NDTV Khabar

2018 में इन स्टार्ट-अप्स ने हासिल किया 'यूनिकॉर्न' का खिताब

Updated: Dec 28, 2018 14:09 IST

साल 2018 में कई स्टार्ट-अप का उदय हुआ तो कई ने अपने बिजनेस में काफी विस्तार किया. बॉडी नैसकॉम के मुताबिक इस साल आठ स्टार्ट-अप्स जिसमें हॉस्पिटैलिटी चेन ओयो रूम्स से लेकर फूड डिलीवरी सर्विसेज स्विगी और जोमाटो तक ने कम से कम 1 बिलियन डॉलर का वैल्युएशन हासिल किया. स्टार्ट-अप के अलावा (सितंबर तक लगभग 1200) इस साल इसके जरिए लगभग 40,000 नौकरियां पैदा हुईं. नैसकॉम के मुताबिक 7200-7500 फर्मों में कुल नौकरियों की संख्या बढ़कर 1.6 से 1.7 लाख हो गई. यूनिकॉर्न वो कंपनियां हैं जिनका स्टॉक मार्केट्स में एंट्री किए बिना कम से कम 1 बिलियन का वैल्यूएशन होता है. यहां कुछ ऐसे स्टार्ट-अप हैं जिन्होंने साल 2018 में यूनिकॉर्न का खिताब हासिल किया.

2018 में इन स्टार्ट-अप्स ने हासिल किया 'यूनिकॉर्न' का खिताब

साल 2013 में शुरू हुई ओयो रूम्स गुरुग्राम स्थित एक हॉस्पिटैलिटी कंपनी है. ओयो रूम्स को सितंबर 2018 में निवेशकों के एक संघ से 1 बिलियन की फंडिंग प्राप्त हुई. कंपनी की अनुमानित पूंजी 5 बिलियन की है.

2018 में इन स्टार्ट-अप्स ने हासिल किया 'यूनिकॉर्न' का खिताब

गुड़गांव स्थित ज़ोमैटो एक खाद्य वितरण और रेस्त्रां सर्च प्रोगाम है. 2008 में कंपनी की स्थापना के बाद से इसका व्यापार 600 मिलियन से ज्यादा बढ़ा है.

2018 में इन स्टार्ट-अप्स ने हासिल किया 'यूनिकॉर्न' का खिताब

बेंगलुरु स्थित स्विगी ने 2014 में शुरुआत की और उसके बाद अब तक कुल 1.26 बिलियन डॉलर (लगभग 8,800 करोड़ रुपये) जुटाए है.

2018 में इन स्टार्ट-अप्स ने हासिल किया 'यूनिकॉर्न' का खिताब

बायजू बेंगलुरु में स्थित एक ऑनलाइन ट्यूशन प्लेटफॉर्म है. आज कंपनी की वैल्यू बढ़कर 26 हजार करोड़ रुपए के आसपास पहुंच गई है.

2018 में इन स्टार्ट-अप्स ने हासिल किया 'यूनिकॉर्न' का खिताब

चेन्नई आधारित फ्रेशवर्क्स एक व्यवसायिक सॉफ्टवेयर कंपनी है.

2018 में इन स्टार्ट-अप्स ने हासिल किया 'यूनिकॉर्न' का खिताब

नैसकॉम के मुताबिक 2018 में वैल्यूएशन के मामले में 1 बिलियन क्लब में शामिल होने वाले अन्य स्टार्ट-अप्स में रिटेलर मार्केटप्लेस उड़ान, ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म पेटीएम मॉल और ऑनलाइन इंश्योरेंस कंपनी पॉलिसीबाजार थे.

Advertisement

 
 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com