दिल को लंबी उम्र देती है मुलेठी, गले, आंखों और त्वचा के लिए भी है फायदेमंद...

आज हम आपको बता रहे हैं मुलेठी के फायदों के बारे में. स्वाद में मीठी मुलेठी कैल्शियम, ग्लिसराइजिक एसिड, एंटी-ऑक्सीडेंट, एंटीबायोटिक, प्रोटीन और वसा के गुणों से भरपूर होती है.

दिल को लंबी उम्र देती है मुलेठी, गले, आंखों और त्वचा के लिए भी है फायदेमंद...

अक्सर जरा सा बीमार होने पर हम दवा ले लेते हैं और सोचते हैं कि हमने रोग को बढ़ने से पहले ही खत्म कर दिया. पर हम इस बात को नहीं समझ पाते कि जो दवा हमने ली उसने अदंर जाकर कई नुकसान पहुंचाने की राह बना ली है. अधिक दवाएं लेने की आदत आपके शरीर को और बीमार होने की राह पर अग्रसर कर सकती हैं. इसलिए दवाओं का रुख करने से पहले घरेलू नुस्खों को जरूर अपना कर देख लें. आप एक बार ऐसा करें तो सही, फिर देखें कि कैसे आप इन्हीं की आदत ड़ाल लेंगे और वास्तव में एक हेल्दी जीवन जीने लगेंगे...

आज हम आपको बता रहे हैं मुलेठी के फायदों के बारे में. स्वाद में मीठी मुलेठी कैल्शियम, ग्लिसराइजिक एसिड, एंटी-ऑक्सीडेंट, एंटीबायोटिक, प्रोटीन और वसा के गुणों से भरपूर होती है. इसका इस्तेमाल नेत्र रोग, मुख रोग, कंठ रोग, उदर रोग, सांस विकार, हृदय रोग, घाव के उपचार के लिए सदियों से किया जा रहा है. यह बात, कफ, पित्त तीनों दोषों को शांत करके कई रोगों के उपचार में रामबाण का काम करती है. 


आंखों के लिए फायदेमंद

 
eyes

मुलेठी के क्वाथ से नेत्रों को धोने से नेत्रों के रोग दूर होते हैं. मुलेठी की मूल चूर्ण में बरबर मात्रा में सौंफ का चूर्ण मिलाकर एक चम्मच सुबह शाम खाने से आंखों की जलन मिटती है और आंखों की रोशनी बढ़ती है. अगर आंखें लाल हो जाती हैं, तो मुलेठी को पानी में पीसकर उसमें रूई का फाहा भिगोकर आंखों पर बांधने से आराम मिलेगा. 


कान और नाक
 
throat bacteria may risk joint infections in kids

Photo Credit: iStock


मुलेठी कान और नाक के रोग में भी लाभकारी है. मुलेठी और द्राक्षा से पकाए हुए दूध को कान में डालने से कान के रोगों में फायदा होता है. 3-3 ग्राम मुलेठी और शुंडी में छह छोटी इलायची, 25 ग्राम मिश्री मिलाकर, क्वाथ बनाकर 1-2 बूंद नाक में डालने से नासा रोगों खत्म होते हैं.

मुंह के छाले करे दूर
 
home remedies for mouth ulcers

मुंह के छाले मुलेठी मूल के टुकड़े में शहद लगाकर चूसते रहने से लाभ होता है. मुलेठी को चूसने से खांसी और गले के रोग भी दूर होते हैं. सूखी खांसी में कफ पैदा करने के लिए इसकी 1 चम्मच मात्रा को शहद के साथ दिन में 3 बार चटाना चाहिए. इसका 20-25 मिली क्वाथ सुबह-शाम पीने से श्वास नलिका साफ हो जाती है. मुलेठी को चूसने से हिचकी दूर होती है.

दिल के लिए लाभदायक 
 
heart

मुलेठी हृदय रोग में भी लाभकारी है. 3-5 ग्राम और कुटकी चूर्ण को मिलाकर 15-20 ग्राम मिश्री युक्त जल के साथ प्रतिदिन नियमित रूप से सेवन करने से हृदय रोगों में लाभ होता है. इसके सेवन से पेट के रोग में भी आराम मिलता है. मुलेठी का क्वाथ बनाकर 10-15 मिली मात्रा में पीने से उदरशूल मिटता है.


स्किन को दे हेल्थ
 
oily skin

मुलेठी स्किन प्रॉब्लम्स में भी राहत देती है. फफोड़ों पर मुलेठी का लेप लगाने से वे जल्दी पककर फूट जाते हैं. मुलेठी और तिल को पीसकर उससे घृत मिलाकर घाव पर लेप करने से घाव भर जाता है.

इनपुट आईएएनएस (पतंजलि आयुर्वेद हरिद्धार के आचार्य बालकृष्ण की सलाह पर आधारित) 

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

       
अन्य खबरें