रश्न हैं और सेक्शन बी में 15 प्रश्न हैं, जिनमें से छात्रों को किसी 10 को हल करना होता है. नीट परीक्षा में नेगेटिव मार्किंग भी है. सही उत्तर देने पर चार अंक मिलते हैं वहीं गलत उत्तरों पर 1 अंक काट लिए जाते हैं और बिना प्रयास वाले प्रश्नों पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है.

बायोलॉजी की तैयारी

नीट परीक्षा का मेन विषय बायोलॉजी है. इसलिए इस विषय की तैयारी एक दिन जोरदार होनी चाहिए. बायो की तैयारी एनसीईआरटी की किताब से करें. मानव प्रजनन और जैव प्रौद्योगिकी की थ्योरी, प्रोसेस, वंशानुक्रम के आणविक आधार और वंशानुक्रम और भिन्नता के सिद्धांतों पर अपनी व्यापक समझ विकसित करें. इसके अलावा बायोटेक्नोलॉजी के सिद्धांत और प्रक्रियाएं, वंशानुक्रम और विविधता के सिद्धांत, वंशानुक्रम का आणविक आधार, जैव अणु, मानव प्रजनन, जीवन की इकाई, फूलों के पौधों में यौन प्रजनन, विकास, पशु साम्राज्य टॉपिक पर पकड़ अच्छी रखें. मॉक टेस्ट के दौरान बायोलॉजी पेपर को 45-50 मिनट के भीतर पूरा करने का लक्ष्य रखें.

जामिया मिलिया इस्लामिया में एडमिशन 2024 की प्रक्रिया शुरू, बीटेक कोर्स में JEE Main 2024 और बीडीएस में NEET 2024 से मिलेगा एडमिशन

केमिस्ट्री का पेपर

अकार्बनिक रसायन विज्ञान को अच्छी तरह पढ़ें, इसमें फॉर्मूला को याद रखें. इसके अलावा थर्मोडायनामिक्स, पी-ब्लॉक तत्व, संतुलन, इलेक्ट्रोकैमिस्ट्री, हाइड्रोकार्बन, रासायनिक बंधन और आणविक संरचना, अल्कोहल, फिनोल और ईथर, समन्वय यौगिक, रासायनिक कैनेटीक्स, बायोमोलेक्युलस, एल्डिहाइड, कीटोन और कार्बोक्जिलिक एसिड और कार्बनिक रसायन विज्ञान में बुनियादी सिद्धांत और तकनीकें जैसे अध्यायों पर ध्यान दें.

IIT मद्रास समर फेलोशिप के लिए आवेदन शुरू, शानदार स्टाइपेंड, IITian नॉट एलिजिबिल

फिजिक्स की पढ़ाई

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

भौतिकी विषयों को उनकी कठिनाई के स्तर के आधार पर सूचीबद्ध करें और उसके अनुसार तैयारी करें. फिजिक्स बायो स्टूडेंट के लिए थोड़ा मुश्किल होता है, हालांकि इसकी तैयारी एनसीईआरटी की किताब से अच्छी तरह की जा सकती है. फिजिक्स के फॉर्मूले को जाने से पहले मौलिक विचारों और अवधारणाओं को जरूर समझें. इसके अलावा इलेक्ट्रीसिटी, सेमीकंडक्टर, मेटेरियल डिवाइस, रे ऑप्टिक्स, ऑप्टिकल इंस्ट्रूमेंट्स जैसे पाठ को अच्छी तरह समझें और पढ़ें.