हर खिलाड़ी को BMW गाड़ी, 1 करोड़ कैश, अगले तीन साल में टीम बनी चैंपियन को बोर्ड देगा इनाम

हैदराबाद ने 1937-38 और 1986-87 सीजन में रणजी ट्रॉफी खिताब जीते, लेकिन पिछले सीजन में उन्हें प्लेट डिवीजन में शिफ्ट कर दिया गया, जब वे सात लीग-चरण खेलों में केवल एक जीत के साथ एलीट ग्रुप बी अंक तालिका में सबसे नीचे रहे.

हर खिलाड़ी को BMW गाड़ी, 1 करोड़ कैश, अगले तीन साल में टीम बनी चैंपियन को बोर्ड देगा इनाम

हर खिलाड़ी को BMW गाड़ी, 1 करोड़ कैश, अगले तीन साल में टीम बनी चैंपियन को बोर्ड देगा इनाम

हैदराबाद ने मंगलवार को राजीव गांधी स्टेडियम में रणजी ट्रॉफी प्लेट ग्रुप फाइनल में मेघालय के खिलाफ 5 विकेट की जीत दर्ज की. हैदराबाद के लिए दूसरी पारी में तिलक वर्मा और अनुभवी बल्लेबाज गहलौत राहुल सिंह ने अर्धशतक जमाकर अपनी टीम की जीत में अहम भूमिका निभाई. हैदराबाद और मेघालय ने फाइनल में प्रवेश कर अगले सीजन के लिए एलीट ग्रुप में जगह बना ली है. हैदराबाद की जीत के बाद राज्य क्रिकेट संघ के अध्यक्ष ए. जगन मोहन राव ने टीम के लिए नकद पुरस्कारों का ऐलान किया. रणजी ट्रॉफी प्लेट ग्रुप चैंपियनशिप फाइनल जीतने वाली हैदराबाद टीम को 10 लाख रुपये और शानदार प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ी नितेश रेड्डी, बाएं हाथ के स्पिनर तनय त्यागराजन, विकेटकीपर बल्लेबाज प्रगनय रेड्डी और कप्तान तिलक को 50,000 रुपये देने का ऐलान किया.

हालांकि, पुरस्कारों का सिलसिला यहीं खत्म नहीं हुआ और एसोसिएशन के प्रमुख जगन मोहन राव अर्सिहनापल्ली ने अगले तीन सालों में रणजी ट्रॉफी खिताब जीतने पर प्रत्येक खिलाड़ी को बीएमडब्ल्यू कार देने का भी वादा किया है. साथ ही पूरी टीम को 1 करोड़ रुपये की पुरस्कार राशि देने का भी वादा किया गया है.


न्यू इंडियन एक्सप्रेस से अनुसार, जगन मोहन राव ने कहा,"घोषणा का उद्देश्य खिलाड़ियों और अन्य हितधारकों को प्रेरित करना था. अगले साल लक्ष्य हासिल करना वास्तविक रूप से संभव नहीं है, इसलिए मैंने उन्हें तीन सीज़न दिए."

जगन मोहन राव ने आगे कहा,"रविवार को हमारी पहली वार्षिक आम बैठक हुई जिसमें हमने आगे के रास्ते पर चर्चा की. फिलहाल जिमखाना मैदान में हैदराबाद क्रिकेट अकादमी है. मैंने शहर के चार अलग-अलग हिस्सों में चार सैटेलाइट अकादमियों का प्रस्ताव रखा है ताकि उभरते क्रिकेटरों को उनके इलाकों के पास अपेक्षित सुविधाएं दी जा सकें. एचसीए के अंतर्गत 10 जिले आते हैं, इसलिए हमने प्रतिभाओं की पहचान करने और उन्हें निखारने के लिए प्रत्येक जिला मुख्यालय पर एक मिनी स्टेडियम की योजना बनाई है. प्रतिष्ठित मोइन-उद-दौला टूर्नामेंट को भी नया रूप दिया जाएगा."

हैदराबाद ने 1937-38 और 1986-87 सीजन में रणजी ट्रॉफी खिताब जीते, लेकिन पिछले सीजन में उन्हें प्लेट डिवीजन में शिफ्ट कर दिया गया, जब वे सात लीग-चरण खेलों में केवल एक जीत के साथ एलीट ग्रुप बी अंक तालिका में सबसे नीचे रहे.

यह भी पढ़ें: बेटे को IPL से मिला करोड़ो का कॉन्ट्रैक्ट, पिता अभी भी कर रहे एयरपोर्ट पर सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

यह भी पढ़ें: IPL 2024: आखिर कब होगा आईपीएल के बचे हुए शेड्यूल का ऐलान, BCCI ने दिया ये अपडेट