पद्मश्री डॉक्टर केके अग्रवाल का कोविड से निधन, अस्पताल के बेड से भी लाखों लोगों की ऐसे करते रहे मदद

देश में मेडिकल सेक्टर में बड़ा नाम और पद्मश्री से सम्मानित डॉक्टर केके अग्रवाल का सोमवार की रात को कोविड-19 से निधन हो गया. वो कई दिनों से कोविड से पीड़ित थे और पिछले कुछ दिनों से वेंटिलेटर सपोर्ट पर थे.

नई दिल्ली:

देश में मेडिकल सेक्टर में बड़ा नाम और पद्मश्री से सम्मानित डॉक्टर केके अग्रवाल का 62 साल की उम्र में सोमवार की रात को कोविड-19 से निधन हो गया. वो इंडियन मेडिकल असोसिएशन के चीफ रह चुके थे. उनके परिवार ने जानकारी दी कि वो कई दिनों से कोविड से पीड़ित थे और पिछले कुछ दिनों से वेंटिलेटर सपोर्ट पर थे.

उनके ट्विटर अकाउंट की ओर से एक आधिकारिक बयान जारी कर उनके निधन की जानकारी दी गई. इसके मुताबिक, उनका निधन 'कोविड से लंबी लड़ाई के बाद' सोमवार को रात 11.30 बजे के आसपास हुआ.

स्टेटमेंट उन्हें श्रद्धांजलि देते हुए कहा गया कि 'जबसे वो डॉक्टर बने, तब से उन्होंने अपनी जिंदगी जनता के कल्याण और स्वास्थ्य को लेकर जागरूकता फैलाने में लगाई है. महामारी के दौर में भी वो लगातार लोगों को जागरूक करने की कोशिशें करते रहे. अपने वीडियो और शैक्षणिक कार्यक्रमों के जरिए वो लाखों लोगों तक पहुंचने में कामयाब रहे और अनगिनत जिंदगियां बचाईं.'

50 डॉक्टरों ने एक दिन में कोरोना से गंवाई जान,दूसरी लहर में चिकित्सकों पर बरपा कहर


डॉक्टर अग्रवाल एक कॉर्डियोलॉजिस्ट थे और हार्ट केयर फाउंडेशन ऑफ इंडिया के प्रमुख थे. पिछले साल महामारी की शुरुआत से ही वो कोरोनावायरस को लेकर लगातार लोगों को जागरूक कर रहे थे. उनके परिवार ने लिखा कि 'वो चाहते थे कि उनके जाने पर दुख नहीं, उनकी जिंदगी का जश्न मनाया जाए.'

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


डॉक्टर अग्रवाल को साल 2010 में देश के सर्वोच्च सम्मानों में से एक पद्मश्री से सम्मानित किया गया था.