डबल मर्डर? जानिए क्‍या है गोली चलाने वाले पुलिस अधिकारी के इस वायरल वीडियो की सच्‍चाई..

राहुल श्रीवास्‍तव ने अपने ट्वीट में लिखा है " वीड‍ियो को लेकर सवाल भी उठ रहे हैं. वेरिफिकेशन के बाद एक वेबसीरीज का शॉट पाया गया है और इसे करनाल हरियाणा के फ्रेंड्स कैफे के बाहर फिल्‍माया गया है.

डबल मर्डर? जानिए क्‍या है गोली चलाने वाले पुलिस अधिकारी के इस वायरल वीडियो की सच्‍चाई..

सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बना यह वीडियो 'रियल' नहीं है

नई दिल्ली:

एक पुलिस अधिकारी के की ओर से जीरो प्‍वॉइंट रेंज से एक शख्‍स को शूट करने और उसकी फ्रेंड के रोने से संबंधित वीडियो हर कहीं चर्चा का विषय बना हुआ है. यूपी पुलिस के एक अधिकारी ने 'फैक्‍ट चेक' के बाद खुलासा किया है कि 'डबल मर्डर' का यह वीडियो दरअसल वेब सीरीज का एक दृश्‍य है. राज्‍य के एंटी टेरेरिज्‍म स्‍क्‍वॉड के एडीशनल सुपरिंटेंडेंट राहुल श्रीवास्‍तव ने अपने ट्विटर अकाउंट पर वीडियो शेयर करते हुए बताया है कि इस वीडियो के चलते काफी भ्रम की स्थिति रही और लोगों की ओर से इस बारे में काफी सवाल पूछे गए. श्रीवास्‍तव ने बताया कि वैरिफिकेशन के बाद यह पाया गया है कि यह एक वेब सीरीज का सीन है और इसे हरियाणा के करनाल में एक कैफे के बाहर फिल्‍माया गया है.


राहुल श्रीवास्‍तव ने अपने ट्वीट में लिखा है "#FactCheck-एक रेस्‍टोरेंट के बाहर पुलिस अधिकारी की ओर से किए गए 'मर्डर' का वीडियो सोमवार सुबह से सोशल मीडिया पर चल रहा है. इसे लेकर भ्रम है और सवाल भी उठ रहे हैं. वेरिफिकेशन के बाद एक वेबसीरीज का शॉट पाया गया है और इसे करनाल हरियाणा के फ्रेंड्स कैफे के बाहर फिल्‍माया गया है.    

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


वीडियो में देखा जा सकता है कि एक युवक और पुलिस अधिकारी के बीच झगड़ा होता है. पहले युवक, पुलिस अधिकारी को धक्‍का देता है, बाद में पुलिस अधिकारी, इस युवक को धक्‍का देता हैं और गन निकालकर उस पर गोली चला देता है. वीडियो में महिला मित्र, जमीन पर धराशायी युवक के नजदीक बैठक गुस्‍से में चिल्‍लाती और रोती हुई नजर आती है. बाद में पुलिस अधिकारी, इस युवक की महिला मित्र को भी गोली मार देता है. वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. यह जानकारी नहीं दी जा रही है कि यह वास्‍तविक नहीं है और पुलिस अधिकारी व विक्टिम 'एक्‍टर' हैं. श्रीवास्‍तव के ट्वीट को कुछ ही घंटों में बड़ी संख्‍या में लोगों ने लाइक किया है. कई ट्विटर यूजर्स ने कमेंट करते हुए यह भी लिखा है कि वीडियो पुलिस की खराब छवि पेश करता है. कुछ ने यह भी कहा कि ऐसे वीडियो सर्कुलेट नहीं किए जाने चाहिए और इस तरह की वेबसीरीज पर प्रतिबंध लगाया जाना चाहिए. यूपी पुलिस ने भी एक ट्वीट करके साफ किया है कि यह वीडियो 'असली' नहीं है.