हाथी ने बस पर कर दिया Attack, तो ड्राइवर ने ऐसे शांत किया हाथी का गुस्सा, लोग बोले- इसको कहते हैं दिमाग से काम लेना

सोशल मीडियो पर एक हाथी का वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें उसने लोगों से भरी एक बस पर हमला कर दिया. इस दौरान बस के ड्राइवर ने समझदारी दिखाई और हाथी के गुस्से को शांत कर दिया. जिसके बाद अब लोग इस ड्राइवर के दिमाग की तारीफ कर रहे हैं.

हाथी ने बस पर कर दिया Attack, तो ड्राइवर ने ऐसे शांत किया हाथी का गुस्सा, लोग बोले- इसको कहते हैं दिमाग से काम लेना

हाथी ने बस पर कर दिया Attack, तो ड्राइवर ने ऐसे शांत किया हाथी का गुस्सा

लोगों को हाथियों के मजेदार वीडियो देखना काफी पसंद होता है. लेकिन कई बार हाथी इंसानों के लिए खतरनाक साबित हो जाते हैं. सोशल मीडियो पर एक हाथी का ऐसा ही वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें उसने लोगों से भरी एक बस पर हमला कर दिया. इस दौरान बस के ड्राइवर ने समझदारी दिखाई और हाथी के गुस्से को शांत कर दिया. जिसके बाद अब लोग इस ड्राइवर के दिमाग की तारीफ कर रहे हैं. ये वीडियो सोशल मीडिया पर अब तेजी से वायरल हो रहा है.

वायरल हो रहे इस वीडियो को आईएफएस अधिकारी सुप्रिया साहू ने 25 सितंबर को ट्विटर पर शेयर किया था. उन्होंने बताया कि ये घटना नीलगिरि की है. जहां एक बस ड्राइवर ने बस पर हमला करने वाले गुस्साए हाथी से डरने और परेशान होने की बजाए दिमाग से काम लेते हुए हाथी के गुस्से को शांत किया और यात्रियों की सुरक्षा की. इस बस ड्राइवर की समझदारी देखते हुए इसकी जितनी तारीफ की जाए वो भी कम है.

देखें Video:


वीडियो को कैप्शन में सुप्रिया साहू ने लिखा है, नीलगिरि के इस सरकारी बस ड्राइवर का दिल से सम्मान करती हूं. उसने तब भी अपना आपा नहीं खोया जब हाथी ने ज़ोरदार हमला कर बस का शीशा तोड़ डाला. आज सुबह की इस घटना में उसने यात्रियों को सुरक्षित रहने में मदद की. तभी तो कहा जाता है कि शांत दिमाग कमाल करता है. सोशल मीडिया पर इस वीडियो को अबतक 68 हजार से ज्यादा बार देखा जा चुका है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


1 मिनट के इस वीडियो में आप देख सकते हैं कि जैसे ही ड्राइवर हाथी को सामने देखता है वो बस को बैक करके एक किनारे खड़ा कर देता है. लेकिन, हाथी बस की पीछे आता है और बस पर हमला कर उकी विंडशील्ड को तोड़ देता है. बस में बैठे सभी यात्री घबरा जाते हैं. लेकिव, ड्राइवर हिम्मत से काम लेता है और अपनी सीट से उठकर बाकी यात्रियों के साथ बस में पीछे की ओर चला जाता है. ताकि हाथी लोगों को न देख पाए और शांत होकर वापस चला जाए.