विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Aug 26, 2022

बच्चों की आंखें लापरवाही बरतने पर हो सकती हैं कमजोर, जानिए किस उम्र से शुरू कर देना चाहिए Eye Checkup करवाना 

Kid's Eye Care: छोटी उम्र से ही बच्चों की आंखों पर सही तरह से ध्यान नहीं दिया जाए तो उनकी आंखों की रोशनी युवावस्था से पहले ही कमजोर पड़ सकती है. 

बच्चों की आंखें लापरवाही बरतने पर हो सकती हैं कमजोर, जानिए किस उम्र से शुरू कर देना चाहिए Eye Checkup करवाना 
Eye Care Tips: इस तरह रखें बच्चों की आंखों का ख्याल. 

Parenting Tips: आजकल के समय में जितने बड़े लोगों की आंखों पर चश्मे नजर नहीं आते उससे कही ज्यादा बच्चों की आंखों पर नजर आ जाते हैं. बच्चे कभी किताब, टीवी, कंप्यूटर तो कभी मोबाइल में आंखें गढ़ाए बैठे रहते हैं जिसका असर उनकी आंखों के नीचे पड़ने वाले काले घेरों या फिर कमजोर होती आंखों (Weak Eyesight) से साफ झलकता है. ऐसे में बेहद जरूरी है कि माता-पिता (Parents) बच्चों की आंखों के साथ ना खुद खिलवाड़ करें और ना ही बच्चों को करने दें और समय रहते उनकी आंखों की देखभाल (Eye Care) की तरफ गौर करें जिससे उनकी आंखें कमजोर ना पड़ें. चलिए जानते हैं कि बच्चों की आंखों का चेकअप कब करवाना चाहिए और उनकी आंखों की सही देखभाल कब की जाए. 

International Dog Day पर अपने पालतू की एनर्जी बढ़ाने के लिए अपनाएं ये आदतें और फिर मुस्कुराते हुए कहिए हैपी डॉग्स डे


बच्चों की आंखों की देखभाल | Children's Eye Care 


बच्चे की आंखों का टेस्ट (Eye Test) 3 साल की उम्र से करवाया जा सकता है. इस उम्र में बच्चों का एडमिशन नर्सरी या एलकेजी में करवाया जाता है. एडमिशन से पहले एक बार आई टेस्ट करवा सकते हैं. इसके अलावा हर दूसरे साल बच्चे की आंखों को टेस्ट करवाना अच्छा रहता है जिससे आंखों की कोई दिक्कत हो या आंखे कमजोर पड़ने लगें तो शुरूआती दौर में ही पता लगाया जा सके और जरूरी सावधानियां अपनाई जा सकें. निम्न कुछ टिप्स हैं जिनसे आप अपने बच्चों की आंखों का ध्यान रख सकेंगे. 

  • बच्चों को खाने में ऐसी चीजें दें जो आंखों के लिए फायदेमंद होती हैं. हरी पत्तेदार सब्जियां जैसे केल, पालक (spinach) और ब्रोकोली बच्चों को खिलाएं. इसके अलावा ओमेगा-3 फैटी एसिड्स वाली मछली और गाजर आदि भी आंखों के लिए अच्छे होते हैं. 
  • बच्चों को कहें कि बार-बार अपनी आंखें रगड़ते ना रहें और आंखों में खुजली या जलन महसूस हो तो ठंडे पानी का छिड़काव करें. 
  • बच्चे की आंखे कमजोर पड़ने लगी हैं तो उसे आंखों की कुछ एक्सरसाइज भी कराई जा सकती हैं. 
  • इसके अलावा नुकीली चीजों को आंखों से दूर रखना, उंगली ना धंसाना जैसी आदतें सिखाएं. 
  • आंखों की सफाई भी बच्चों को सिखानी चाहिए. आंखों में गंदगी जमी रहे तो उसे पानी और रुई से किस तरह साफ किया जाए सिखाएं. 
  • टीवी देखने, पढ़ने, मोबाइल या कंप्यूटर का सीमित समय निर्धारित करें. 

इस छोटी सी बच्ची की देशभक्ति देख आप भी हो जाएंगे हैरान, जिसने सुना ताली बजाने पर हो गया मजबूर 

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.

'सनम बेवफा' और 'सौतन' जैसी फिल्मों के निर्देशक सावन कुमार टाक का निधन

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
बच्चों को सफर के दौरान आती है उल्टी तो अपने साथ जरूर रखें ये चीजें, खिलाते ही जी मितलाना हो जाएगा बंद 
बच्चों की आंखें लापरवाही बरतने पर हो सकती हैं कमजोर, जानिए किस उम्र से शुरू कर देना चाहिए Eye Checkup करवाना 
बच्चों की गलतियों पर उन्हें फटकारने की जगह अपनाएं Time Out टेक्नीक, जानिए पेरेंटिंग की इस टेक्नीक के फायदे
Next Article
बच्चों की गलतियों पर उन्हें फटकारने की जगह अपनाएं Time Out टेक्नीक, जानिए पेरेंटिंग की इस टेक्नीक के फायदे
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;