अडाणी ग्रुप के शेयरों में 25% तक गिरावट, 43,500 करोड़ के शेयर हुए फ्रीज़; जानिए क्यों

Adani Shares Tumble : अडाणी समूह की कंपनियों में हिस्सेदारी रखने वाले कुछ एफपीआई खातों को राष्ट्रीय प्रतिभूति डिपॉजिटरी लिमिटेड (NSDL) ने फ्रीज कर दिया है. इन कंपनियों के शेयरों में सोमवार को सुबह के कारोबार में 25 फीसदी तक की भारी गिरावट देखी गई.

अडाणी ग्रुप के शेयरों में 25% तक गिरावट, 43,500 करोड़ के शेयर हुए फ्रीज़; जानिए क्यों

अडाणी ग्रुप में 43,500 करोड़ की हिस्सेदारी रखने वाले 3 विदेशी फंड्स के अकाउंट फ्रीज. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

नई दिल्ली:

एशिया के दूसरे सबसे अमीर शख्स और अडाणी ग्रुप के चेयरमैन गौतम अडाणी (Gautam Adani) की कंपनियों के शेयर (Adani Shares) घरेलू शेयर बाजार में धड़ाम हो गए हैं. सोमवार को बाजार खुलने के बाद अडाणी समूह की कई कंपनियों के शेयर पांच से लेकर 25 फीसदी तक नीचे गिर गए. समूह की फ्लैगशिप कंपनी अडाणी एंटरप्राइजेज के शेयर तो 25 फीसदी तक नीचे आ गए. यह कंपनी के लिस्ट होने के एक दशक में दर्ज हुई सबसे बड़ी गिरावट है.

दरअसल, अडाणी समूह की कंपनियों में हिस्सेदारी रखने वाले कुछ एफपीआई खातों को राष्ट्रीय प्रतिभूति डिपॉजिटरी लिमिटेड (NSDL) ने फ्रीज कर दिया है. यह खबर आने के बाद इन कंपनियों के शेयरों में सोमवार को सुबह के कारोबार में 25 फीसदी तक की भारी गिरावट देखी गई.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक NSDL ने तीन विदेशी फंडों के खातों को जब्त कर दिया है, जिसके पास अडाणी समूह की चार कंपनियों में हिस्सेदारी है. रिपोर्ट में बताया गया है कि इन खातों को 31 मई या उससे पहले जब्त कर दिया गया था. Reuters की एक रिपोर्ट में बताया गया है कि NSDL ने Albula Investment Fund, Cresta Fund और APMS Investment Fund के अकाउंट्स को फ्रीज़ कर दिया है. ये कंपनियां अडाणी ग्रुप की कंपनियों की बड़ी हिस्सेदार हैं.

फंड का अडाणी के शेयरों पर असर

ये फंड्स बाजार नियामक संस्था SEBI (Security Exchange Board of India) के पास विदेशी पोर्टफोलियो निवेशक के तौर पर दर्ज है. Good Returns वेबसाइट के मुताबिक, इन फंड्स की अडानी एंटरप्राइजेज में 6.82 फीसदी, अडानी ट्रांसमिशन में 8.03 फीसदी, अडानी टोटल गैस में 5.92 फीसदी और अडानी ग्रीन में 3.58 फीसदी हिस्सेदारी है.

रॉयटर्स की रिपोर्ट में बताया गया है कि इन सभी फंड्स ने मिलाकर अडाणी ग्रुप की कंपनियों में लगभग 6 बिलियन डॉलर्स यानी 43,500 करोड़ रुपए का निवेश किया है. लेकिन चूंकि अकाउंट फ्रीज होने का मतलब होता है कि अब ये फंड सिक्योरिटीज- जैसे शेयरों प्रतिभूतियों की खरीद-बिक्री नहीं कर पाएंगे, इनके शेयर लॉक हो चुके हैं. ऐसे में इसका असर अडाणी ग्रुप के शेयरों की कीमतों पर पड़ा है.

क्यों हुए हैं अकाउंट फ्रीज

Economic Times की एक रिपोर्ट में बताया गया है कि इन फंड्स के खिलाफ ये एक्शन नियम के मुताबिक, पूरी जानकारी न देने के कारण हुई हो सकती है. नियम है कि धन शोधन निवारण अधिनियम (PMLA) के तहत कंपनियों को बेनेफिशियल ओनरशिप यानी लाभकारी स्वामित्व के बारे में पूरी जानकारी देनी होती है, लेकिन शायद इस संबंध में पूरी जानकारी नहीं दी गई है. सेबी और NSDL ने इसे लेकर कोई आधिकारिक बयान जारी नहीं किया है.

लोअर सर्किट के नीचे पहुंचे शेयर

शुरुआती कारोबार में अडाणी एंटरप्राइजेज बीएसई पर 24.99 फीसदी की गिरावट के साथ 1,201.10 रुपये पर, अडाणी पोर्ट्स एंड स्पेशल इकोनॉमिक जोन 18.75 फीसदी की गिरावट के साथ 681.50 रुपये पर कारोबार कर रहा था.


इसके अलावा अडाणी ग्रीन एनर्जी पांच प्रतिशत गिरकर 1,165.35 रुपये पर, अडाणी टोटल गैस पांच प्रतिशत गिरकर 1,544.55 रुपये पर, अडाणी ट्रांसमिशन पांच प्रतिशत गिरकर 1,517.25 रुपये पर और अडाणी पावर 4.99 प्रतिशत गिरकर 140.90 रुपये पर आ गए. इन सभी शेयरों ने अपनी लोअर सर्किट सीमा को पार कर लिया.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


(भाषा से इनपुट के साथ)