NDTV Khabar

संयुक्त राष्ट्र महिला के द्वारा जानिए महिलाओं पर जलवायु परिवर्तन का असर

Updated: 07 मार्च, 2022 07:17 PM

हर साल, 8 मार्च को एक अनूठी थीम के संग 'अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस' मनाया जाता है, इस वर्ष की थीम 'जेंडर इक्वेलिटी टुडे फॉर ए सस्टेनेबल टुमॉरो' रखी गई है. संयुक्त राष्ट्र महिला के द्वारा कुछ तथ्य साझा किए गए हैं जिनपर आपको एक नज़र डालनी चाहिए.

संयुक्त राष्ट्र महिला के द्वारा जानिए महिलाओं पर जलवायु परिवर्तन का असर

जलवायु परिवर्तन से अधिक लिंग आधारित हिंसा, बाल विवाह में बढ़ोतरी, और खराब यौन और प्रजनन स्वास्थ्य हो सकता है.

संयुक्त राष्ट्र महिला के द्वारा जानिए महिलाओं पर जलवायु परिवर्तन का असर

दुनिया भर में जलवायु संबंधी आपदाओं और परिवर्तनों से विस्थापित होने वालों में 80 प्रतिशत महिलाएं और लड़कियां ही पाई गई हैं.

संयुक्त राष्ट्र महिला के द्वारा जानिए महिलाओं पर जलवायु परिवर्तन का असर

विश्व के खाद्य उत्पादन में महिलाओं का वर्चस्व 50-80 प्रतिशत है, लेकिन उनके पास या उनके नाम पर 10 प्रतिशत से भी कम भूमि है.

संयुक्त राष्ट्र महिला के द्वारा जानिए महिलाओं पर जलवायु परिवर्तन का असर

गरीबी की स्थिति में रहने वाले 1.3 अरब लोगों में से 70 फीसदी महिलाएं ही हैं. शहरी क्षेत्रों में, 40 प्रतिशत गरीब परिवारों का नेतृत्व महिलाओं द्वारा ही किया जाता है.

संयुक्त राष्ट्र महिला के द्वारा जानिए महिलाओं पर जलवायु परिवर्तन का असर

COVID-19 महामारी के कारण महिलाओं के खिलाफ हिंसा और बढ़ते जा रहे हैं.

Advertisement

 
 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com