Ayurveda से जानें सेहत के लिए क्या है ज्यादा फायदेमंद, कच्चा या भिगोया बादाम

Ayurveda Tips: कच्चा या भीगा हुआ बादाम, सेहत की दृष्टि से क्या खाना आपके लिए ज्यादा फायदेमंद है और आयुर्वेद की क्या सलाह है, आइये जानें.

Ayurveda से जानें सेहत के लिए क्या है ज्यादा फायदेमंद, कच्चा या भिगोया बादाम

Almonds: भीगे और कच्चे बादाम में से आपको वही खाना चाहिए जिसमें पोषण की मात्रा ज्यादा है.

Healthy Tips: बादाम खाने में जितने स्वादिष्ट होते हैं उतने ही पोषण से भरपूर भी होते हैं. सुबह-शाम इनका सेवन कर लिया जाये तो ये दिमाग की सेहत को बेहतर कर देते हैं. इतना ही नहीं इनमें विटामिन-ई, डाइट्री फाइबर, ओमेगा-3 फैटी एसिड्द और प्रोटीन भी भरपूर मात्रा में पाया जाता है. इतने पोषणयुक्त होने के चलते ही बादाम (Almonds) को सुपरफूड कहा गया है. लेकिन, क्या आप जानते हैं इनके सेवन का सही तरीका क्या है और आयुर्वेद (Ayurveda) इन्हें कच्चा या भिगो कर (Raw vs Soaked Almonds) खाने के मसले पर क्या कहता है?

आयुर्वेद के अनुसार, बादाम का पूरा पोषण प्राप्त करने के लिए आपको इन्हें भिगो कर खाना चाहिए. हां, आपने बिलकुल सही सुना. भीगे हुए बादाम (Soaked Almonds) सेहत के लिए ज्यादा फायदेमंद होते हैं. इसका पहला कारण तो यह है कि बादाम के छिलके में टैनिन होता है जो बादाम के असली पोषण को सोख लेता है. भीगे हुए बादाम खाते समय उनके छिलके को उतार लिया जाता है जिससे शरीर को उसका पूरा पोषण मिलता है. भीगे बादाम खाने के और भी कई फायदे हैं, आइए जानें.

भीगे बादाम खाने के फायदे | Benefits of Eating Soaked Almonds

  • बादाम में एंटी-ऑक्सीडेंट्स की अच्छी मात्रा होती है जो सेल्स को डैमेज होने से बचाते हैं और सूजन को कम करते हैं.
  • भीगे हुए बादाम एंजाइम्स रिलीज करते हैं जो पाचन संबंधी परेशानियों से निजात दिलाने में बेहद फायदेमंद हैं.
  • इसमें मौजूद मोनुसेचूरेटेड फैट्स पेट भरा होने का एहसास देते हैं जिससे जल्दी भूख नहीं लगती और फूड कंजप्शन कम होता है. इससे वजन घटाने में मदद मिलती है.
  • बादाम बैड कोलेस्ट्रॉल को कम करता है और अच्छे कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाता है जिससे दिल की सेहत अच्छी रहती है.
  • दिमाग की सेहत पर बेहद असरदार बादाम से याददाश्त भी तेज होती है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.