CBSE Class 10 Hindi Exam: हिंदी कोर्स बी की भाषा ने किया परेशान, कठिन शब्दों में उलझ गए छात्र

CBSE Class 10 Hindi Paper Analysis: सीबीएसई कक्षा 10वीं हिंदी बी विषय के पेपर का विश्लेषण करने वाले कई टीचरों ने भी ये बात मानी कि पेपर में कठिन शब्दों का प्रयोग किया गया था.

CBSE Class 10 Hindi Exam: हिंदी कोर्स बी की भाषा ने किया परेशान, कठिन शब्दों में उलझ गए छात्र

सीबीएसई कक्षा 10वीं के हिंदी कोर्स बी के पेपर की भाषा थी कठिन

नई दिल्ली:

CBSE Class 10 Hindi Paper Analysis: केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) कक्षा 10वीं का कल हिंदी कोर्स ए और हिंदी कोर्स बी का एग्जाम था. जो कि कुल 40 अंकों का था. हिंदी कोर्स बी का पेपर कई छात्रों को थोड़ा सा मुश्किल लगा है. ये पेपर देने वाले छात्रों का कहना है कि प्रश्नों में भाषा और शब्दों का उपयोग काफी कठिन किया गया था. जिसके कारण उन्हें प्रश्न समझने में खासा दिक्कत हो रही थी. सीबीएसई कक्षा 10वीं हिंदी बी विषय (Hindi Course B language) के पेपर का विश्लेषण (CBSE Class 10 Hindi Paper Analysis) करने वाले कई टीचरों ने भी ये बात मानी कि पेपर में काफी कठिन शब्दों का प्रयोग किया गया था.

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड हिंदी पाठ्यक्रम ए का पेपर छात्रों को संतुलित लगा. वहीं जिन छात्रों ने हिंदी पाठ्यक्रम बी (Class 10th Hindi B Subject) का पेपर दिया. उन्हें थोड़ी सी कठिनाई लगी. केन्द्रीय विद्यालय के छात्र हरीश नेगी ने कहा कि पाठ्यक्रम-बी के प्रश्नपत्र में कुछ ऐसे शब्दों का इस्तेमाल किया गया था. जिनका मतलब उन्हें नहीं पता था. हरीश के अनुसार अगर मैं प्रश्न को समझ नहीं पाया, तो मैं कैसे उत्तर दूंगा. आजकल ऐसे हिंदी शब्दों का इस्तेमाल कौन करता है, क्या हम स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों के छात्र हैं?

ब्रेन इंटरनेशनल स्कूल की प्रिंसिपल सीमा बहल ने पेपर का विश्लेषण करने के बाद कहा कि एक औसत बच्चे के लिए पेपर की भाषा थोड़ी मुश्किली थी. कुल मिलाकर पेपर का कठिनाई स्तर मध्यम था, सेक्शन बी स्कोरिंग था, लेकिन मुश्किल भी था.


ये भी पढ़ें- CBSE Term-1 Exam: परीक्षा के बीच बोर्ड ने किया OMR शीट में ये बड़ा बदलाव, पढ़ें पूरी खबर

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


माउंट आबू पब्लिक स्कूल की टीजीटी हिंदी की टीचर कविता नागी ने हिंदी पाठ्यक्रम बी पेपर की समीक्षा की और कहा कि सेक्शन ए में, दो प्रश्न थोड़े कठिन थे. क्योंकि जिन शब्दों का और भाषा का प्रयोग किया गया था वो कठिन थी. वहीं सेक्शन बी (व्याकरण) भाग मुश्किल था. लेकिन स्कोरिंग था.