बजट सत्र का पहला चरण तय वक्त के दो दिन पहले 13 फरवरी को खत्म होगा

यह तय किया गया है कि राज्यसभा 15 फरवरी को निर्धारित बैठक की बजाय 13 फरवरी को होगी, यह बजट सत्र (Budget Session) के पहले चरण की आखिरी बैठक होगी.

बजट सत्र का पहला चरण तय वक्त के दो दिन पहले 13 फरवरी को खत्म होगा

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण सोमवार को संसद में बजट पेश करेंगी (फाइल) 

नई दिल्ली:

संसद के बजट सत्र का पहला चरण 15 फरवरी की बजाय दो दिन पहले 13 फरवरी को खत्म होगा. सूत्रों ने कहा कि राज्यसभा ने अपनी बैठकों में बदलाव किया है. राज्यसभा के सभापति (Rajyasabha Chairman) वेंकैया नायडू ने सर्वदलीय बैठक (All Party Meeting) के दौरान सभी दलों से सुचारू और प्रभावी रूप से कामकाज चलाने में सहयोग देने की अपील की है.

सूत्रों का कहना है कि तमाम दलों के नेताओं ने भरोसा दिया है कि बैठकों के दौरान वे चर्चा या बहस में पूरी सहभागिता देंगे. सूत्रों ने बैठक के बाद बताया कि यह तय किया गया है कि राज्यसभा 15 फरवरी को निर्धारित बैठक की बजाय 13 फरवरी को होगी, यह बजट सत्र (Budget Session) के पहले चरण की आखिरी बैठक होगी.सदन तब स्थगित कर दिया जाएगा ताकि विभागों से जुड़ी संसदीय समितियां विभिन्न विभागों और मंत्रालयों से जुड़ी अनुदान मांगों का आकलन कर सकें. सदन दोबारा 8 मार्च को आहूत किया जाएगा.

सरकार के कई मंत्रियों और विभिन्न दलों के 25 नेताओं ने इस बैठक में हिस्सा लिया. नेताओं ने राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा के लिए और ज्यादा वक्त मांगा है. इस पर नायडू ने संसदीय कार्य मंत्री प्रहलाद जोशी और अन्य संबंधित लोगों से समयावधि पर दोबारा काम करने को कहा है.राज्यसभा के सभापति ने पाया है कि चर्चा के ये दोनों विषय सदस्यों को विभिन्न मुद्दों पर अपनी राय रखने का मौका देंगे, जिसके लिए ज्यादा समय आवंटित किया जा सकता है.


नायडू (Venkaiah Naidu) ने मंत्रियों से विधेयक पर चर्चा और बहस का जवाब देने के दौरान संक्षिप्त में अपनी बात कहने की कला सीखने का अनुरोध किया ताकि अन्य सदस्यों को ज्यादा समय मिल सके.छोटे दलों और समूहों के सदस्यों को सदन में बहस का पर्याप्त समय आवंटित करने के मुद्दे पर चर्चा की गई.इस पर सभापति ने कहा कि ऐसे सदस्यों को उचित समय देने का प्रयास किया जाएगा. हालांकि उन्होंने कहा कि यह संभव नहीं है कि ऐसे छोटे 20 दलों को हर मुद्दे पर बोलने का मौका मिल सके.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


संसदीय कार्य मंत्री के अलावा वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, रेलवे मंत्री पीयूष गोयल, विदेश मंत्री एस. जयशंकर, आवास मंत्री हरदीप सिंह पुरी भी बैठक में उपस्थित थे. राज्यसभा डिप्टी चेयरमैन हरिवंश और सदन के नेता थावरचंद गहलोत भी मौजूद रहे.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)