एक और बिजनेस फैमिली में छिड़ी जंग, किर्लोस्कर भाइयों के बीच '130 साल पुरानी विरासत' को लेकर झगड़ा

किर्लोस्कर ब्रदर्स लिमिटेड के संजय किर्लोस्कर की अगुवाई वाली कंपनी ने आरोप लगाया है कि उनके भाइयों अतुल और राहुल के तहत आने वाली चार कंपनियां उसकी 130 साल की विरासत को ‘छीनने’ और जनता को गुमराह करने का प्रयास कर रही हैं.

एक और बिजनेस फैमिली में छिड़ी जंग, किर्लोस्कर भाइयों के बीच '130 साल पुरानी विरासत' को लेकर झगड़ा

Kirloskar Brothers Limited कंपनी में तीनों भाइयों के बीच विवाद.

नई दिल्ली:

संजय किर्लोस्कर की अगुवाई वाली किर्लोस्कर ब्रदर्स लि. (Kirloskar Brothers Limited) ने मंगलवार को आरोप लगाया कि उनके भाइयों अतुल और राहुल के तहत आने वाली चार कंपनियां उसकी 130 साल की विरासत को ‘छीनने' (Kirloskar Family Feud) और जनता को गुमराह करने का प्रयास कर रही है. हालांकि, दूसरे पक्ष ने इन आरोपों को नकार दिया है.

परिवार में विवाद गहराने के बीच केबीएल ने बाजार नियामक भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) को लिखे पत्र में दावा किया है कि किर्लोस्कर आयल इंजंस (केओईएल), किर्लोस्कर इंडस्ट्रीज लि. (केआईएल), किर्लोस्कर न्यूमैटिक कंपनी (केपीसीएल) और किर्लोस्कर फेरस इंडस्ट्रीज लि. (केएफआईएल) ने केबीएल की विरासत को छीनने या दबाने का प्रयास किया है.

पत्र में कहा गया है कि इसके अलावा उन्होंने केबीएल की विरासत को अपनी विरासत के रूप में दिखाने का प्रयास किया है. इस बारे में संपर्क करने पर किर्लोस्कर इंडस्ट्रीज लि. के प्रवक्ता ने कहा कि केबीएल के सेबी को पत्र में कई प्रकार की तथ्यात्मक गलतियां हैं. प्रवक्ता ने कहा कि पूरी विज्ञप्ति में केबीएल का जिक्र नहीं किया गया है. किर्लोस्कर ब्रदर्स की विरासत को छीनने का प्रयास तो दूर की बात है.

सत्ता में आने के 15 दिनों के भीतर ही ममता बनर्जी सरकार ने वेदांता ग्रुप को निवेश के लिए किया था संपर्क


इससे पहले 16 जुलाई को अतुल तथा राहुल किर्लोस्कर की अगुवाई वाली पांच कंपनियों ने अपने संबंधित कारोबार के लिए नए सिरे से प्रक्रिया शुरू करने की घोषणा की थी. इन कंपनियों के लिए नए ब्रांड पहचान तथा रंगों की घोषणा की गई थी और साथ नया किर्लोस्कर का लोगो भी अपनाया गया था. इस घोषणा के समय कहा गया था कि ये रंग 130 बरस पुराने नाम की विरासत को दर्शाते हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


केबीएल ने इसी पर आपत्ति जताते हुए सेबी को पत्र लिखा है. पत्र में कहा गया है कि केओईएल,केआईएल, केपीसीएल तथा केएफआईएल की स्थापना क्रमश: 2009, 1978, 1974 और 1991 में हुई है और उनकी 130 साल पुरानी विरासत नहीं है.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)